Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    उ. कोरिया में कैदियों की होती है पिटाई, महिला बंदियों का रेप होता है: रिपोर्ट

    उ. कोरिया में कैदियों की बर्बरता से पिटाई की जाती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
    उ. कोरिया में कैदियों की बर्बरता से पिटाई की जाती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

    ह्यूमैन राइट्स वॉच (Human Rights Watch) नाम की संस्था ने अपने 88 पन्नों की रिपोर्ट में यह बताया कि उत्तर कोरिया के जेल में बंद कैदियों के साथ बहुत ही बुरा सलूक होता है. महिला कैदियों का रेप तक कर लिया जाता है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 20, 2020, 7:50 AM IST
    • Share this:
    प्योंगयांग. उत्तर कोरिया (North Korea) के जेल में बंद कैदियों (Prisoners) के साथ बहुत बुरा सलूक किया जाता है. यह हम नहीं ह्यूमैन राइट्स वॉच (Human Rights Watch) नाम की संस्था अपनी रिपोर्ट में तथ्यों के आधार पर कह रही है. एचआरडब्ल्यू ने 88 पन्नों की यह रिपोर्ट उत्तर कोरिया के कुछ पूर्व अधिकारियों और बंदियों से बातचीत के आधार पर तैयार की है. इस रिपोर्ट में 2014 के संयुक्त राष्ट्र (United Nations) द्वारा जारी किए गए तथ्यों को भी शामिल किया है. इस रिपोर्ट में यह भी दिखाया गया है कि वर्ष 2011 में यहां की सत्ता पर ​सुप्रीम लीडर किम जोंग उन (Kim Jong Un) के काबिज होने के बाद कैदियों की हालत बहुत खराब हुई है. संयुक्त राष्ट्र के कार्यकर्ताओं ने किम जोंग और उनके सिक्योरिटी चीफ की हरकतों को हिटलर के शासनकाल के दौरान हुए अत्याचार से तुलना की है. रिपोर्ट में कैदियों को दी जाने वाली यातनाओं में भूखा रखने से लेकर उनकी हत्या तक करवाने की बात सामने आई है.

    कैदियों और अधिकारियों से बातचीत के आधार पर तैयार की गई है रिपोर्ट

    यह रिपोर्ट 8 पूर्व सरकारी अधिकारियों और 22 पूर्व बंदियों से बातचीत के आधार पर तैयार की गई है. एचआरडब्ल्यू ने बताया कि वहां बंदियों के साथ जानवरों से बदतर व्यवहार किया जाता है और अंतत: उसे पशु ही बना डालते हैं. इस संस्था के एशिया के निदेशक ब्रैड एडम्स ने बताया कि कैदियों को हमेशा सिस्टम का डर लगा रहता है कि वह इसके दलदल में एक बार अगर फंस गए तो फिर रिश्वत देकर ही इससे बाहर आ सकते हैं.



    कैदियों को 16 घंटे तक सिर झुकाकर जमीन पर बैठना पड़ता है
    पूर्व बंदियों ने कहा कि उन्हें सिर झुकाकर रोजाना 7-16 घंटे तक जमीन पर बैठे रहना पड़ता है. आंखें जमीन की ओर रखनी होती है. ऐसा नहीं करने पर गार्ड कैदियों को कुछ भी सजा दे सकते हैं. दक्षिण कोरिया भागने की कोशिश मे पकड़े गए एक सैनिक ने बताया कि उसकी रोजाना इतनी बेरहमी से पिटाई होती थी कि एक समय लगा कि अब मर जाएंगे.

    महिला कैदियों के साथ रेप, यौन उत्पीड़न होता है

    एक पूर्व कारोबारी महिला ने बताया कि पूछताछ के दौर उसका रेप किया गया. 50 वर्षीय इस महिला ने बताया कि इतना ही नहीं मेरा यौन उत्पीड़न दो पुलिस वालों ने भी किया. उत्तर कोरिया के एक पूर्व अधिकारी ने बताया कि 'जेल मैनुएल कहता है कि कैदियों की पिटाई नहीं होनी चाहिए. हालांकि, हमारे साथ शुरूआत से अपराध कबूल कराने के नाम पर पिटाई की जाती है.

    ये भी पढ़ें: लास वेगास में पादरी ने ट्रंप से कहा- आप प्रभु की आंखों के तारे हैं, दोबारा राष्ट्रपति बनेंगे 

    पाकिस्तान को टेरर फंडिंग खत्म करने के लिए मिली थी ​लंबी लिस्ट, खफा हुआ FATF 

    तस्करी के आरोप में चार बार पकड़े गए एक शख्स ने बताया कि 'मुझे इतना पीटा गया कि मैंने डर से गलती कुबूल कर ली. उन्होंने बताया कि उन्हें बहुत ही गंदगी वाली स्थिति में रखा जाता है. बहुत कम खाना दिया जाता है, छोटे से सेल में बहुत ज्यादा भीड़ कर दी जाती है. नहाने और कंबल के लिए तरसाया जाता है. महिला बंदियों की जरूरतों पर भी ध्यान नहीं दिया जाता है. यातना भुगत चुके लोगों का कहना है कि ऐसा इसलिए किया जाता है कि वो आसानी से गुनाह कुबूल लें.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज