आतंकी हाफिज सईद ने मिडिएटर बनकर कातिलों की सजा माफ करवाई

सईद ने पुलिस और मृतक के परिजनों के बीच मध्यस्थता में अहम भूमिका निभाई

सईद ने पुलिस और मृतक के परिजनों के बीच मध्यस्थता में अहम भूमिका निभाई

पाकिस्तान की एक अदालत ने पुलिस हिरासत में एक कथित एटीएम चोर को मार डालने के आरोपी सभी तीन पुलिस अधिकारियों को हाफिज सईद की मध्यस्थता के बाद बरी कर दिया

  • Share this:
लाहौर. मुंबई हमलों का मास्टरमाइंड आतंकी हाफिज सईद (Hafiz Saeed ) भले ही पाकिस्तान की जेल में बंद हो लेकिन उसका खौफ कायम है. पाकिस्तान (Pakistan) में हाफिज सईद ने रौब दिखा कर कातिलों की सजा माफ करा दी. आतंकी हाफिज ने परिवारवालों पर ऐसा दबाव बनाया कि उसे अपने बेटे के कातिलों को माफ करने के लिए मजबूर होना पड़ा.

कोर्ट ने आरोपी को बरी किया
बता दें कि पाकिस्तान की एक अदालत ने पुलिस हिरासत में एक कथित एटीएम चोर को मार डालने के आरोपी सभी तीन पुलिस अधिकारियों को हाफिज सईद की मध्यस्थता के बाद बरी कर दिया. अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश जाहिद हुसैन बख्तियार ने कथित एटीएम चोर सलाउद्दीन अयूबी की हत्या के आरोप में तीन पुलिस अधिकारियों महमूदुल हसन, शफात अली और मतलूब हुसैन नाम के पुलिस अधिकारियों को इस सप्ताह बरी कर दिया.

हिरासत में हुई थी मौत 
सईद की ‘इच्छा’ पर अयूबी के परिजनों ने आरोपियों को माफ कर दिया. मानसिक रूप से कमजोर अयूबी की अगस्त में पुलिस हिरासत में कथित यातना के चलते मौत हो गई थी.पुलिस ने उसे एटीएम से रुपये चुराने के आरोप में गिरफ्तार किया था. अयूबी की हिरासत में हुई मौत से देश में आक्रोश पैदा हो गया था.



लखपत जेल में बंद है आतंकी हाफिज़


जेल में हाफिज़ के साथ हुई बैठक
सईद ने पुलिस और मृतक के परिजनों के बीच मध्यस्थता में अहम भूमिका निभाई. मुंबई हमलों का मास्टरमाइंड सईद आतंकवाद को वित्तीय मदद देने के आरोप में 17 जुलाई से यहां उच्च सुरक्षा वाली कोट लखपत जेल में बंद है. उसने मृतक के परिजनों से मुलाकात की और उन्हें आरोपी पुलिसकर्मियों को माफ करने के लिए तैयार किया. इस संबंध में एक आधिकारिक सूत्र ने बताया कि आरोपी पुलिसकर्मियों, उनके अधिकारियों और मृतक के परिजनों ने जेल में सईद के साथ कई बैठकें कीं जिसने उनके बीच समझौता करा दिया.

हाफिज़ ने ऐसे बनाया दबाव
सरकार के एक अधिकारी ने बताया कि सईद ने पीड़ित परिवार के सामने तीन विकल्प रखे कि या तो वे खून के बदले आरोपी पुलिसकर्मियों से धन ले लें, या अल्लाह के नाम पर उन्हें माफ कर दें या फिर कानूनी लड़ाई पर आगे बढ़ें. परिवार ने पुलिसकर्मियों को माफ करने का विकल्प चुना.पीटीआई ने अयूबी के पिता से संपर्क किया तो उन्होंने पुष्टि की कि परिवार ने सईद की ‘इच्छा’ पर पुलिसकर्मियों को माफ कर दिया है. सूत्र ने कहा कि इससे पता चलता है कि सईद का पाकिस्तान में कितना प्रभाव है.

ये भी पढ़ें:

दिल्‍ली में आज सियासी दंगल, अमित शाह से मिलेंगे फडणवीस तो सोनिया गांधी से पवार

नासा की तस्वीरों ने दिखाया सच, पंजाब-हरियाणा में 2900 जगहों पर जल रही पराली
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज