लाइव टीवी

ट्रंप को किम जोंग की धमकी- बैन हटाओ वरना फिर से बनाएंगे एटम बम

News18Hindi
Updated: November 4, 2018, 7:55 PM IST
ट्रंप को किम जोंग की धमकी- बैन हटाओ वरना फिर से बनाएंगे एटम बम
किम जोंग उन और डोनाल्ड ट्रंप

उत्तर कोरियाई तानाशाह ने कहा, 'देश पर लगे आर्थिक प्रतिबंधों से अर्थव्यवस्था की गति धीमी पड़ गई है. अगर अमेरिका ने जल्द अपना फैसला नहीं बदला, तो हम भी अपनी पुरानी रणनीति पर वापस जा सकते हैं.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 4, 2018, 7:55 PM IST
  • Share this:
उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने अपने देश पर लगाए गए तमाम आर्थिक प्रतिबंधों को लेकर अमेरिका को चेतावनी दी है. न्यूक्लियर वॉर की धमकी देते हुए किम ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से कहा कि अगर जल्द उत्तर कोरिया पर लगाए गए कड़े आर्थिक प्रतिबंध नहीं हटाए गए, तो वह अपनी पुरानी न्यूक्लियर पॉलिसी पर लौट सकते हैं. उत्तर कोरिया दोबारा एटम बम बना सकता है. बता दें कि नॉर्थ कोरिया ने सालों तक अर्थव्यवस्था के साथ परमाणु ताकत बढ़ाने की नीति (युनजिन प्रोग्राम) पर काम किया है.

किम जोंग उन के साथ बैठक के लिए तीन या चार तारीखों पर हो रहा है विचार: ट्रंप

न्यूज एजेंसी AFP की खबर के मुताबिक, उत्तर कोरियाई तानाशाह ने कहा, 'देश पर लगे आर्थिक प्रतिबंधों से अर्थव्यवस्था की गति धीमी पड़ गई है. अगर अमेरिका ने जल्द अपना फैसला नहीं बदला, तो हम भी अपनी पुरानी रणनीति पर वापस जा सकते हैं.'

इस साल अप्रैल में नॉर्थ कोरिया के शासक किम जोंग उन ने शांति की वकालत करते हुए न्यूक्लियर स्टेशन को नष्ट करने की बात कही थी. किम ने घोषणा की थी कि उत्तर कोरिया का न्यूक्लियर प्रोग्राम पूरा हो चुका है और अब देश सोशलिस्ट इकॉनमी के निर्माण पर काम करेगा. हालांकि, विदेश मंत्रालय की तरफ से जारी ताजा बयान में किम ने ट्रंप को साफ धमकी दी है कि अगर उत्तर कोरिया को लेकर उन्होंने अपना रवैया नहीं बदला, तो प्योंगयांग फिर से एटम बम का निर्माण कर सकता है.




बता दें कि किम जोंग उन और डोनाल्ड ट्रंप के बीच इसी साल जून में सिंगापुर में ऐतिहासिक मुलाकात हुई थी. उस दौरान नॉर्थ कोरिया ने पूर्ण नाभिकीय निरस्त्रीकरण (Complete nuclear disarmament) की बात कही थी. मगर बाद भी किम अपने ऐलान से पलट गए थे.

किम जोंग उन सिंगापुर में हैं तो उनके परमाणु हथियारों का बटन किसके पास है?

अमेरिकी वित्त विभाग ने अगस्त में रूस के एक व्यावसायिक बैंक सहित एक शख्स और तीन कंपनियों पर उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रमों के साथ कथित संबंध होने की वजह से प्रतिबंधों का ऐलान किया था. वहीं, उत्तर कोरिया के प्रवक्ता का कहना है कि इस तरह के कदमों के साथ कोई भी उत्तरी कोरिया-अमेरिका के संयुक्त बयान के कार्यान्वयन में किसी भी प्रगति की उम्मीद नहीं कर सकता, जिसमें परमाणु निरस्त्रीकरण की प्रक्रिया शामिल है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 4, 2018, 7:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर