लाइव टीवी

दुनियाभर में मीडिया ने की पाक प्रायोजित आतंकवाद की अनदेखी-अमेरिकी संसद में भारतीय पत्रकार

भाषा
Updated: October 23, 2019, 7:18 PM IST
दुनियाभर में मीडिया ने की पाक प्रायोजित आतंकवाद की अनदेखी-अमेरिकी संसद में भारतीय पत्रकार
भारतीय पत्रकार आरती टीकू सिंह ने अमेरिकी संसद में सांसदों को जवाब दिए (फोटो क्रेडिट- ट्विटर)

भारतीय पत्रकार (Indian Journalist) आरती टीकू ने अमेरिकी संसद में कहा कि वैश्विक मीडिया (International Media) ने पिछले 30 वर्ष में पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित आतंकवाद (Pakistan Funded Terrorism) को पूरी तरह नजरअंदाज किया है.

  • Share this:
वॉशिंगटन. कश्मीर (Kashmir) में मानवाधिकार (Human Rights) संबंधी स्थिति पर चर्चा के दौरान एक अमेरिकी समिति के समक्ष एक भारतीय पत्रकार ने कहा कि वैश्विक मीडिया (International Media) ने पिछले 30 वर्ष में पाकिस्तान (Pakistan) द्वारा प्रायोजित आतंकवाद को पूरी तरह नजरअंदाज किया है.

भारतीय पत्रकार (Indian Journalist) आरती टीकू सिंह के इस बयान पर अमेरिकी सांसद (American MP) इल्हान उमर ने तीखी प्रतिक्रिया दी और उनकी पत्रकारिता की निष्पक्षता पर सवाल उठाए. इस आलोचना के बाद आरती टीकू सिंह ने इल्हान पर ‘‘पक्षपातपूर्ण’’ (Biased) होने का आरोप लगाया. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि कांग्रेस की सुनवाई ‘‘पूर्वाग्रह से ग्रस्त, पक्षपातपूर्ण, भारत के खिलाफ और पाकिस्तान के समर्थन’’ में है.

'पाक के कश्मीर में इस्लामी जिहाद को बढ़ावा देने को मीडिया ने किया नज़रअंदाज'
कांग्रेस के आमंत्रण पर उसके सामने गवाही के लिए अमेरिका पहुंची आरती टीकू सिंह ने कहा, ‘‘संघर्ष के इन 30 वर्ष में पाकिस्तान द्वारा कश्मीर में इस्लामी जिहाद और आतंकवाद को दिए गए बढ़ावे को दुनिया की मीडिया  ने पूरी तरह नजरअंदाज किया. दुनिया में कोई मानवाधिकार कार्यकर्ता और कोई प्रेस नहीं है, जिसे लगता हो कि कश्मीर में पाकिस्तानी आतंकवाद के पीड़ितों के बारे में बात करना और लिखना उनका नैतिक दायित्व है.’’

उमर ने आरती टीकू सिंह की आलोचना करते हुए कहा कि जब प्रेस सरकार का मुखपत्र बन जाता है, तो यह उसकी सबसे खराब स्थिति होती है.

समिति के मुस्लिम सदस्यों ने लगाए आरती टीकू सिंह पर आरोप
आरती टीकू सिंह ने दक्षिण एशिया में मानवाधिकार पर कांग्रेस में सुनवाई के दौरान प्रतिनिधि सभा की विदेशी मामलों की समिति की ‘एशिया, प्रशांत एवं निरस्त्रीकरण’ उपसमिति के अध्यक्ष ब्रैड शरमन से कहा, ‘‘यह बहुत अनुचित है.’’
Loading...

प्रतिनिधि सभा के दो मुस्लिम सदस्यों में से एक उमर ने आरती टीकू सिंह पर कहानी के आधिकारिक पक्ष का प्रतिनिधित्व करने का आरोप लगाया, उनकी पत्रकारिता की निष्पक्षता पर सवाल उठाए तथा उन्हें बोलने नहीं दिया.

उमर ने उनसे कहा कि एक पत्रकार का काम जो कुछ भी हो रहा है, उसके बारे में वस्तुनिष्ठ सच पता करना चाहिए और लोगों को इसके बारे में बताना चाहिए.

'सिंह ने दिया जवाब, पाकिस्तानी आतंकियों ने कश्मीरी मुस्लिमों को पीड़ित किया'
उमर ने कहा, ‘‘आपके पास बड़ी संख्या में पाठक हैं और आप पर सही खबर देने की बड़ी जिम्मेदारी है. मैं अवगत हूं कि रिपोर्टिंग में बात को जिस प्रकार बताया जाता है, वह सच्चाई को तोड़-मरोड़ सकता है. मुझे यह भी पता है कि कहानी का केवल आधिकारिक पहलू साझा करके इसे किस प्रकार सीमित किया जा सकता है. प्रेस जब सरकार का मुखपत्र होती है तो यह उसकी सबसे खराब स्थिति है.’’

उमर ने कहा, ‘‘आपने अविश्वसनीय एवं संदिग्ध दावा किया कि कश्मीर में भारत सरकार की कार्रवाई मानवाधिकारों के लिए अच्छी है. यदि यह मानवाधिकार के लिए अच्छा है, तो गोपनीय तरीके से क्या होता होगा.’’ आरती टिकू सिंह ने कहा, ‘‘कश्मीर में मारे गए कश्मीरी मुसलमानों की संख्या बहुत है और पाकिस्तानी आतंकवादियों ने उन्हें बहुत पीड़ित किया है.’’

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान की नापाक हरकत, फिल्मों में आइटम नंबर करा भारत को कर रहा बदनाम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 6:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...