सऊदी के नए युवराज मो. बिन सलमान, कम उम्र में मिली बेहिसाब ताकत

Image Source: PTI
Image Source: PTI

सऊदी अरब के सुल्तान सलमान ने बुधवार को अपने भतीजे मुहम्मद बिन नायेफ को हटाकर अपने बेटे नए सुल्तान मुहम्मद बिन सलमान को उत्तराधिकारी बनाया है. इसका मतलब यह है कि अपने पिता के बाद अब प्रिंस सलमान सऊदी की गद्दी पर बैठेंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 22, 2017, 10:01 AM IST
  • Share this:
सऊदी अरब के सुल्तान सलमान ने बुधवार को अपने भतीजे मुहम्मद बिन नायेफ को हटाकर अपने बेटे मुहम्मद बिन सलमान को अपना उत्तराधिकारी बनाया है. इसका मतलब यह है कि अपने पिता के बाद अब प्रिंस सलमान सऊदी की गद्दी पर बैठेंगे.

इस फैसले ने 31 साल के मुहम्मद बिन सलमान इतनी ताकत से नवाज दिया है कि राजनयिकों ने उनका नाम 'मिस्टर एवरीथिंग' रख दिया है. सलमान उस वक्त सऊदी अरब के सबसे प्रभावी और मुख्य शख्स बन गए थे जब 2015 की शुरुआत में वो शासन में दूसरे नंबर पर आ गए थे. वह देश की 25 साल तक की आधी से ज्यादा स्थानीय युवा जनसंख्या की अपेक्षाओं का नेतृत्व करते हैं.

सरकारी संवाद समिति सऊदी प्रेस एजेंसी द्वारा जारी एक आधिकारिक आदेश में कहा गया है कि शाह सलमान ने प्रिंस मोहम्मद बिन नायेफ को युवराज और गृह मंत्री के पद से हटा दिया. साथ ही किंग सलमान द्वारा अपने 31 साल बेटे सलमान को उत्तराधिकारी बनाने के फैसले की जानकारी सार्वजनिक की गई.



पहले ही देश के उप प्रधानमंत्री
प्रिंस सलमान पहले से ही सऊदी अरब के उप प्रधानमंत्री हैं. साथ ही, वह सऊदी अरब के रक्षा मंत्री भी हैं. पश्चिमी देशों में नायेफ की छवि काफी अच्छी मानी जाती है. अल-कायदा की चुनौती से निपटने के लिए उन्होंने जो प्रयास किए, उनकी पश्चिमी देशों में काफी सराहना हुई थी.

नए युवराज मोहम्मद बिन सलमान पहले से ही बहुत प्रभावशाली स्थिति में थे. वह रक्षा मंत्री और देश की अर्थव्यवस्था को नया आकार देने का काम कर रही आथर्कि परिषद के प्रमुख का दायित्व निभा रहे हैं.

गद्दी मिलने की पहले से अटकलें
मोहम्मद बिन सलमान इससे पहले उप युवराज की भूमिका में भी थे और सऊदी शाही व्यवस्था के जानकार पहले से ही इसकी अटकलें लगा रहे थे कि शाह सलमान के शासनकाल में ही 31 साल के मोहम्मद को देश के दूसरे सबसे महत्वपूर्ण पद पर आसीन किया जा सकता है.

जनवरी 2015 में सलमान के शाह बनने से पहले नए युवराज बहुत ज्यादा चर्चित नहीं थे. शाह सलमान के युवराज रहने के दौरान मोहम्मद उनकी रॉयल कोर्ट के प्रभारी थे.

31 अगस्त, 1985 में जन्में मोहम्मद सलमान को उनके पिता ने शाह बनने के बाद एकाएक इतनी ताकत से नवाज दिया था कि बहुत सारे लोग खासकर शाही परिवार में ही बहुत सारे लोग हैरान रह गए. वह पड़ोसी येमन में सऊदी के नेतृत्च वाली सेना के दो साल तक रक्षा मंत्री भी रहे हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज