उ. कोरिया के सुप्रीम लीडर किम जोंग ने 'रहस्यमय मुद्दे' को निपटाने के लिए बुलाई बैठक

उ. कोरिया के सुप्रीम लीडर किम जोंग ने 'रहस्यमय मुद्दे' को निपटाने के लिए बुलाई बैठक
उ. कोरिया के सुप्रीम लीडर किम जोंग उन (फाइल फोटो)

उत्तर कोरिया (North Korea) के नेता किम जोंग उन (Kim Jong Un) बुधवार को आठ महीनों में पहली बार शासक दल की एक महत्वपूर्ण बैठक बुला रहे हैं ताकि एक महत्वपूर्ण रहस्यमय मुद्दे का समाधान किया जा सके.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 18, 2020, 7:21 PM IST
  • Share this:
प्योंगयांग. उत्तर कोरिया (North Korea) के नेता किम जोंग उन (Kim Jong Un) बुधवार को आठ महीनों में पहली बार शासक दल की एक महत्वपूर्ण बैठक बुला रहे हैं ताकि एक महत्वपूर्ण रहस्यमय मुद्दे का समाधान किया जा सके. उत्तर कोरिया की आधिकारिक कोरियन सेंट्रल न्यूज़ एजेंसी ने केंद्रीय समिति (Central Commitee) के एकत्रित होने के विषय में कुछ संकेत दिए हैं. इन संकेतों की मानें तो किम जोंग कोरियाई क्रांति को विकसित करने और पार्टी के जुझारूपन को बढ़ाने जैसे महत्वपूर्ण मुद्दे पर चर्चा और निर्णय लेने बैठक बुला रहे हैं.

किम सरकार की देश और विदेश में हो रही है आलोचना

किम देश और विदेश दोनों मोर्चों पर विभिन्न कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं. देश में आई भीषण बाढ़ ने कृषि क्षेत्र को बर्बाद किया है जिससे वायरस से प्रभावित अर्थव्यवस्था को एक और झटका लगा है. इस साल की शुरुआत में सामने आए स्वास्थ्य संकट ने उत्तराधिकार को लेकर भी सवाल खड़े कर दिए थे. अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ उनकी परमाणु चर्चा भी रुकी हुई है जिसमें उन्हें किसी तरह की प्रतिबंध को हटाने की राहत भी नहीं मिली है और इस सप्ताह अमेरिकी और दक्षिण कोरिया ने संयुक्त सैन्य अभ्यास भी बंद कर दिया है.



दिसंबर के बाद केंद्रीय समिति की पहली बैठक
उत्तर कोरिया ने कोरोना महामारी पर यह दावा किया है कि उसके कोविड-19 का कोई मामला नहीं मिला है जिस दावे पर अमेरिका और जापान दोनों ने संदेह जताया है. दिसंबर के अंत में बुलाई गई चार दिवसीय मैराथन सत्र के बाद केंद्रीय समिति द्वारा बुलाई यह पहली बैठक है. दिसंबर की बैठक में किम ने अर्थव्यवस्था और राज्य सुरक्षा का निर्माण करने के लिए महत्वपूर्ण सफलता की जरुरत की बात की. किम जोंग ने ट्रंप को चेतावनी भी दी कि उत्तर कोरिया प्रमुख मिसाइल के परीक्षणों को रोकने की अपनी प्रतिज्ञा से बाध्य नहीं है.

एक साल पहले नियुक्त किए प्रीमियर को किया बर्खास्त

पिछले सप्ताह हुई पोलित ब्यूरो की एक मीटिंग में किम जोंग ने एक साल पहले नियुक्त किए गए प्रीमियर को बर्खास्त कर दिया. दक्षिणी सीमावर्ती शहर केसोंग में कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन को हटा दिया और यह भी घोषणा की कि कहा कि महामारी के कारण होने वाले जोखिम के कारण विदेशी खाद्य सहायता स्वीकार नहीं की जाएगी.

ये भी पढ़ें: चीनी कंपनी Huawei पर सख्त हुए डोनाल्ड ट्रंप, कहा- हम अपनी जासूसी नहीं करा सकते

फिलीस्तीन: 11 वर्षीय रैपर ने युद्ध की बर्बादियों पर गाए गीत, देंखे VIDEO

किम जोंग की पार्टी की प्रमुख बैठकें अक्सर पार्टी के कैडर को हिलाकर रख देती हैं जिससे अंततः उनकी बहन को अधिक शक्तियां प्राप्त हो जाती हैं या पार्टी से उन अनचाहे लोगों को निकाल दिया जाता है जो कोरोना या वायरस के मोर्चे पर सरकार के दृष्टिकोण से असहमत दिखते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading