लाइव टीवी

कोरोना से अमेरिका भी बेहाल, न्यूयॉर्क के मेयर बोले- वेंटिलेटर ख़त्म हुए, लोग मारे जाएंगे

News18Hindi
Updated: March 23, 2020, 11:38 AM IST
कोरोना से अमेरिका भी बेहाल, न्यूयॉर्क के मेयर बोले- वेंटिलेटर ख़त्म हुए, लोग मारे जाएंगे
न्यूयॉर्क में वेंटिलेटर ख़त्म होने की कगार पर, मेयर ने दी चेतावनी.

इटली, स्पेन के बाद अमेरिका (USA) भी उस लिस्ट में शामिल हो गया है जहां कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनज़र जल्द ही अस्पताल में मरीजों के उपचार के लिए आवश्यक उपकरणों की कमी महसूस होने लगी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2020, 11:38 AM IST
  • Share this:
न्यूयॉर्क. कोरोना वायरस (Coronavirus) ने दुनिया की महाशक्ति माने जाने वाले देशों की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं की पोल खोल कर रख दी है. इटली, स्पेन के बाद अमेरिका (USA) भी उस लिस्ट में शामिल हो गया है जहां कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनज़र जल्द ही अस्पताल में मरीजों के उपचार के लिए आवश्यक उपकरणों की कमी महसूस होने लगी है. अमेरिका में कोरोना संक्रमण के 34758 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं जबकि देश के सभी बड़े शहरों में लॉकडाउन लागू किया गया है.

न्यूयॉर्क के मेयर ने कहा- वेंटिलेटर ख़त्म हो गए हैं
न्यूयार्क के मेयर बिल डी ब्लासियो (Bill de Blasio) ने कहा कि अमेरिका में कोविड 19 के सबसे अधिक मामले न्यूयार्क में ही सामने आए हैं. उन्होंने समाचार चैनल 'सीएनएन' से कहा, 'साफ कहूं, तो सिर्फ 10 दिन बाद वेंटिलेटर, सर्जिकल मास्क और उन चीजों की कमी हो जाएगी जो अस्पताल प्रणाली को चलाने के लिए आवश्यक हैं.' उन्होंने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से अपील की कि वह तत्काल आवश्यक चिकित्सकीय आपूर्ति के वितरण एवं उत्पादन को बढ़ाने के काम में सेना को लगाएं.

डी ब्लासियो ने कहा, 'यदि हमें आगामी 10 दिन में और वेंटिलेटर नहीं मिले तो लोग मारे जाएंगे.' उन्होंने सचेत किया कि अभी 'और बुरा समय आने वाला' हैं और उन्होंने इस महामारी को 1930 की महामंदी के बाद का सबसे बड़ा घरेलू संकट करार दिया. मेयर ने संसद से कहा, 'विमानन कंपनियों को आर्थिक मदद देने के बारे में अभी भूल जाइए. लोगों को आर्थिक मदद दीजिए. अस्पतालों को आर्थिक मदद दीजिए. शहरों, राज्यों और काउंटी को आर्थिक मदद दीजिए.'



किसी को कोरना जांच से वंचित नहीं करेंगे:ट्रंप
उधर अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि भारत समेत अन्य देशों के अवैध और बिना दस्तावेज वाले आव्रजकों को कोरोना वायरस की जांच से वंचित नहीं किया जाएगा. अमेरिका में मौजूदा समय में 1.1 करोड़ ऐसे आव्रजक हैं जिनके पास दस्तावेज नहीं हैं. इनमें से हजारों ऐसे लोग हैं जो भारत और दक्षिण एशिया से हैं. जॉन हॉपकिन्स कोरोना वायरस ट्रेकर के अनुसार चीन के वुहान शहर से उभरा यह वायरस अब तक दुनिया भर में 14, 641 लोगों की जान ले चुका है और दुनिया के 173 देशों और क्षेत्रों के 3,36,000 लोग इससे संक्रमित हैं.

ट्रंप ने व्हाइट हाउस के संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'हम अवैध लोगों की जांच करेंगे क्योंकि यह बेहद जरूरी है और हम उस व्यक्ति को वहां नहीं भेजेंगे, जहां हम उन्हें भेजने वाले थे, चाहे कोई देश हो या कोई स्थान.' उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने कहा कि गृह सुरक्षा मंत्रालय इस मामले पर निगरानी रख रहा है. ट्रंप ने कहा कि बिना दस्तावेज वाले श्रमिकों की भी जांच होगी.

तीन लाख तीस हज़ार से ज्यादा कोरोना संक्रमण के मामले
विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक दुनिया भर में 169 देशों में कम से कम तीन लाख तीस हज़ार से ज्यादा लोगों में वायरस से संक्रमण की पुष्टि हुई जिनमें से मरने वालों की तादाद बढ़कर 14,000 के पार पहुंच गई है. भारत सहित दुनिया के कई देशों में कोरोना वायरस को फैलने से रोकने लिए रविवार को करीब एक अरब लोग घरों में बंद हैं. उधर इटली में रविवार को 651 और संक्रमितों की मौत हो गई. इसके साथ ही कोरोना वायरस संक्रमण से मौत के मामले में इटली दुनिया में करीब 5500 मौतों के साथ सबसे ऊपर पहुंच गया है.

 

ये भी पढ़े:

166 सालों में पहली बार बंद हुई भारतीय यात्री ट्रेनें, जानें ये क्यों जरूरी था

जानें लॉकडाउन में आप क्या कर सकते हैं और क्या नहीं

कोरोना वायरस से जंग में दक्षिण कोरिया सबसे आगे, काम कर रहा ये तरीका

पहले ही कोरोना की भविष्यवाणी कर चुके वैज्ञानिक ने बताया, मारे जाएंगे 16 करोड़ से ज्यादा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए अमेरिका से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 23, 2020, 11:37 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर