Home /News /world /

आंग सान सू की को तीन नए मामलों में कोर्ट ने सुनाई सजा, नोबेल समिति ने की निंदा, जाने पूरा मामला

आंग सान सू की को तीन नए मामलों में कोर्ट ने सुनाई सजा, नोबेल समिति ने की निंदा, जाने पूरा मामला

सू की को दिसंबर 2021 में कोरोना वायरस से संबंधित नियम तोड़ने के लिए भी सजा सुनाई गई थी.(फाइल फोटो)

सू की को दिसंबर 2021 में कोरोना वायरस से संबंधित नियम तोड़ने के लिए भी सजा सुनाई गई थी.(फाइल फोटो)

नोबेल पुरस्कार विजेता सू की की सरकार का पिछले साल फरवरी में तख्ता पलट करके वहां सेना का शासन स्थापित हो गया था. सू की को पिछले साल दो अन्य मामलों में भी जेल की सजा सुनाई गई थी. अब उन्हें छह साल की जेल काटनी होगी. उन पर करीब कुल एक दर्जन मामले चल रहे हैं जिसमें अधिकतम 100 साल की सजा का प्रावधान है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली: म्यांमार (Myanmar) में लोकतंत्र के लिए लड़ने वाले नेता आंग सान सू की (Aung San Suu Kyi) को एक सैन्य अदालत ने तीन अलग अलग आपराधिक मामलों में दोषी करार देते हुए उन्हें चार साल की जेल की सजा सुनाई है. समाचार एजेंसी एएफपी के अनुसार 76 वर्षीय अपदस्थ नेता को मुख्य रूप से गैर कानूनी रूप से वॉकी टॉकी को अपने पास रखने और उन्हें आयात करने और कोविड नियमों के उल्लंघन का दोषी पाया गया है. सू की की इस सजा का नोबेल समिति ने निंदा की है.

गौरतलब है कि नोबेल पुरस्कार विजेता सू की की सरकार का पिछले साल फरवरी में तख्ता पलट करके वहां सेना का शासन स्थापित हो गया था. सू की को पिछले साल दो अन्य मामलों में भी जेल की सजा सुनाई गई थी. अब उन्हें छह साल की जेल काटनी होगी. उन पर करीब कुल एक दर्जन मामले चल रहे हैं जिसमें अधिकतम 100 साल की सजा का प्रावधान है.

इस बीच नोबेल पुरस्कार देने वाली नार्वे की नोबेल समिति ने आंग सान सू की तीन नई सजाओं की निंदा की है. समिति के अध्य्क्ष बेरिट रीस-एंडरसन ने समाचार एजेसी एएफपी को बताया कि इस समय नोबेल प्राइज विजेता आंग सान सू की की जो स्थिति है उससे वह काफी चिंतित है. उन्होंने कहा कि सू की के खिलाफ जो भी निर्णय लिए जा रहे हैं वह पूरी तरह से राजनीति से प्रेरित हैं.

जानकारी के अनुसार पिछले साल कोर्ट ने आंग सान सू की के खिलाफ निर्यात-आयात कानून का उल्लंघन करने के लिए कुल दो साल और सिग्नल जैमर्स का प्रयोग करने के लिए एक साल की सजा सनाई थी. ये दोनों सजा एक साथ चलेंगी. इसके अतिरिक्त सू की को दिसंबर 2021 में कोरोना वायरस से संबंधित नियम तोड़ने के लिए भी सजा सुनाई गई थी. इन सजाओं को लेकर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कड़ा विरोध जताया जा रहा है.

आपको बता दें कि पिछले साल 1 फरवरी 2021 को सेना ने आंग सान सू की सरकार का तख्तापलट कर दिया था. इसके बाद सू की और म्यांमार के राष्ट्रपति विन म्यिंट समेत देश के कई बड़े नेताओं को हिरासत में लेकर देश में एक साल के लिए आपातकाल लगा दिया गया था. तख्तापलट के बाद पूर्व जनरल म्यिंट स्वी को कार्यकारी राष्ट्रपति बना दिया गया था और सैन्य प्रमुख मिन आंग लाइंग ने देश का शासन अपने हाथों में ले लिया था.

Tags: Aung San Suu Kyi, Nobel Peace Prize

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर