फ्रांस में नहीं है कोई पाक राजदूत, फिर भी PM इमरान ने वापस बुलाने का किया प्रस्ताव

पाकिस्तानी पीएम इमरान खान (फाइल फोटो)
पाकिस्तानी पीएम इमरान खान (फाइल फोटो)

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने संसद में फ्रांस से अपने राजदूत बुला लाने का प्रस्ताव भी रख दिया. हालांकि, सच तो यह है कि फ्रांस में पिछले तीन महीने से पाकिस्तान का कोई राजदूत (No Pakistani Envoy in France) है ही नहीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 27, 2020, 11:38 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. फ्रांस में इस्लामी कट्टरवाद (Islamic Fundamentalist) के खिलाफ राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों (French President) Emmanuel Macron) के दिए बयान के बाद दुनिया के तमाम इस्लाम धर्म पर आधारित देशों में प्रदर्शन की झड़ी लग गई. राष्ट्रपति मैक्रों के विरोध में बांग्लादेश, इराक, ईरान, कुवैत, तुर्की, पाकिस्तान में जोरदार प्रदर्शन हुए. ऐसे में पाकिस्तान की इमरान सरकार भी कहां पीछे रहने वाली थी. इमरान खान ने मौके की नजाकत को पहचाना और एक हास्यास्पद बयान दे दिया. उन्होंने पाकिस्तान की संसद में फ्रांस से अपने राजदूत बुला लाने का प्रस्ताव भी रख दिया. हालांकि, सच तो यह है कि फ्रांस में पिछले तीन महीने से पाकिस्तान का कोई राजदूत (No Pakistani Envoy in France)  है ही नहीं. फ्रांस की राजधानी पेरिस में तीन महीने पहले तैनात पाकिस्तान के राजदूत मोइन-उल-हक का ट्रांसफर कर उन्हें चीन में राजदूत के पद पर तैनात किया गया था. जाहिर सी बात है कि अब दुनियाभर इमरान खान का मजाक उड़ाया जा रहा है.

विदेश मंत्री कुरैशी को भी नहीं थी इस बात की जानकारी

पाकिस्तान की इमरान सरकार और उनके विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी पर निशाना साध रहे हैं. कुरैशी ने भी फ्रांस से पाकिस्तानी राजदूत को वापस बुलाने वाले प्रस्ताव पर सहमति दिखाई थी. ऐसे में लोग यह सवाल उठा रहे हैं कि विदेश मंत्री कुरैशी तक को यह नहीं मालूम कि पाक का पेरिस में कोई राजदूत ही नहीं है. पाकिस्तानी संसद में सोमवार को पेश किए गए प्रस्ताव को लेकर सोशल मीडिया पर जमकर मजाक उड़ाया जा रहा है. हालांकि, पाकिस्तान की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि कुरैशी को यह मालूम था कि फ्रांस में पाकिस्तान का कोई राजदूत नहीं है, लेकिन उन्होंने सदन में उपजे हालातों की वजह से यह बात किसी को नहीं बताई.



मोहम्मद ही पाकिस्तान से जुड़े कामकाज को देख रहे हैं
पाकिस्तान के एक दैनिक अखबार 'द डेली' में प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि इस समय फ्रांस में पेरिस दूतावास में मिशन के डिप्टी हेड मोहम्मद अहजद काजी ही पाकिस्तान से जुड़े कामकाज को देख रहे हैं. वे ही पेरिस में सबसे वरिष्ठ राजदूत हैं.

ये भी पढ़ें: ट्रंप ने हिंदू समुदाय के साथ हिंदू-अमेरिकी को अपने प्रचार दस्ते में किया शामिल

PHOTOS: पोलैंड में गर्भपात कराना हुआ बैन, विरोध में सड़कों पर उतरीं महिलाएं

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों पर उनके बयान को लेकर निशाना साधा था. उन्होंने कहा था कि मोहम्मद पैगंबर के कार्टून को लेकर मैक्रों ने इस्लाम के खिलाफ हमला किया है. इसके जवाब में मैक्रों ने भी अंग्रेजी और उर्दू में ट्वीट किया था. उन्होंने कहा था कि हम कभी ऐसा नहीं होने देंगे. हम शांति की भावना में सभी मतभेदों का सम्मान करते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज