होम /न्यूज /दुनिया /

कितना खतरनाक है चीन में मिला नया वायरस लैंग्या, अब तक 35 बीमार, जानिए सबकुछ

कितना खतरनाक है चीन में मिला नया वायरस लैंग्या, अब तक 35 बीमार, जानिए सबकुछ

चीन में एक नया वायरस लैंग्या (Zoonotic Langya) मिला है, माना जा रहा है कि ये जानवरों से इंसानों में फैला है. (फोटो AP)

चीन में एक नया वायरस लैंग्या (Zoonotic Langya) मिला है, माना जा रहा है कि ये जानवरों से इंसानों में फैला है. (फोटो AP)

China News: चीन में एक नया वायरस लैंग्या (Zoonotic Langya) मिला है. इससे अब तक 35 लोग संक्रमित भी हो गए हैं. यह पूर्वी चीन में बुखार वाले रोगियों के गले से लिए गए सैंपल में पाया गया है.

हाइलाइट्स

चीन में एक नया वायरस लैंग्या (Zoonotic Langya) मिला है.
नए वायरस से अब तक 35 लोग संक्रमित पाए गए हैं.
पूर्वी चीन में बुखार वाले रोगियों के गले से लिए गए सैंपल में मिला नया वायरस

बीजिंग. चीन के वुहान से निकले कोरोना वायरस ने दुनिया भर में तबाही मचाई है. इस बीच चीन में एक नया वायरस लैंग्या (Zoonotic Langya) मिला है. नए वायरस ने लोगों की टेंशन बढ़ा दी है. इससे अब तक 35 लोग संक्रमित पाए गए हैं. ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक नए प्रकार के हेनिपावायरस लैंग्या से चीन के शेडोंग और हेनान प्रांतों में लोगों को संक्रमित पाया गया है. रिपोर्ट में कहा गया है कि हेनिपावायरस को Langya हेनिपावायरस, एलएवी भी कहा जाता है. यह पूर्वी चीन में बुखार वाले रोगियों के गले से लिए गए सैंपल में पाया गया है.

रिसर्च में भाग लेने वाले वैज्ञानिकों ने बताया कि नया खोजा गया हेनिपावायरस, जानवरों से इंसानों में आया हो सकता है. यह बुखार के मामलों से जुड़ा है. संक्रमित लोगों में बुखार, थकान, खांसी, जी मिचलाना और उल्टी सहित अन्य लक्षण होते हैं. रिपोर्ट में कहा गया है कि शेडोंग और हेनान में लैंग्या हेनिपा वायरस संक्रमण के 35 में से 26 मामलों में बुखार, चिड़चिड़ापन, खांसी, एनोरेक्सिया, मायलगिया, सिरदर्द और उल्टी जैसे लक्षण हैं. वर्तमान में हेनिपा वायरस के लिए कोई वैक्सीन या इलाज नहीं है और संक्रमितों के लिए एकमात्र इलाज सहायक देखभाल (supportive care) है. विशेषज्ञों का मानना है कि फिलहाल इससे घबराने की जरूरत नहीं है, लेकिन इसे हल्के में लेना भी ठीक नहीं होगा.

ड्यूक-एनयूएस मेडिकल स्कूल में संक्रामक रोगों के प्रोग्राम में प्रोफेसर वांग लिनफा ने नए वायरस को लेकर कहा कि लैंग्या हेनिपावायरस के मामलों को गौर से देखें तो यह अब तक बहुत घातक या गंभीर नहीं है. इसलिए इससे घबराने की जरूरत नहीं है. लेकिन हमें चेतावनी के तौर पर स्वीकार करना होगा, क्योंकि प्रकृति में मौजूद कई वायरस ऐसे हैं, जिन्होंने मानव को संक्रमित करने के साथ ही डरावने परिणाम दिए हैं. हमने देखा कि इनसे समूचा विश्व प्रभावित हुआ है.

Tags: China, Virus

अगली ख़बर