Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    PAK : कब्रों से लाशें निकाल कर खाने वाले दो भाई कोरोना के डर से दोबारा गिरफ्तार

    बेकन की आधे से ज्यादा कैलोरीज सैचूरेटेड फैट से आती है. सैचूरेटेड फैट शरीर में लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन (LDL) या बैड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा देता है और इससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है.
    बेकन की आधे से ज्यादा कैलोरीज सैचूरेटेड फैट से आती है. सैचूरेटेड फैट शरीर में लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन (LDL) या बैड कोलेस्ट्रॉल को बढ़ा देता है और इससे हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है.

    गिरफ्तारी के बाद पुलिस स्टेशन में पत्रकारों से बात करते हुए आरोपी आरिफ ने बच्चे के शव को कब्र से निकाल कर लाने की बात स्‍वीकार की थी.

    • News18Hindi
    • Last Updated: March 27, 2020, 5:41 PM IST
    • Share this:
    इस्‍लामाबाद. पाकिस्‍तान (Pakistan) में लाशों को कब्रों से निकाल कर खाने वाले दो भाई एक बार फिर गिरफ्तार किए गए हैं. 2013 में जिले भक्‍कर मे इन्‍हें मानव शव का मांस खाने केे जुर्म में गिरफ्तार किया गया था. 'उर्दू नया दौर टीवी' की खबर के मुताबिक पंजाब (Punjab) के जिले भक्‍कर (Bhakkar) में मुर्दा इंसानों का मांस खाने वाले इन दो भाइयों को हाल में रिहाई मिली थी. हालांकि अब दोनों को कोरोना के खतरे के मद्देनजर दोबारा कैद कर लिया गया है.

    गोरतलब है कि इन दोनों भाइयों को मौजूदा हालात में खतरे को देखते हुए हिरासत में लिया गया है. जहां एक ओर कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए यह कदम उठाया गया है, वहीं सोशल मीडिया पर लोगों के डर के मद्देनजर यह कार्रवाई की गई है.

    पहले भीख मांग कर पेट भरते थे फिर मानव मांस खाने लगे
    गौरतलब है कि गिरफ्तारी से पहले ये दोनों भाई अविवाहित थे और भीख मांग कर अपना पेट भरते थे. मगर 2011 में महिला का शव इनके घर से पाए जाने पर इन्‍हें कब्रों का अपमान करने और शवों को कब्र से निकालने के जुर्म में इनके खिलाफ थाना दरिया खान में मामला दर्ज हुआ था. दोषियों को एक-एक साल की सजा और दो-दो लाख रुपये का जुर्माने की सजा सुनाई गई थी.
    शवों को कब्र से निकाल कर पकाकर खाते थे दोनों भाई


    हालांकि तब जेल से रिहा होने के बाद दोनों भाइयों ने पिछली घटना को दोहराते हुए मृत लोगों के मांस को पका कर खाना शुरू कर दिया था. पुलिस ने आरोपियों के घर से कड़ाई के अलावा मांस पकाने वाले अन्‍य बर्तन बरामद किए थे. उस समय की मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दोषी मौका पाकर दफनाए हुए शवों को कब्रों से निकाल कर घर ले जाते और उसके जिस्‍म के टुकड़े करके उसे पका कर खाते थे.

    गिरफ्तारी के बाद पुलिस स्टेशन में पत्रकारों से बात करते हुए आरोपी आरिफ ने बच्चे के शव को कब्र से निकाल कर लाने की बात स्‍वीकार की थी. गौरतलब है कि स्‍थानीय लोगों ने दोषियों के घर पर धावा बोला था. उनके घर की दीवार गिरा दी गई थी और दरवाजे तोड़ दिए गए थे. ऐसे में पुलिस प्रशासन की ओर से उन्हें हिरासत में लेने का फैसला किया गया. इस संबंध में महत्वपूर्ण बात यह है कि पाकिस्तान में मानव मांस खाने के संबंध में कोई कानून नहीं है और इन दोनों भाइयों को आतंकवाद और अनुचित शांति के प्रावधानों के तहत सजा दी गई थी.

    ये भी पढ़ें - हुई बड़ी लापरवाही, अब पाकिस्तान के इस्‍लामाबाद में फैल सकता है कोरोना का आतंक

    रिपोर्ट : कोरोना की वजह से पाकिस्‍तान में एक करोड़, 85 लाख लोग बेरोजगार होंगे

     

     
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज