लाइव टीवी

अयोध्या: नेपाल में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर लोगों ने जलाए दिये, होगी विशेष आरती

भाषा
Updated: November 10, 2019, 11:48 PM IST
अयोध्या: नेपाल में सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर लोगों ने जलाए दिये, होगी विशेष आरती
नेपाल के हिंदू समुदाय ने अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है.

नेपाल (Nepal) की राजधानी काठमांडू (Kathmandu) से 250 किलोमीटर दक्षिण में जनकपुर धाम के लोगों ने ऐतिहासिक जानकी मंदिर के परिसर में मोमबत्तियां और परंपरागत दीपक जलाकर अयोध्या मामले (Ayodhya Case) में भारतीय सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के फैसले का जश्न मनाया.

  • भाषा
  • Last Updated: November 10, 2019, 11:48 PM IST
  • Share this:
काठमांडू. नेपाल (Nepal) में हिंदू समुदाय ने अयोध्या मामले (Ayodhya Case) में भारतीय उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत किया है और मोमबत्तियां जलाकर अपनी खुशी का इजहार किया. भारत के सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को सर्वसम्मति से दिये एक फैसले में अयोध्या (Ayodhya) में विवादित स्थल पर राम मंदिर (Ram Mandir) के निर्माण का रास्ता साफ कर दिया और केंद्र सरकार को सुन्नी वक्फ बोर्ड (Sunni Waqf Board) को मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ का भूखंड आवंटित करने का निर्देश दिया.

यह भारत के इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण और बहुप्रतीक्षित निर्णयों में से एक है. प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई (Ranjan Gogoi) की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने एक सदी से अधिक पुराने विवाद का निपटारा किया.

लोगों ने इस तरह मनाया जश्न
काठमांडू से 250 किलोमीटर दक्षिण में जनकपुर धाम के लोगों ने ऐतिहासिक जानकी मंदिर के परिसर में मोमबत्तियां और परंपरागत दीपक जलाकर फैसले का जश्न मनाया. मंदिर के महंत राम रोशन दास ने जानकी मंदिर में और उसके आसपास सैकड़ों भक्तों को मिठाइयां बांटी. जनकपुर को भगवान राम की पत्नी सीता के जन्म स्थान के रूप में जाना जाता है.

महंत राम रोशन दास ने कहा कि इस फैसले ने दुनिया भर के करोड़ों हिंदुओं की भावनाओं का सम्मान किया है. यह उन सभी के पक्ष में एक ऐतिहासिक फैसला है जो सनातन धर्म को मानते हैं. सर्वोच्च अदालत के फैसले का जश्न मनाने के लिए हिंदू समुदाय के लोगों ने दक्षिण-पूर्व नेपाल के बीरगंज और राजबिराज में भी मोमबत्तियां जलायीं.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत
पशुपति विकास ट्रस्ट के पूर्व कोषाध्यक्ष और प्रांत संख्या 3 से सांसद नरोत्तम वैद्य ने कहा, ‘‘नेपाली हिंदू समुदाय फैसले को एक सकारात्मक कदम मानता है, और हम इस फैसले का स्वागत करता है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘इसने संवेदनशील धार्मिक मुद्दे को संतुलित और उचित तरीके से हल करने में मदद की है.’’
Loading...

इस बीच, हिंदू स्वयंसेवक संघ नेपाल ने कहा कि वह फैसले के उपलक्ष्य में पशुपतिनाथ मंदिर में विशेष बागमती गंगा आरती का आयोजन करेगा.

ये भी पढ़ें-
राम मंदिर के इंतजार में किया 27 साल उपवास, अब टूटेगा व्रत

अयोध्या में 2.77 एकड़ नहीं, बस 0.3 एकड़ जमीन को लेकर है सुप्रीम कोर्ट का फैसला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 10, 2019, 10:17 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...