द.कोरियाई एक्ट्रेस का निधन, कभी उत्तर कोरिया ने किडनैप कर बनवाई थीं फिल्में

दक्षिण कोरिया की प्रख्यात अभिनेत्री चोई का उत्तर कोरिया के जासूसों ने 1978 में हांगकांग में अपहरण कर लिया था.


Updated: April 17, 2018, 5:04 PM IST
द.कोरियाई एक्ट्रेस का निधन, कभी उत्तर कोरिया ने किडनैप कर बनवाई थीं फिल्में
दक्षिण कोरिया की प्रख्यात अभिनेत्री चोई का उत्तर कोरिया के जासूसों ने 1978 में हांगकांग में अपहरण कर लिया था.

Updated: April 17, 2018, 5:04 PM IST
उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग इल के कहने पर वर्ष 1978 में किडनैप की गई दक्षिण कोरिया की अभिनेत्री चोई इयुन ही का 91 वर्ष की उम्र में निधन हो गया. चोई के परिवार वालों ने यह जानकारी दी. दक्षिण कोरिया की प्रख्यात अभिनेत्री चोई का उत्तर कोरिया के जासूसों ने 1978 में हांगकांग में अपहरण कर लिया था. यह अपहरण चोई के दीवाने और उत्तर कोरिया की बागडोर अपने हाथों में लेने का इंतजार कर रहे किम जोंग इल के अनुरोध पर किया गया था.

किम जोंग इल उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन के पिता थे. चोई अपने आर्ट स्कूल के लिए एक संभावित इन्वेस्टर से मिलने जब हांगकांग गई थीं तब उनको उनके गाइड ने एक नौका में बैठने के लिए फुसलाया. इसके बाद उन्हें उत्तर कोरिया जा रहे एक मालवाहक पोत में बिठा दिया गया.

चोई के पति शिन सैंग ओक दक्षिण कोरिया के जाने माने फिल्म निर्देशक थे. उन्हें चोई के अपहरण के तत्काल बाद उत्तर कोरिया ले जाया गया. बहरहाल, शिन सैंग ओक के अपहरण की स्थितियां अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाई हैं.

कुल आठ साल तक चोई को उत्तर कोरिया में रखा गया. वहां उन्होंने और उनके पति शिन सैंग ओक ने किम जोंग इल के आदेश पर दस से अधिक फिल्में बनाईं. वर्ष 2011 में एक साक्षात्कार में चोई ने कहा था कि एक कलाकार के तौर पर उन्हें और उनके पति को किम ने पूरा सम्मान दिया और उनका समर्थन किया लेकिन जिस तरह उनका अपहरण किया गया था, उसके लिए वह किम को कभी भी माफ नहीं कर सकेंगी.

इन आठ सालों के दौरान चोई और उनके पति ने फिल्म निर्माण के सिलसिले में और फिल्म महोत्सवों में शामिल होने के लिए कई देशों की यात्राएं कीं. लेकिन ये यात्राएं हमेशा उत्तर कोरियाई एजेंटों की कड़ी निगरानी में होती थीं.

वर्ष 1985 में मास्को अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में चोई को ‘‘साल्ट’’ फिल्म में उनकी भूमिका के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का पुरस्कार भी मिला था. ‘‘साल्ट’’ फिल्म उन कोरियाई छापामारों के बारे में थी जिन्होंने वर्ष 1910 से 1945 के दौरान जापानी औपनिवेशिक शासन के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी.

अपहरण से पहले, वर्ष 1976 में चोई और उनके पति शिन सैंग ओक के बीच तलाक हो चुका था. लेकिन हंगरी के एक दौरे में उन्होंने किम जोंग इल के अनुरोध पर फिर से शादी कर ली थी.

करीब आठ साल किम जोंग इल की कड़ी निगरानी में बिताने के बाद चोई और उनके पति 1986 में जब बर्लिनाले फिल्म महोत्सव में हिस्सा लेने के लिए गए तब वह किसी तरह भाग कर वियना स्थित अमेरिकी दूतावास पहुंचे. वहां उन्होंने अपनी निजी सुरक्षा की आशंका के चलते अमेरिका में शरण मांगी.

करीब एक दशक से अधिक समय अमेरिका में बिताने के बाद यह जोड़ा 1999 में दक्षिण कोरिया लौटा. शिन सैंग ओक की वर्ष 2006 में मौत होने तक दोनों ने शादीशुदा जिंदगी बिताई. उनके जीवन पर कई किताबें लिखी गईं और कई फिल्में भी उन पर बनीं.

1950 से 1970 के बीच दक्षिण कोरियाई सिनेमा की ‘‘रानी’’ कहलाने वाली चोई ने 100 से अधिक फिल्मों मे काम किया. इनमें से ज्यादातर फिल्मों का निर्माण शिन सैंग ओक ने किया था. चोई का अंतिम संस्कार बृहस्पतिवार को सोल में होगा.

ये भी पढ़ेंः


दक्षिण कोरियाई कॉन्सर्ट में किम ने की शिरकत
दुनिया में चर्चित है किम जोंग के दादा की ये ट्रेन, तानाशाह की पूरी फैमिली सफर करती है इस अनूठी रेल में
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर