पाकिस्तान: 6 साल में 22 हजार रेप की घटनाएं हुईं दर्ज, सिर्फ 77 लोगों को हुई सजा

पाकिस्तान में हर घंटे 11 रेप की घटनाएं घटती हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

Rapes in Pakistan: पाकिस्तान में पिछले 6 साल के दौरान 22 हजार (Twenty Two Thousand Rapes) से ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं. यहां हर घंटे औसतन 11 बलात्कार (Eleven Rape in an Hour) की घटनाएं घटती हैं. यह भी बताया जाता है कि यहां बहुत सारी रेप की घटनाएं दर्ज नहीं की जाती हैं.

  • Share this:
    इस्लामाबाद. पाकिस्तान में रेप (Rape) की घटनाओं में काफी तेजी देखी जा रही है. कई एजेंसियों द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार पिछले 6 साल के दौरान 22 हजार (Twenty Two Thousand Rapes) से ज्यादा मामले दर्ज किए गए हैं. यहां हर घंटे औसतन 11 बलात्कार (Eleven Rape in an Hour) की घटनाएं घटती हैं. यह भी बताया जाता है कि यहां बहुत सारी रेप की घटनाएं दर्ज नहीं की जाती हैं. इन रिपोर्ट में हैरान करने वाली बात यह है कि सिर्फ 0.3 फीसदी यानि 77 लोगों को ही सजा मिली है. ये आंकड़े पुलिस, कानून और न्याय आयोग, पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग, महिला फाउंडेशन और प्रांतीय कल्याण एजेंसियों से प्राप्त किए गए हैं. देश में रेप की बढ़ती घटनाओं के मद्देनजर इमरान खान सरकार ने एक सख्‍त कानून बनाया है. इस कानून के अनुसार रेपिस्टों को बधिया नंपुसक बना दिया जाएगा.

    इन इलाकों में रेप की घटी ज्यादा घटनाएं

    इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि यह संख्या 60 हजार से ज्यादा हो सकती है. रेप के ज्यादातार मामले दर्ज ही नहीं किए जाते हैं. दुष्कर्म के ज्यादातर मामले बलूचिस्तान, पाक अधिकृत कश्मीर, सिंध और खैबर पख्तूनख्वा में दर्ज किए गए हैं.

    दवा देकर बलात्कारियों को बनाया जाएगा बधिया

    पाकिस्तान की इमरान सरकार ने बलात्कार पर रोक लगाने के लिए बहुत सख्त कानून को मंजूरी दी है. इस कानून के अंतर्गत बलात्कारियों को दवा देकर बधिया भी बनाया जाएगा. पाकिस्तान की कैबिनेट से मंजूरी मिलने के बाद राष्ट्रपति आरिफ अल्वी ने नए दुष्कर्म रोधी अध्यादेश पर हस्ताक्षर कर दिए हैं. इस अध्यादेश में दुष्कर्म के मुकदमों की सुनवाई के लिए विशेष अदालतों का गठन करने का भी प्रावधान है.

    ये भी पढ़ें:  चीन: वुहान में फैले कोरोना की लाइव रिपोर्टिंग पर महिला पत्रकार को 4 साल की जेल

    Game of Thrones के डेवलपर लिन ची का निधन, चाय में जहर देकर की गई हत्या

    राष्ट्रपति कार्यालय ने एक बयान में कहा है कि इस कानून के बाद देश भर में विशेष अदालतों का गठन होगा और उसमें महिलाओं और बच्चों के खिलाफ दुष्कर्म के मामलों की त्वरित सुनवाई होगी. रेप के मामलों की सुनवाई चार महीने में पूरी करनी होगी. एक या एक से अधिक बार रेप किए जाने के दोषियों का बधिया करने का प्रावधान है.