पाकिस्तान में विपक्षी नेता ने कहा- इमरान सरकार आटा और चावल का भाव मालूम करें

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान (फाइल फोटो)

पाकिस्तान के पीएम इमरान खान (फाइल फोटो)

Economic Slowdown in Pakistan: पकिस्तान के सांसद सिराजुल हक (Opposition Leader of Pakistan) ने प्रधानमंत्री इमरान खान (Prime Minister Imran Khan) पर निशाना साधते हुए रविवार को टिप्पणी कि जो लोग अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने का दावा करते हैं उन्हें आटे दाल का भाव मालूम करना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 7, 2020, 3:38 PM IST
  • Share this:

इस्लामाबाद. कोरोना के कारण पटरी से उतर चुकी पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था (Economic Slowdown in Pakistan) पर पकिस्तान के सांसद सिराजुल हक (Opposition Leader of Pakistan) ने प्रधानमंत्री इमरान खान (Prime Minister Imran Khan) पर निशाना साधते हुए रविवार को टिप्पणी कि जो लोग अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने का दावा करते हैं उन्हें आटे दाल का भाव मालूम करना चाहिए. जमात-ए-इस्लामी के प्रमुख सिराजुल हक ने कहा कि पाकिस्तान में हरीक-ए-इंसाफ की सरकार गरीबी से जूझ रहे लोगों के लिए बुरा सपना बन गई है. डॉन न्यूज ने रविवार को एक बयान में हक के हवाले से कहा कि जो लोग अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने का दावा करते हैं उन्हें आटा और दालों की कीमत का पता लगाना चाहिए. उन्होंने आगे यह भी कहा कि पाकिस्तान में बेरोजगारी बढ़ने के कारण लाखों लोग जैसे श्रमिक और मजदूर सड़कों पर आ गए हैं.

पकिस्तान में बेरोजगारी में हुई बढ़ोतरी

इस साल जुलाई में पाकिस्तान में बेरोजगारों की संख्या 6.65 मिलियन पहुँच गई थी. पकिस्तान की सरकार द्वारा 2020-2021 के सालाना प्लान के मुताबिक पाकिस्तान में दुनिया की 9वीं सबसे बड़ी श्रम शक्ति है जिसमें हर साल बढ़ोत्तरी हो रही है. पकिस्तान में बेरोजगारलोगों की संख्या में में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है विशेषकर बेरोजगार ग्रेजुएट्स की संख्या में. डिग्री-धारकों के बीच बेरोजगारी दर अन्य बेरोजगारों की तुलना में लगभग तीन गुना अधिक है। इसका कारण प्रदान की जा रही शिक्षा और अर्थव्यवस्था द्वारा नए ग्रेजुएट्स को जिस दर पर नौकरी दी जानी है उसके बीच असंतुलन है.

ये भी पढ़ें:  अमेरिका में प्लेन ने हाइवे पर की इमरजेंसी लैंडिंग, कार से टकराया, देखें VIDEO
UK: क्वीन एलिजाबेथ को सबसे पहले लगेगा टीका, मंगलवार से होगा मास वैक्सीनेशन

डुका न्यूज ने कहा कि हक का मानना है कि स्टील मिलों से लेकर पाकिस्तानी रेलवे और पीआईए वेंटीलेटर तक खराब हो गए हैं. इसके साथ पकिस्तान की कानून व्यवस्था भी बहुत खराब हो गई है।फिलहाल में कोरोना महामारी में कोरोना के 7 रोगियों की ऑक्सीज़न की कमी के कारण मृत्यु हो गई है. इस घटना पर पकिस्तान सरकार की निंदा करते हुए सिराजुल हक़ ने कहा कि इन मरीजों की मृत्यु पीटीआई (PTI) प्रांतीय सरकार की नाक के नीचे हुई.पकिस्तान की अर्थव्यवस्था की यह स्थिति कोरोना से पहले से ही खराब स्थितियों से गुजर रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज