• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • US Violence: बराक ओबामा बोले- कैपिटल बिल्डिंग में हुई हिंसा देश के लिए 'अपमान और शर्मिंदगी' का पल

US Violence: बराक ओबामा बोले- कैपिटल बिल्डिंग में हुई हिंसा देश के लिए 'अपमान और शर्मिंदगी' का पल

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा (फोटो सौ. रॉयटर्स)

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा (फोटो सौ. रॉयटर्स)

अमेरिका (America) के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा (Barack Obama) ने कैपिटल बिल्डिंग में हुई हिंसा को लेकर डोनाल्ड ट्रंप पर हमला किया है. उन्होंने इसे देश के लिए 'बेहद अपमान और शर्मिंदगी' का पल बताया.

  • Share this:
    वाशिंगटन. अमेरिका (America) के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा (Barack Obama) ने कैपिटल बिल्डिंग में हिंसा भड़काने के लिए निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर तीखा प्रहार करते हुए कहा कि यह देश के लिए 'बेहद अपमान और शर्मिंदगी' का पल है. यूएस कैपिटल में बुधवार को हजारों ट्रंप समर्थक दंगाइयों के घुसने और संसद के संयुक्त सत्र को बाधित करने के बाद पूर्व राष्ट्रपति ओबामा का यह बयान आया है. घटना के वक्त संसद का संयुक्त सत्र चल रहा था जिसमें नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन की जीत की पुष्टि होनी थी. ओबामा ने एक बयान में कहा, 'इतिहास कैपिटल में हुई आज की हिंसा की घटना को याद रखेगा, जिसे वैध चुनावी नतीजे के बारे में लगातार निराधार झूठ बोलने वाले एक निवर्तमान राष्ट्रपति ने भड़काया. यह अमेरिका के लिए बेहद अपमान और शर्म की बात है.' पूर्व राष्ट्रपति ओबामा ने कहा, 'लेकिन, अगर हम ऐसा कहेंगे कि यह एकदम अचानक हुई घटना है तो हम खुद से मजाक कर रहे होंगे.'

    ओबामा ने रिपब्लिकन पार्टी और इसके मीडिया समर्थकों पर भी हमला करते हुए कहा कि वो राष्ट्रपति चुनावों में जो बाइडन की जीत को लेकर अपने समर्थकों से सच छुपाते रहे हैं. अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश ने कहा कि वह और उनकी पत्नी ने पूरा घटनाक्रम देखा. उन्होंने कहा, 'यह सब दिल तोड़ने वाला है. यह कैसे किसी 'बनाना रिपब्लिक (कमजोर लोकतंत्र) में चुनाव परिणाम को विवादित बना दिया जाता है, हमारे लोकतांत्रिक गणराज्य में नहीं. चुनाव के बाद से ही कुछ नेताओं के अमार्यदित व्यवहार, हमारी संस्थाओं, हमारी परंपराओं और कानून लागू करने वाली हमारी एजेंसियों के प्रति अनादर के भाव से मैं हतप्रभ हूं.'



    ये भी पढ़ें: 05 प्वाइंट में समझें अमेरिका में ट्रंप समर्थकों ने क्यों की हिंसा

    पूर्व राष्ट्रपति बिल क्लिंटन ने इसे अप्रत्याशित घटना बताते हुए कहा, ''यह हमारे संविधान, हमारे देश, हमारी संसद पर हमला है. पिछले कुछ समय से चलाये गये झूठे अभियान से आज यह दिन देखने को मिला है. हमें निश्चित रूप से आज की हिंसा को भुलाकर आगे बढ़ना होगा और अपने संविधान का सम्मान करना चाहिए.'' पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा, ''देश के 'आतंकियों ने अमेरिका के लोकतंत्र पर हमला किया और सत्ता के शांतिपूर्ण हस्तांतरण की प्रक्रिया को बाधित किया.'' उन्होंने कहा कि हमें फिर से कानून का राज स्थापित करना होगा और उन्हें जवाबदेह बनाना होगा. लोकतंत्र संवेदनशील है. हमारे नेताओं को इसकी रक्षा करने की जिम्मेदारी लेनी होगी. राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रह चुके रिपब्लिकन नेता जेब बुश ने आरोप लगाया कि ट्रंप ने इस हिंसा के लिए लोगों को उकसाया.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज