कैबिनेट मीटिंग में मंत्रियों से बोले नेपाली PM ओली- तय कर लें, किसकी तरफ हैं आप

कैबिनेट मीटिंग में मंत्रियों से बोले नेपाली PM ओली- तय कर लें, किसकी तरफ हैं आप
नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली ने मंत्रियों से कहा- पार्टी टूट सकती है, तैयार रहें

प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली (KP Sharma Oli) और पूर्व पीएम पुष्प कमल दहल प्रचंड (Pushpa Kamal Dahal ‘Prachanda') के बीच जरी खींचतान में अब पार्टी में टूट होना तय नज़र आ रहा है. ओली ने कैबिनेट मीटिंग में मंत्रियों से स्पष्ट कहा कि किसी भी स्थिति के लिए तैयार रहना होगा और मंत्रियों-नेताओं को तय करना होगा कि वे किसकी तरफ हैं.

  • Share this:
काठमांडू. नेपाल (Nepal) की सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (NCP) के दो बड़े नेताओं प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली (KP Sharma Oli) और पूर्व पीएम पुष्प कमल दहल प्रचंड (Pushpa Kamal Dahal ‘Prachanda') के बीच जरी खींचतान में अब पार्टी में टूट होना तय नज़र आ रहा है. ओली ने कैबिनेट मीटिंग में मंत्रियों से स्पष्ट कहा कि किसी भी स्थिति के लिए तैयार रहना होगा और मंत्रियों-नेताओं को तय करना होगा कि वे किसकी तरफ हैं. ओली ने शनिवार शाम हुई कैबिनेट की आपात बैठक में अपने मंत्रियों से कहा कि वे साफ बताएं कि किसकी तरफ हैं? किसका समर्थन करेंगे? या उनकी सरकार के खिलाफ हैं, क्योंकि पार्टी और देश मुश्किल में हैं.

ओली ने यह संकेत भी दिया कि वे जल्द ही कोई बड़ा फैसला कर रहे हैं और उनकी पार्टी टूट की कगार पर है. बता दें कि ओली पर प्रधानमंत्री पद और पार्टी का अध्यक्ष पद छोड़ने का दबाव है. उनके सामने इन दोनों पदों को बचाने की चुनौती है. ओली ने कहा कि पार्टी के कुछ नेता उन्हें हटाने की कोशिश कर रहे हैं. इसके साथ ही ये लोग राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी के खिलाफ महाभियोग चलाने की साजिश रच रहे हैं, क्योंकि उन्होंने मेरा समर्थन किया था. भंडारी और ओली के बीच बहुत अच्छे राजनीतिक संबंध हैं.

ये भी पढ़ें: आखिर ब्रिटेन को हांगकांग से क्यों है इतना मतलब? 



ओली के समर्थन से, भंडारी 2015 के बाद से दो बार राष्ट्रपति बन चुकी हैं. 'माई रिपब्लिका' अखबार ने एक वरिष्ठ नेता के हवाले से कहा कि ओली ने अपने आधिकारिक आवास पर बुलाई गई मंत्रिमंडल की एक आपात बैठक में कैबिनेट मंत्रियों को बताया कि 'हमारी पार्टी के कुछ सदस्य राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी को भी पद से हटाने की कोशिश कर रहे हैं.' प्रधानमंत्री ने शनिवार को कहा, 'अब, मुझे प्रधानमंत्री और पार्टी अध्यक्ष पद से हटाने के लिये साजिशें रची जा रही हैं.' उन्होंने कहा कि वह ऐसा होने नहीं देंगे.
प्रचंड का समर्थन कर रहे बड़े नेता
प्रचंड ओली को प्रधानमंत्री पद से हटाने और पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने की मांग कर रहे हैं. दहल को माधव नेपाल और झालानाथ खनल समेत पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का समर्थन है. ओली और प्रचंड की पिछली बैठक शुक्रवार को हुई थी. इस मीटिंग में भी प्रचंड ने ओली के इस्तीफे की मांग दोहराई. हालांकि, बाद में उन्होंने इस दावे को खारिज किया और कहा कि उनके बीच इस्तीफे से इतर कुछ अन्य मुद्दों पर बात हुई. ओली ने पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष प्रचंड पर सरकार चलाने में असहयोग का आरोप लगाया जबकि प्रचंड ने ओली पर पार्टी में अधिपत्य स्थापित करने का आरोप लगाया है.

ये भी पढ़ें: ईरान-इजरायल के बीच हो रहा साइबर युद्ध क्यों खतरनाक माना जा रहा है? 

अखबार काठमांडू पोस्ट के मुताबिक, ओली की राष्ट्रपति पर महाभियोग चलाने की साजिश की टिप्पणी के बाद तीन पूर्व प्रधानमंत्री- पुष्प कमल दहल 'प्रचंड', माधव नेपाल और झालानाथ खनल- भंडारी से मिलने पहुंचे और स्पष्ट किया कि नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के नेताओं द्वारा उन्हें पद से हटाने की कोशिश करने संबंधी अफवाहें असत्य हैं. मंत्रिमंडल की बैठक के दौरान अपने रुख पर अड़े ओली ने कहा कि पार्टी की स्थायी समिति के फैसले को स्वीकार करने के लिये उन्हें बाध्य नहीं किया जा सकता.

 

भारत के खिलाफ आरोप लगाकर फंसे ओली!
प्रधानमंत्री ओली (68) ने पिछले हफ्ते दावा किया था कि उन्हें सत्ता से हटाने के लिये 'दूतावासों और होटलों' में विभिन्न तरह की गतिविधियां हो रही हैं. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार द्वारा रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण तीन भारतीय क्षेत्रों- लिपुलेख,कालापानी और लिंपियाधुरा- को देश के नए राजनीतिक मानचित्र में शामिल किये जाने के बाद कुछ नेपाली नेता भी इस साजिश में शामिल हैं. पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि प्रचंड ने पिछले हफ्ते हुई स्थायी समिति की बैठक में कहा था कि प्रधानमंत्री द्वारा भारत और अपनी ही पार्टी के नेताओं के खिलाफ निराधार आरोप लगाना उचित नहीं है. प्रचंड पहले भी कई बार पार्टी और सरकार के बीच समन्वय की कमी का मुद्दा उठा चुके हैं और वह चाहते हैं कि पार्टी में ‘एक व्यक्ति, एक पद’ का सिद्धांत अपनाया जाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading