पाक की आतंकवाद रोधी अदालत का आदेश, मसूद अजहर को 18 जनवरी तक गिरफ्तार किया जाए

पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड मसूद अजहर (फाइल फोटो)

पुलवामा हमले का मास्टरमाइंड मसूद अजहर (फाइल फोटो)

Arrest Masood Azhar By 18 January 2021: पाकिस्तान (Pakistan) की आतंकवाद रोधी अदालत (Anti Teroorism Court) ने पंजाब पुलिस से कहा है कि संयुक्त राष्ट्र से वैश्विक आतंकवादी के रूप में घोषित जैश-ए-मोहम्मद (Jaish E Mohhamad) के सरगना मसूद अजहर (Masood Azhar) को आतंकी वित्त पोषण से जुड़े मामले में 18 जनवरी तक गिरफ्तार किया जाना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2021, 6:31 PM IST
  • Share this:
लाहौर. पाकिस्तान (Pakistan) की आतंकवाद रोधी अदालत (Anti Teroorism Court) ने पंजाब पुलिस से कहा है कि संयुक्त राष्ट्र से वैश्विक आतंकवादी के रूप में घोषित जैश-ए-मोहम्मद (Jaish E Mohhamad) के सरगना मसूद अजहर (Masood Azhar) को आतंकी वित्त पोषण से जुड़े मामले में 18 जनवरी तक गिरफ्तार किया जाना चाहिए.

आतंकवाद रोधी अदालत ने जारी किया फरमान

अजहर के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट आतंकवाद रोधी अदालत एटीसी गुजरांवाला ने जारी किया है.

अदालत के एक अधिकारी ने पीटीआई-भाषा से शनिवार को कहा कि एटीसी गुजरांवाला न्यायाधीश नताशा नसीम सुप्रा ने शुक्रवार को हुई सुनवाई के दौरान सीटीडी को जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को 18 जनवरी तक गिरफ्तार करने और अदालत में पेश करने का निर्देश दिया.
आतंकी अजहर पर ये हैं आरोप

अजहर आतंकी वित्तपोषण और आतंकी सामग्री के प्रचार-प्रसार के आरोपों का सामना कर रहा है. मसूद अज़हर आतंकी संगठन जैश.ए.मोहम्मद का स्थापक और नेता है- जैश-ए-मोहम्मद मुख्यतः पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में सक्रिय एक आतंकी संगठन है.

ये भी पढ़ेंः पाकिस्तान में हिंदू महिला टीचर एकता से जबरन इस्लाम कबूल कराया, नाम बदल आयशा रखा



 उ. कोरिया के तानाशाह किम ने मानी अपनी गलती, कहा- आर्थिक प्र​गति में हम पिछड़े

अगर ट्रंप ने तत्काल ‘इस्तीफा’ नहीं दिया तो सदन में उनके खिलाफ महाभियोग लाया जाएगाः पेलोसी

इंडोनेशिया में 50 से अधिक यात्रियों से भरा विमान उड़ान भरने के बाद हुआ लापता

अज़हर ने यह माना था कि १९९३ में वो अल कायदा के सोमालियाई समर्थक संगठन अल इतिहाद अल इस्लामिया के नेताओं से मिलने नैरोबी, केन्या गया था. अल इस्लामिया ने अज़हर के संगठन हरकत उल मुजाहिद्दीन से अपनी गतिविधियों के लिये पैसे और कार्यकर्ता माँगे थे. भारतीय गुप्तचर अधिकारियों के अनुसार वो कम से कम तीन बार गृह-युद्ध से त्रस्त देश सोमालिया जा चुका था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज