• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • इमरान खान बोले- तालिबान आम नागरिक, US ने अफगानिस्तान में सब गड़बड़ कर दिया

इमरान खान बोले- तालिबान आम नागरिक, US ने अफगानिस्तान में सब गड़बड़ कर दिया

अमेरिकी न्यूज चैनल PBS के पत्रकार जूडी वुड्रूफ को दिए इंटरव्यू में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने ये बातें कही. इस इंटरव्यू का प्रसारण पाकिस्तान में मंगलवार रात को किया गया. (AP)

अमेरिकी न्यूज चैनल PBS के पत्रकार जूडी वुड्रूफ को दिए इंटरव्यू में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने ये बातें कही. इस इंटरव्यू का प्रसारण पाकिस्तान में मंगलवार रात को किया गया. (AP)

इमरान खान (Imran Khan) ने कहा, 'अमेरिका (USA) ने जब इस बात को समझा कि अफगानिस्तान (Afghanistan) की समस्या का सैन्य हल नहीं निकाला जा सकता, तब तक बहुत देर हो चुकी थी. एक समय अफगानिस्तान में अमेरिका के 10 हजार से ज्यादा सैनिक थे. सही मायनों में ये ही वह वक्त था, जब अमेरिका को तालिबान (Taliban) से समझौता करना चाहिए था.'

  • Share this:

    इस्लामाबाद. अफगानिस्तान में आतंकी संगठन तालिबान का प्रभाव बढ़ता जा रहा है. हालात बद से बदतर हो रहे हैं. इस बीच पाकिस्तान (Pakistan) के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने अफगानिस्तान (Afghanistan) के मौजूदा हालात के लिए अमेरिका को ही जिम्मेदार ठहराया है. इमरान खान ने कहा, ‘अमेरिका (USA) ने तालिबान (Taliban) को ठीक से हैंडल नहीं किया. तालिबान आम नागरिक हैं, वो कोई मिलिट्री ड्रेस में नहीं हैं. अमेरिका ये समझ नहीं पाया. यूएस ने वहां सब गड़बड़ कर दिया.’

    अमेरिकी न्यूज चैनल PBS के पत्रकार जूडी वुड्रूफ को दिए इंटरव्यू में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने ये बातें कही. इस इंटरव्यू का प्रसारण पाकिस्तान में मंगलवार रात को किया गया. इमरान खान ने कहा, ‘अफगानिस्तान की समस्या का हल सेना के जरिए नहीं निकाला जा सकता है. मैं शुरू से ही यह कहता आया हूं, लेकिन मेरी बात कभी नहीं सुनी गई. उल्टा मुझे तालिबान खान और अमेरिका विरोधी कहकर संबोधित किया गया.’

    तालिबान ने बॉर्डर पोस्ट से खदेड़ा, अफगान सेना के 46 जवानों ने पाकिस्तान में ली शरण

    अमेरिका से हुई ये गलतियां
    इमरान खान ने कहा, ‘अमेरिका ने जब इस बात को समझा कि अफगानिस्तान की समस्या का सैन्य हल नहीं निकाला जा सकता, तब तक बहुत देर हो चुकी थी. एक समय अफगानिस्तान में अमेरिका के 10 हजार से ज्यादा सैनिक थे. सही मायनों में ये ही वह वक्त था, जब अमेरिका को तालिबान से समझौता करना चाहिए था.’ पाकिस्तान के पीएम ने कहा, ‘राजनीतिक समझौता ही अफगानिस्तान के भविष्य के लिए बेहतर है. यही एकमात्र रास्ता भी है. सच यह है कि अब तालिबान अफगानिस्तान की सरकार में शामिल रहेगा’.

    तालिबान को फंडिंग का आरोप गलत
    इमरान खान ने तालिबान को पाकिस्तान की ओर से फंडिंग मिलने के आरोपों को खारिज किया. उन्होंने कहा, ‘ये बिल्कुल गलत आरोप है. अल कायदा ने जब वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमला किया तो उसमें एक भी पाकिस्तानी नागरिक शामिल नहीं था. उस समय तालिबान का कोई लड़ाका पाकिस्तान में नहीं था. अमेरिका और तालिबान की लड़ाई में 70 हजार से ज्यादा पाकिस्तानी नागरिकों की मौत चुकी है. अफगानिस्तान में चल रहे युद्ध से पाकिस्तान को 150 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है.’

    अफगानिस्तान के साथ पाकिस्तान खेल रहा है डबल गेम, ऐसे कर रहा ब्लैकमेल

    पाकिस्तान पर भी पड़ेगा असर
    पाकिस्तान के पीएम ने कहा, ‘अगर अफगानिस्तान गृह युद्ध की तरफ बढ़ता है, तो इसका असर पाकिस्तान पर भी पड़ेगा. हमारे मुल्क के सामने शरणार्थी समस्या खड़ी हो जाएगी. पहले ही पाकिस्तान में 30 लाख से ज्यादा अफगान शरणार्थी हैं. इनकी संख्या बढ़ने पर हमें परेशानी होगी, हमारे देश की आर्थिक स्थिति ऐसी नहीं है कि शरणार्थी समस्या का सामना कर सकें.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज