PAK : बच्‍ची से दुष्‍कर्म की कोशिश करने वाला गिरफ्तार, बीते 40 दिनों में 18 बच्‍चों को बनाया शिकार

बाल यौन उत्पीड़न के बढ़ते मामलों के मद्देनजर दक्षिण कोरिया ने मौजूद कानून में बदलाव किया
(सांकेतिक तस्वीर)
बाल यौन उत्पीड़न के बढ़ते मामलों के मद्देनजर दक्षिण कोरिया ने मौजूद कानून में बदलाव किया (सांकेतिक तस्वीर)

ताजा मामला एक सात साल की बच्ची का है, जिसके साथ एक अज्ञात व्यक्ति ने रेप की कोशिश की. वहीं सबसे ज्‍यादा पांच रेप के मामले लाहौर के कैंट डिवीजन में दर्ज किए गए,

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2020, 12:07 PM IST
  • Share this:
इस्‍लामाबाद. पाकिस्‍तान (Pakistan) में बच्‍चों के खिलाफ यौन शोषण के मामले रुक नहीं रहे. देश में नाबालिगों के खिलाफ यौन शोषण और हिंसा की घटनाओं में वृद्धि हुई है. 'सिटी 42' में प्रकाशित खबर में पुलिस (Police) रिपोर्ट के हवाले से बताया गया है कि इस साल के पहले 40 दिनों के दौरान 18 बच्चे ज्‍यादती का शिकार हुए थे. ताजा मामला एक सात साल की बच्ची का है, जिसके साथ एक अज्ञात व्यक्ति ने रेप की कोशिश की. वहीं सबसे ज्‍यादा पांच रेप के मामले लाहौर (Lahore) के कैंट डिवीजन में दर्ज किए गए, जिनमें सिटी डिवीजन में दो, सदर डिवीजन में तीन, सिविल लाइंस डिवीजन में तीन, इकबाल टाउन डिवीजन में दो और मॉडल टाउन डिवीजन में तीन मामले दर्ज किए गए.

सीसीटीवी कैमरे पर नजर पड़ते ही आरोपी हुआ फरार
इसके अलावा ताजा मामला हजवेरी टाउन (Hajvery Town) इलाके का है. यहां दिल दहला देने वाली घटना सामने आई. एक सात साल की बच्ची गली में खेल रही थी, तभी पास से गुजर रहे एक अज्ञात व्यक्ति ने उसका रेप करने की कोशिश की, मगर मकान के बाहर लगाए गए सीसीटीवी कैमरे पर नजर पड़ते ही आरोपी बच्‍ची को छोड़कर फरार हो गया.

यौन शोषण के मामले में दोषियों को सार्वजनिक रूप से होगी फांसी
पुलिस ने लड़की के पिता के अनुरोध पर मामला दर्ज किया है और सीसीटीवी फुटेज की मदद से आरोपी की तलाश शुरू कर दी है. पुलिस के मुताबिक बच्‍ची से अश्‍लील हरकत करने वाले वकास नाम के आरोपी को ठोकर नियाज बेग इलाके से गिरफ्तार किया गया है. आरोपी ओकारा का रहने वाला है और हजवेरी ब्लॉक में किराए के मकान में रह रहा है. आरोपी बच्‍ची के साथ अश्लील हरकत करने के बाद मौके से फरार हो गया. गौरतलब है कि नेशनल असेंबली ने सर्वसम्मति से बाल यौन उत्पीड़न के अपराधियों को सार्वजनिक रूप से फांसी देने के प्रस्ताव को मंजूरी दी जा चुकी है, ताकि मासूम बच्चों को इस हैवानियत से बचाया जा सके.



ये भी पढ़ें - PAK : लॉकडाउन में भी लोगों पर लगाया दोगुना जुर्माना, वसूले 2 करोड़, 92 लाख

                PM इमरान की मौजूदगी में बोला मौलाना- औरतों के छोटे कपड़े पहनने की सजा है कोरोना

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज