वैश्विक तौर पर कोरोना मामलों की रफ्तार पांच गुनी बढ़ी, डेथ केस तीन गुना : WHO

वैश्विक तौर पर कोरोना मामलों की रफ्तार पांच गुनी बढ़ी, डेथ केस तीन गुना : WHO
WHO प्रमुख डॉ. टेड्रोस एडनॉम गेब्रियेसस (फाइल फोटो)

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना महामारी (Coronavirus) को लेकर कहा कि तीन महीने पहले जब WHO की एमरजेंसी कमेटी ने बैठक की थी तब कोविड-19 (COVID-19) के मामले उतने नहीं थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 3, 2020, 6:51 PM IST
  • Share this:
जेनेवा. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना महामारी (Coronavirus) को लेकर एक बार फिर चिंता जताई है. WHO प्रमुख डॉ. टेड्रोस एडनॉम गेब्रियेसस ने सोमवार को कहा कि विश्व स्तर पर कोरोना संक्रमण के मामलों में 5 गुना बढ़ोतरी हुई है. अब यह संख्या 17.5 मिलियन तक पहुंच गई है. उन्होंने कहा कि तीन महीने पहले जब WHO की एमरजेंसी कमेटी की बैठक हुई थी तब ये मामले उतने नहीं थे. लेकिन तीन महीनों के अंदर ही इसमें 5 गुना अधिक की बढ़ोतरी हो गई है और मृत्यु दर (Death Rate) भी तीन गुना बढ़कर 680,000 तक पहुंच गई है.

टेड्रोस ने कहा, 'कोरोना के इलाज को लेकर हर संभव कोशिश की जा रही है. कई टीके इस समय क्लीनिकल ट्रायल के तीसरे फेज में पहुंच चुके हैं. और हम उम्मीद करते हैं कि ये संक्रमण को रोकने में मदद करेंगे. हालांकि इस समय हम पुष्टि नहीं कर सकते लेकिन इस बात की उम्मीद है कि जल्द ही वैक्सीन तैयार हो जाएगी.' इससे पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना वायरस को लेकर एक चेतावनी जारी करते हुए कहा था कि ये महामारी लंबे समय के लिए रह सकती है. डब्ल्यूएचओ ने कोविड-19 के छह महीने के मूल्यांकन पर आपात कमेटी से मुलाकात के बाद ऐसा कहा. एक बयान में WHO ने कहा कि कमेटी ने कोविड-19 महामारी की लंबी अवधि तक रहने का आकलन किया है.


कोरोना वायरस का संक्रमण दुनिया में फैलते हुए सात महीने हो चुके हैं और इस बीच ये कमेटी चार बार कोरोना वायरस के खतरे के मूल्यांकन को लेकर बैठक कर चुकी है. इस बैठक के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वैश्विक स्तर पर कोविड-19 के खतरे को और ज्यादा निर्धारित किया है. उल्लेखनीय है कि, कोरोना वायरस से दुनिया में लगभग 6,80,000 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं और इस वायरस ने दुनिया के एक करोड़ 80 लाख से ज्यादा लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है.



ये भी पढ़ें:- कोरोना महामारी पर WHO की चेतावनी, लंबे समय तक रह सकती है बीमारी

आपात कमेटी में 17 सदस्य और 12 सलाहकार
कोविड-19 संबंधी आपात कमेटी में 17 सदस्य और 12 सलाहकार हैं. इन सभी लोगों का कहना है कि ये वैश्विक महामारी अभी भी अंतरराष्ट्रीय मामलों में सार्वजनिक स्वास्थ्य आपात की श्रेणी में रखी जाएगी. कई देशों ने इस वायरस को काबू करने के लिए देश में सख्त लॉकडाउन का सहारा लिया और दो से तीन महीनों के लिए लगभग सभी क्षेत्रों में काम को बंद कर दिया लेकिन इससे इन देशों की अर्थव्यवस्था पर गहरा असर पड़ा. कमेटी ने विश्व स्वास्थ्य संगठन से अपील की वो वैक्सीन बनाने में देशों की मदद करें. इसके अलावा संगठन से अपील की कि वो वायरस के दूसरे माध्यमों पर भी ध्यान दें कि क्या जानवरों में कोरोना वायरस संक्रमण हो सकता है और अगर हां तो उसे रोकने के लिए आवश्यक कदम क्या उठाने चाहिए. इसके अलावा कमेटी चाहती है कि वायरस के अन्य घटकों पर ज्यादा जोर दिया जाए जैसे कि संक्रमण के माध्यम, वायरस का घर, वायरस का म्यूटेशन, संक्रमण से बचाव के लिए इम्यूनिटी. ये बैठक विश्व स्वास्थ्य संगठव के मुख्यालय जेनेवा में हुई. इस बैठक में लोग वीडियो लिंक के जरिए शामिल हुए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading