लाइव टीवी

तूफान बुलबुल की वजह से 22 की मौत, बांग्लादेश में कमजोर पड़ा तूफान

News18Hindi
Updated: November 11, 2019, 6:05 AM IST
तूफान बुलबुल की वजह से 22 की मौत, बांग्लादेश में कमजोर पड़ा तूफान
बांग्लादेश (Bangladesh) स्वास्थ्य निदेशालय के स्वास्थ्य आपातकाल संचालन केंद्र और नियंत्रण कक्ष ने रविवार को आठ लोगों के मौत की पुष्टि की.

बांग्लादेश (Bangladesh) स्वास्थ्य निदेशालय के स्वास्थ्य आपातकाल संचालन केंद्र और नियंत्रण कक्ष ने रविवार को आठ लोगों के मौत की पुष्टि की.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2019, 6:05 AM IST
  • Share this:
कोलकाता/ ढाका. चक्रवात बुलबुल (Bulbul) के तटीय क्षेत्रों से टकराने के बाद बांग्लादेश (Bangladesh) और पश्चिम बंगाल (West bengla) में कम से कम 22 लोग मारे गए और चक्रवात बुलबुल ने अपनी जागृत मूसलाधार बारिश से कई इलाकों को तबाह कर दिया.

बांग्लादेश में रविवार को चक्रवात ‘बुलबुल’ के कारण कम से कम 22 लोगों की मौत हो गई और इस चक्रवात से होने वाली तबाही की आशंका के मद्देनजर निचले इलाकों में रह रहे 21 लाख से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.

चक्रवात के कारण हवाएं 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने लगी. निजी समाचार चैनलों ने अनाधिकारिक सूत्रों के हवाले से बताया कि चक्रवात बुलबुल के कारण दस लोगों की जान चली गई. बहरहाल, आपदा प्रबंधन मंत्रालय ने केवल आठ लोगों की मौत की पुष्टि की.

आपदा प्रबंधन मंत्रालय के सचिव शाह कमाल ने बताया, 'हमारे तटों पर चक्रवात के पहुंचने के कारण आठ लोगों की मौत हो गई जिनमें से अधिकतर लोगों की मौत छह तटीय जिलों में घर ढहने और पेड़ गिरने के कारण हुई.' अधिकारियों ने बताया कि चक्रवात के कारण सैकड़ों घरों को भी नुकसान पहुंचा है.

बांग्लादेश के अधिकारी बंगाल की खाड़ी के उत्तरी हिस्से में मछलियां पकड़ने की नौकाओं और ट्रॉलरों पर रोक के साथ ही नदियों में नौकाओं के आवागमन पर पहले ही अस्थायी रोक लगा चुके हैं.

सैकड़ों मकान और कई हेक्टेयर फसल तबाह
स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि चक्रवात के दौरान पेड़ों के उखड़ने के कारण खुलना के दिघालिया और डाकोप उपजिले में दो लोगों की मौत हो गई जबकि पतुआखाली में एक घर पर पेड़ गिरने के कारण एक बुजुर्ग व्यक्ति की मौत हो गई. चक्रवात के कारण सैकड़ों मकान और कई हेक्टेयर फसल तबाह हो गई है.
Loading...

अधिकारियों ने बताया कि चक्रवात के कारण जितनी तबाही होने की आशंका थी, उससे कम नुकसान हुआ है.

चक्रवात कमजोर हो गया है
बांग्लादेश के मौसम विज्ञान विभाग ने रविवार को एक विशेष बुलेटिन में बताया कि चक्रवात कमजोर हो गया है और इसने भारत के पश्चिम बंगाल और बांग्लादेश के दक्षिण-पश्चिम खुलना तट से 'गुजरना शुरू कर' दिया है. आपदा मंत्रालय के सचिव कमाल ने बताया कि शुरुआत में 5000 आश्रय गृहों में 14 लाख लोगों को रखने की योजना थी लेकिन शनिवार आधी रात को यह संख्या बढ़कर 21 लाख हो गई.

चक्रवात के कारण 130 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं. यह चक्रवात ऐसे समय में आया है जब पूर्णिमा आने वाली है. पूर्णिमा में समुद्र का जलस्तर बढ़ जाता है. ऐसे में चक्रवात आने के कारण तबाही की आशंका पैदा हो गई. चक्रवात गंगासागर के किनारे टकराया और यह ‘खुलना’ क्षेत्र की ओर बढ़ा जिसमें सुंदरवन भी आता है.

यह भी पढ़ें: ‘बुलबुल’ तूफान से ओडिशा में तबाही, भारी बारिश से पेड़ और बिजली के खंभे उखड़े

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बांग्लादेश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 6:02 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...