दक्षिण कोरिया ने बनाया इंसान की तरह दिखने वाला AI न्यूज एंकर, देखकर हैरान हो जाएंगे आप!

इस AI न्यूज एंकर को देखकर असली और नकली का फर्क भूल बैठेंगे आप!
इस AI न्यूज एंकर को देखकर असली और नकली का फर्क भूल बैठेंगे आप!

इस AI न्यूज एंकर (News Anchor) को कोरियाई न्यूज चैनल ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) प्रोडक्शन कंपनी मनी ब्रेन के साथ मिलकर बनाया है. ये दक्षिण कोरिया (South Korea) की पहली AI के माध्यम से चलने वाली न्यूज एंकर है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 20, 2020, 5:40 PM IST
  • Share this:
तकनीक के मामले में दक्षिण कोरिया (South Korea) ने पूरे विश्व में अपना लोहा मनवाया है. अब इस एशियाई देश ने तकनीक के क्षेत्र में एक और करिश्मा कर दिखाया है. साउथ कोरिया के एक टीवी चैनल ने देश की पहली आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) के माध्यम से चलने वाली न्यूज एंकर (News Anchor) को अपने दर्शकों के सामने पेश किया है. ये AI एंकर दक्षिण कोरिया की ही न्यूज एंकर किम जू-हा (Kim Ju-ha) का प्रतिबिंब है.

इस AI न्यूज एंकर को कोरियाई न्यूज चैनल ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस प्रोडक्शन कंपनी मनी ब्रेन के साथ मिलकर बनाया है. ये दक्षिण कोरिया की पहली AI के माध्यम से चलने वाली न्यूज एंकर है. इस AI न्यूज एंकर का सिर्फ चेहरा और आवाज ही किम की तरह नहीं है बल्कि ये किम के छोटे से छोटे हावभाव की भी नकल करती है. 6 नवंबर को न्यूज टेलिकास्ट के दौरान AI किम ने असली किम के साथ बातचीत भी की. इस बातचीत को सुनकर लोग हैरान हो गए क्योंकि दोनों का चेहरा और आवाज एक जैसे ही थे.

टेलिकास्ट के दौरान AI किम ने बताया कि उसे गहन अध्ययन के साथ बनाया गया और असली किम के वीडियो दिखाए गए जिससे वो उसके बोलने का तरीका और उसके हाव-भाव को सीख सके. AI किम ने बताया कि वो असली किम की तरह ही न्यूज पढ़ सकती है. न्यूज कंपनी ने अपने बयान में कहा कि AI न्यूज एंकर प्राकृतिक आपदा या आपात स्थिति के लिए कारगर साबित होगी. इस नई तकनीक के माध्यम से कंपनी श्रम और उत्पादन लागत में भी आसानी से कटौती कर सकती है.



कई एक्सपर्ट्स का मानना है कि AI न्यूज एंकर इंसान की जगह पूरी तरह से नहीं ले पाएंगे. सियोल के एक विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ने इस बारे में कहा कि टीवी पर AI एंकर को देखना कई लोगों को अजीब सा अनुभव दे सकता है जिसके कारण असली न्यूज एंकरों की नौकरी को ज्यादा खतरा नहीं है. प्रोफेसर ने कहा कि AI एंकर भले ही हमसे बहुत अलग नहीं हैं मगर वो हमारी तरह भी नहीं हैं. अगर इंसान को ये पता चल जाए कि जिसे वो टीवी पर देख रहा है वो असली नहीं है तो वो उसे तुरंत नकार देगा.
आपको बता दें कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के माध्यम से चलने वाली कोरिया की ये न्यूज एंकर दुनिया की पहली एंकर नहीं है. दो साल पहले चीन (China) ने भी एक AI न्यूज एंकर का निर्माण किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज