Home /News /world /

EXPLAINED: उत्तर कोरिया कर रहा है ताबड़तोड़ मिसाइल परीक्षण, जानिए क्या है वजह

EXPLAINED: उत्तर कोरिया कर रहा है ताबड़तोड़ मिसाइल परीक्षण, जानिए क्या है वजह

विश्लेषकों का मानना है कि अगर उत्तर कोरिया इस तरह के हथियारों में सुधार कर लेता है तो वह अपने आस पास की बड़ी शक्तियों को चुनौती दे पाएगा. (फोटो: AP)

विश्लेषकों का मानना है कि अगर उत्तर कोरिया इस तरह के हथियारों में सुधार कर लेता है तो वह अपने आस पास की बड़ी शक्तियों को चुनौती दे पाएगा. (फोटो: AP)

North Korea Missile Testing: उत्तर कोरिया का कहना है कि उन्होंने 5 जनवरी को नए प्रकार की हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण किया और 11 जनवरी को दोबारा इसका परीक्षण किया गया. इस दौरान किम जोंग उन भी मौजूद थे. हाइपरसोनिक एक ऐसा हथियार है जो बैलिस्टिक मिसाइल से काफी नीचे अपने लक्ष्य की और उड़ता है औऱ यह आवाज की गति से पांच गुना यानी करीब 6200 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ान भरता है.

अधिक पढ़ें ...

प्योंगयांग. उत्तर कोरिया (North Korea) अपने हथियारों के जखीरे को बहुत तेज गति से बढ़ा रहा है. साल की शुरुआत से ही देश लगातार मिसाइल परीक्षण (Missile Testing) में लगा हुआ है. वो मिसाइल परीक्षण के लिए किसी तरह की कोर कसर नहीं छोड़ना चाहता है. हाइपरसोनिक मिसाइल,से लेकर रेलकारों औऱ एयरपोर्ट से लॉन्च होने वाली मिसाइल तक होने वाले परीक्षण देश के शस्त्रागार में विस्तार को प्रेरित करते हैं.

खास बात यह है कि 2017 से उत्तर कोरिया ने लंबी दूरी की अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल और परमाणु हथियारों का परीक्षण नहीं किया था. फिर ऐसी क्या वजह हो गई कि उत्तर कोरिया अचानक लगातार अपने मिसाइल के भंडार को बढ़ाने में लग गया है. दरअसल देश पर अमेरिका और एशिया में उनके सहयोगियों से बढ़ते खतरे को देखकर उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने अपनी सैन्य क्षमता को बढ़ाने पर जोर दिया है. पिछले एक महीने में उत्तर कोरिया में अलग-अलग प्रकार के हथियारों का परीक्षण हुआ है.

यह भी पढ़ें: भारत के रूस से S-400 खरीदने पर छलका अमेरिका का‘दर्द’, मिला ये जवाब

हाइपरसोनिक मिसाइल
उत्तर कोरिया का कहना है कि उन्होंने 5 जनवरी को नए प्रकार की हाइपरसोनिक मिसाइल का परीक्षण किया और 11 जनवरी को दोबारा इसका परीक्षण किया गया. इस दौरान किम जोंग उन भी मौजूद थे. हाइपरसोनिक एक ऐसा हथियार है जो बैलिस्टिक मिसाइल से काफी नीचे अपने लक्ष्य की और उड़ता है औऱ यह आवाज की गति से पांच गुना यानी करीब 6200 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ान भरता है.

विशेषज्ञों का मानना है कि इसकी खासियत गति से ज्यादा इसकी फुर्ती है, जिसकी बदौलत यह खुद को मिसाइल रक्षा प्रणाली से बचा लेता है. हालांकि, दक्षिण कोरिया ने पहले परीक्षण के बाद मिसाइल की क्षमताओं पर सवाल खड़े किये थे. उनका कहना था कि मीडिया में जो मिसाइल की गति बताई जा रही है, वैसी प्रदर्शित नहीं की गई है. वहीं विश्लेषकों का मानना है कि अगर उत्तर कोरिया इस तरह के हथियारों में सुधार कर लेता है तो वह अपने आस पास की बड़ी शक्तियों को चुनौती दे पाएगा.

सबसे पहले मई 2019 को किया गया था KN-23 SRBM मिसाइल का परीक्षण

Tags: Kim Jong Un, Missile, North Korea

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर