कोरोना से बचाने के लिए बनाया गया 'Nose Only Mask', जानें कितना है मददगार

मैक्सिको के वैज्ञानिकों ने इस मास्क की खोज की है

मैक्सिको के वैज्ञानिकों ने इस मास्क की खोज की है

इम्यूनिटी साइंटिस्ट गुस्तावो अकोस्टा ने कहा, 'कोरोना वायरस बहुत संक्रामक है. यह (संक्रमण) इन तीन मार्गों (आंखों, नाक, मुंह) में से किसी के माध्यम से हो सकता है.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2021, 11:39 AM IST
  • Share this:
मेक्सिको. मेक्सिको में महामारी के बीच वैज्ञानिक लोगों को अतिरिक्त सुरक्षित महसूस करने के लिए एक नया विकल्प दे रहे हैं. शोधकर्ताओं ने अब केवल नाक का मास्क (Nose Only Mask) बनाया है. इनका कहना है कि जब आप खा रहे हों तो यह मास्क COVID-19 संक्रमण के जोखिम को कम करता है. जब आप खाना चाहें या बात करनी हो तो सामान्य मास्क को हटाने की जरूरत होती है. हालांकि इस मास्क को पहने हुए खाया जा सकता है या बातचीत हो सकती है.

इम्यूनिटी साइंटिस्ट गुस्तावो अकोस्टा ने कहा- ' कोरोना वायरस बहुत संक्रामक है. यह (संक्रमण) इन तीन मार्गों (आंखों, नाक, मुंह) में से किसी के माध्यम से हो सकता है. जाहिर है, हम आंसुओं से संक्रमित नहीं हो सकते हैं लेकिन अगर कोई संक्रमित व्यक्ति छींकता है या खांसता है तो हम संक्रमित हो सकते हैं.'

जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के अनुसार लोगों को गंध महसूस कराने वाली कोशिकाएं कोरोना वायरस के शरीर में जाने के लिए महत्वपूर्ण जगह हैं. ऐसे में नाक को ढका जाना बहुत जरूरी है. हालांकि, विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) लोगों को एक फेस मास्क पहनने की सलाह देता है जो नाक, मुंह और पूरे चेहरे को कवर करता है.

साथ ही स्थानीय चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि ठीक तरह से फिट किया गया मास्क नाक और मुंह को एक्सपोज नहीं करता जो आपको सबसे अच्छी सुरक्षा प्रदान करेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज