ब्रह्मांड में पृथ्वी का स्थान समझाने के लिए तीन वैज्ञानिकों को मिला इस बार भौतिकी का नोबेल

भौतिकी के क्षेत्र में इस बार तीन वैज्ञानिकों को दिया जाएगा नोबेल पुरस्कार (फोटो क्रेडिट- नोबेल एकेडमी)
भौतिकी के क्षेत्र में इस बार तीन वैज्ञानिकों को दिया जाएगा नोबेल पुरस्कार (फोटो क्रेडिट- नोबेल एकेडमी)

ब्रह्मांड का विकास (Evolution of the Universe) और उसमें धरती का स्थान समझाने के लिए इस बार तीन वैज्ञानिकों को भौतिकी (Physics) का नोबेल पुरस्कार दिया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 8, 2019, 4:59 PM IST
  • Share this:
स्टॉकहोम (स्वीडन). भौतिकी के लिए नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize for Physics) की घोषणा कर दी गई है. इस बार भौतिकी के क्षेत्र में तीन वैज्ञानिकों को नोबेल पुरस्कार दिया गया है. ये तीन वैज्ञानिक हैं स्विट्जरलैंड (Switzerland) के मिशेल मेयर, दिदिएर क्वेलोज और कनाडाई-अमेरिकी (Canadian-American) मूल के जेम्स पेबल्स. स्वीडन (Sweden) की राजधानी स्टॉकहोम में मंगलवार को भौतिकी के लिए 2019 के नोबेल पुरस्कारों की घोषणा की गई. 14 अक्टूबर तक कुल 6 अलग-अलग क्षेत्रों में नोबेल पुरस्कारों की घोषणा की जाएगी.

इससे पहले सोमवार को चिकित्सा (Medicine) के क्षेत्र में तीन वैज्ञानिकों अमेरिकी विलियम जी केलिन, ग्रेग एल सेमेन्जा और ब्रिटिश वैज्ञानिक पीटर जे रैटक्लिफ को यह पुरस्कार दिया गया था.

ब्रह्मांड के विकास और कॉस्मॉस में पृथ्वी के स्थान को समझने में मदद करने वाली खोज
ब्रह्मांड का विकास और ‘कॉस्मॉस में पृथ्वी के स्थान’ को समझने में इन तीनों वैज्ञानिकों के योगदान के लिए इन्हें भौतिकी के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है.
पुरस्कार का आधा हिस्सा भौतिक ब्रह्माण्ड विज्ञान में सैद्धांतिक खोजों के लिए जेम्स पीबल्स को और दूसरा आधा हिस्सा सूरज की तरह के तारे की परिक्रमा करने वाले ‘एक्सोप्लैनेट’ की खोज के लिए मिशेल मेयर और डिडिएर क्वेलोज को साझा रूप से दिया जाएगा. ‘एक्सोप्लैनेट’ सौर मंडल के बाहर तारे की परिक्रमा करने वाले ग्रह को कहा जाता है.



शांति के नोबेल के लिए ग्रेटा थनबर्ग मानी जा रही हैं प्रमुख दावेदार
इस साल शांति के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार के लिए टीनएज पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग (Greta Thunberg) को प्रबल दावेदार माना जा रहा है. ग्रेटा के चलाए गए 'फ्राइडे फॉर फ्यूचर' (Friday for Future) कैंपेन ने दुनिया भर के टीनएज और बड़ों को भी पर्यावरण परिवर्तन (Climate Change) के सामने आने वाली चुनौतियों के प्रति जागरूक किया था और दुनिया भर में स्टूडेंट्स की ओर से इसे जबरदस्त समर्थन मिला था. ग्रेटा अभी मात्र 16 साल की हैं और वो स्वीडन की रहने वाली हैं.

नोबेल जीतने पर पुरस्कार के तौर पर क्या दिया जाता है?
नोबेल पुरस्कार विजेता (Nobel Prize Winner) को पुरस्कार के तौर पर करीब साढ़े चार करोड़ रुपये की राशि दी जाती है. इसके साथ उन्हें 23 कैरेट सोने से बना 200 ग्राम का पदक और प्रशस्ति पत्र भी दिया जाता है.

विजेताओं को जो पदक दिया जाता है उसमें एक ओर अल्फ्रेड नोबेल (Alfred Nobel) की तस्वीर और उनकी जन्म और मृत्यु की तिथि और दूसरी ओर यूनानी देवी आइसिस का चित्र बना होता है. बता दें कि अल्फ्रेड नोबेल के नाम पर ही हर साल नोबेल पुरस्कार दिया जाता है.

इन बार पुरस्कार जीतने वाले तीनों वैज्ञानिकों को साझा 90 लाख क्रोना (स्वीडन की मुद्रा) नगद, एक स्वर्ण पदक और एक डिप्लोमा दिया जाएगा. स्टॉकहोम में 10 दिसंबर को एक कार्यक्रम में इन्हें सम्मानित किया जाएगा.

इस बार नोबेल एकेडमी (Nobel Academy) 2018 और 2019 दोनों ही सालों के लिए साहित्य के नोबेल (Nobel for Literature) पुरस्कारों का ऐलान करेगी. पिछले साल यौन उत्पीड़न मामले के चलते 2018 के साहित्य के नोबेल की घोषणा को अकादमी ने स्थगित कर दिया था.

यह भी पढ़ें: '23 करोड़ डॉलर के घाटे में चल रहा UN, अक्टूबर में खत्म हो सकता है सारा पैसा'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज