Home /News /world /

अमेरिका में पाकिस्तान के नए दूत पर क्यों है विवाद, जानें क्या हो सकता है असर

अमेरिका में पाकिस्तान के नए दूत पर क्यों है विवाद, जानें क्या हो सकता है असर

पाक अधिकृत कश्मीर के प्रेसिडेंट रह चुके मसूद खान को अमेरिका का नया दूत नियुक्त किया है. (तस्वीर-firstpost)

पाक अधिकृत कश्मीर के प्रेसिडेंट रह चुके मसूद खान को अमेरिका का नया दूत नियुक्त किया है. (तस्वीर-firstpost)

Sardar Masood Khan Pak's New envoy to USA: मसूद खान की नियुक्ति की दक्षिण एशिया के कुछ एक्सपर्ट्स ने आलोचना की है. दरअसल आंतकवाद को खुला सपोर्ट करने के बावजूद पाकिस्तान के साथ संबंध रखने के अमेरिकी रवैये की भी आलोचना हो रही है. कई एक्सपर्ट्स ने मसूद खान की नियुक्ति की यह कहकर आलोचना की है कि ' खान एक खतरनाक अतिवादी हैं और इस्लामिक अतिवादियों के साथ काम करने का उनका पुराना इतिहास है.'

अधिक पढ़ें ...

    इस्लामाबाद. बीते 5 नवंबर को पाकिस्तान (Pakistan) ने अमेरिका (USA) का नया दूत सरदार मसूद खान (Sardar Masood Khan) को नियुक्त कर दिया था. दरअसल वर्तमान दूत असद मजीद खान का कार्यकाल जनवरी 2022 में पूरा हो रहा है. मसूद खान की नियुक्ति की दक्षिण एशिया के कुछ एक्सपर्ट्स ने आलोचना की है. दरअसल आंतकवाद को खुला सपोर्ट करने के बावजूद पाकिस्तान के साथ संबंध रखने के अमेरिकी रवैये की भी आलोचना हो रही है. कई एक्सपर्ट्स ने मसूद खान की नियुक्ति की यह कहकर आलोचना की है कि ‘ खान एक खतरनाक अतिवादी हैं और इस्लामिक अतिवादियों के साथ काम करने का उनका पुराना इतिहास है.’

    इसके अलावा मसूद खान की नियुक्ति के लिए इमरान खान प्रशासन पर भी निशाना साधते हुए कहा गया है- ये लगातार खतरनाक होता पाकिस्तानी प्रशासन है जो इस्लामिक विचारधारा को समर्थन देने और उसके साथ मिलकर काम कर रहा है. इनमें अमेरिका में मौजूद इस्लामिक विचारधारा के भी लोग हैं.

    अफगानिस्तान में तालिबान की जीत का जश्न मना रहा है पाकिस्तान
    अफगानिस्तान से अमेरिका के हटने के बाद पाकिस्तान अपनी जीत का उत्सव मना रहा है. जबकि अफगानिस्तान में 20 साल के अमेरिकी अभियान के दौरान वो पार्टनर के रूप में खुद को दिखाता रहा है. और अब वो तालिबान को सभी मदद मुहैया करवा रहा है. अमेरिका के साथ अपने संबंधों को बेहतर बनाए रखना हमेशा से पाकिस्तानी सरकार के मुख्य एजेंडा में शामिल रहा है. शायद पाकिस्तान सोच रहा है कि अफगानिस्तान की उसकी विजय का सबसे बेहतर उत्सव ये होगा कि वो आतंकियों को समर्थन करने वाले एक व्यक्ति को वाशिंगटन भेज दे.

    ये भी पढ़ें: सूडान में एक बार फिर सत्ता संभालेंगे PM अब्दल्ला हमदोक, सेना के साथ सहमति

    कौन हैं मसूद खान
    मसूद खान का ताल्लुक पाक अधिकृत कश्मीर से है. वो एक रिटायर्ड डिप्लोमैट हैं. साल 2016 में पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने उन्हें पाक अधिकृत कश्मीर का 27वां प्रेसिडेंट बनाया था. रिटायरमेंट से पहले संयुक्त राष्ट्र में मसूद खान दो बार पाकिस्तान के स्थाई प्रतिनिधि रह चुके हैं. रिटायरमेंट के बाद वो पाकिस्तान के रणनीतिक अध्य्यन केंद्र के हेड रहे. एक्सपर्ट्स का ये कहना है कि अब मसूद खान को अमेरिका का दूत बनाकर पाकिस्तान ने साबित कर दिया है कि वो आतंवाद को बढ़ावा देना चाहता है.

    कश्मीर पर अनर्गल प्रलाप करते रहे हैं मसूद खान
    मसूद खान के सेलेक्शन को लेकर नई दिल्ली और वाशिंगटन के एक खेमे में भौंहें तनी दिख रही हैं. और ये एक बेहतर कारण के लिए है. दरअसल मसूद खान पाकिस्तान द्वारा कश्मीर की मांग को रखने के अगुवा लोगों में रहे हैं. जबकि इतिहास और लीगन नियम कश्मीर के मसले पर पाकिस्तान का सपोर्ट नहीं करते हैं. वो लगातार कश्मीर में जनमतसंग्रह की मांग करते रहे हैं.

    (CHRISTINE FAIR का ये लेख यहां क्लिक कर पूरा पढ़ा जा सकता है. लेखक फाइटिंग टू द इंड और इन दियर ओन वर्ड्स नाम की किताबें लिख चुके हैं. लेख में व्यक्त विचार उनके निजी हैं. ये विचार न्यूज़18 के विचारों का प्रतिनिधित्व नहीं करते.)

    Tags: Imran khan, Pakistan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर