भारत समर्थक नेपाल कांग्रेस का फैसला, नए मैप के पक्ष में करेगा वोट

भारत समर्थक नेपाल कांग्रेस का फैसला, नए मैप के पक्ष में करेगा वोट
नेपाल को बर्बादी की तरफ ले जा रहे हैं पीएम ओली

भारत ने नेपाल के कदम कड़ी प्रतिक्रिया जताई थी और कहा था कि 'कृत्रिम रूप से क्षेत्र के विस्तार' को स्वीकार नहीं किया जाएगा. भारत ने नेपाल से कहा था कि इस प्रकार “मानचित्र के द्वारा अनुचित दावा” न किया जाए.

  • Share this:
काठमांडू. नेपाल (Nepal) की सरकार द्वारा संसद में प्रस्तुत किए गए देश के नए राजनीतिक मानचित्र (New Political Map) से संबंधित विधेयक पर मुख्य विपक्षी दल नेपाली कांग्रेस ने शनिवार को चर्चा की और इसके पक्ष में मत देने का फैसला किया है. इस संबंध में सानेपा में पार्टी मुख्यालय में केंद्रीय कार्यकारिणी समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में यह फैसला किया गया. ‘काठमांडू पोस्ट’ ने सीडब्ल्यूसी सदस्य मिन बिश्वकर्मा के हवाले से कहा है, 'इस विधेयक को जब मतदान के लिए प्रस्तुत किया जाएगा, पार्टी इसका समर्थन करेगी .'

नेपाली कांग्रेस (Nepali Congress) के सूत्रों के मुताबिक सीडब्ल्यूसी की बैठक में रखा गया प्रस्ताव उस संविधान संशोधन विधेयक से संबंधित है, जिसमें संविधान के अनुच्छेद 9 (दो) से संबंधित तीसरी अनुसूची में शामिल राजनीतिक मानचित्र में संशोधन करने का प्रावधान किया गया है.

सीडब्ल्यूसी की बैठक में इस पर निर्णय लेना था
कानून, न्याय और संसदीय कार्य मंत्री शिवमाया तुम्बाहांगफे को बुधवार को विधेयक को संसद में प्रस्तुत करना था. हालांकि, विधेयक को नेपाली कांग्रेस के अनुरोध पर सदन की कार्यवाही की सूची से हटा दिया गया था, क्योंकि पार्टी को सीडब्ल्यूसी की बैठक में इस पर निर्णय लेना था.
नेपाली संविधान में संशोधन करने के लिए संसद में दो तिहाई मतों का होना आवश्यक है. भारत के साथ सीमा विवाद के बीच नेपाल ने हाल ही में देश का संशोधित राजनीतिक और प्रशासनिक मानचित्र जारी किया था जिसमें रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण लिपुलेख, कालापानी और लिम्पियाधुरा क्षेत्रों पर दावा किया गया था.



भारत ने इस कदम पर कड़ी प्रतिक्रिया जताई थी और कहा था कि 'कृत्रिम रूप से क्षेत्र के विस्तार' को स्वीकार नहीं किया जाएगा.भारत ने नेपाल ने कहा था कि इस प्रकार “मानचित्र के द्वारा अनुचित दावा” न किया जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading