लाइव टीवी

कोरोना के खिलाफ जंग में हार गए ओसामा, कहा था, 'जिंदगी-मौत अल्‍लाह के हाथ'

News18Hindi
Updated: March 23, 2020, 12:29 PM IST
कोरोना के खिलाफ जंग में हार गए ओसामा, कहा था, 'जिंदगी-मौत अल्‍लाह के हाथ'
पाकिस्‍तान के डॉ. ओसामा ईरान से आने वाले जायरीन की स्‍क्रीनिंग के दौरान कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए थे. फोटो साभार/ट्विटर

परिवार की ओर से बताया गया है क‍ि करीब एक सप्‍ताह पहले डॉ. ओसामा ने एफसीपीएस पार्ट वन की परीक्षा भी पास कर ली थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2020, 12:29 PM IST
  • Share this:
इस्‍लामाबाद. उत्तरी पाकिस्तान (Pakistan) के गिलगित-बाल्टिस्तान (Gilgit-Baltistan) में युवा डॉक्टर ओसामा रियाज की मरीजों की स्क्रीनिंग करते समय कोरोनरी वायरस (Coronavirus) के संक्रमण से मौत हो गई. डॉ. ओसामा रियाज में कुछ दिन पहले ही कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई थी.

गिलगित-बाल्टिस्तान (Gilgit-Baltistan) में कोरोना से होने वाली यह पहली मौत है. गिलगित-बाल्टिस्तान के सूचना विभाग ने 'उर्दू न्‍यूज' से उनकी मृत्यु की पुष्टि करते हुए कहा कि 'कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में अहम भूमिका निभाने वाले डॉ. ओसामा रियाज कोरोना वायरस के खिलाफ इस जंग में जिंदगी की बाजी हार गए. उन्हें राष्ट्रीय नायक का दर्जा दिया जाएगा.'

देश के नायक के खिताब से नवाजा जाएगा
डॉ. ओसामा का संबंध गिलगित-बाल्टिस्तान के इलाके चलास से था. वह गिलगित में डिस्ट्रिक्‍ट हेड क्‍वार्टर अस्‍पताल में शुक्रवार की रात से ही उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी. उनका इलाज जारी था. उनकी बिगड़ती हालत को देखते हुए उन्‍हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. वह गिलगित में जायरीन की स्‍क्रीनिंग की ड्यूटी पर तैनात थे. इसी दौरान वह खुद भी कोरोना वायरस के शिकार हो गए. गिलगित-बाल्टिस्तान सरकार के प्रवक्ता फैजुल्लाह फिराक ने कहा कि युवा डॉक्‍टर ओसामा रियाज ईरान और अन्य क्षेत्रों से आने वाले जायरीन की स्‍क्रीनिंग कर रहे थे. वहीं वह इस वायरस से संक्रमित हो गए.



एक सप्‍ताह पहले दी थी परीक्षा
वह गिलगित-बाल्टिस्तान के स्‍वास्‍थ्‍य विभाग में करीब डेढ़ साल पहले डॉक्‍टर के तौर पर नियुक्‍त हुए थे. परिवार की ओर से बताया गया है कि करीब एक सप्‍ताह पहले डॉ. ओसामा ने एफसीपीएस पार्ट वन की परीक्षा भी पास कर ली थी.

कहा था 'जिंदगी और मौत अल्‍लाह के हाथ है'
कुछ दिन पहले जब उनसे कहा गया था कि वह एहतियात से काम लें और वायरस से बचाव की हर कोशिश करें तो डॉ. ओसामा का जवाब था कि जिंदगी और मौत अल्‍लाह के हाथ में है. यह वायरस कि इससे पहले समाज में फैल जाए हमें इसकी रोकथाम की जी-तोड़ कोशिश करनी चाहिए.

ये भी पढ़ें - पाकिस्‍तान में कोरोना के 799 मामले, 6 की मौत, शवों को ताबूत में दफनाने का आदेश

                 कोरोना से मरने वालों का नहीं हो पा रहा है अंतिम संस्कार, वेटिंग लिस्ट में लाश

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 23, 2020, 12:29 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर