चीन को भारत के खिलाफ भड़काने के लिए PAK की नई चाल, RAW पर लगाया ये आरोप

आतंकवाद पर दोहरे रवैये के कारण अमेरिका के नाराज होने के बाद पाकिस्तान अब चीन से नज़दीकी बढ़ा रहा है. उधर, सीमा विवाद और डोकलाम जैसे प्रकरण के सामने आने के बावजूद चीन के भारत के साथ अच्छे रिश्ते हैं.

News18Hindi
Updated: January 12, 2019, 7:05 AM IST
चीन को भारत के खिलाफ भड़काने के लिए PAK की नई चाल, RAW पर लगाया ये आरोप
चीनी दूतावास पर हुए हमले में चार लोगों की मौत हो गई थी. (AP)
News18Hindi
Updated: January 12, 2019, 7:05 AM IST
भारत के खिलाफ पड़ोसी मुल्क चीन को भड़काने के लिए पाकिस्तान ने नई चाल चली है. पाकिस्तान ने दावा किया है कि कराची स्थित चीन के वाणिज्य दूतावास पर हाल में हुए हमले के पीछे भारत का हाथ था. पाकिस्तानी पुलिस ने शुक्रवार को भारत की खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (RAW) यानी 'रॉ' पर नवंबर में कराची स्थित चीन के वाणिज्य दूतावास पर हुए आतंकी हमले में शामिल होने का आरोप लगाया है, जिसे भारत ने मनगढ़ंत और झूठा बताते हुए खारिज कर दिया है.

बता दें कि आतंकवाद पर दोहरे रवैये के कारण अमेरिका के नाराज होने के बाद पाकिस्तान अब चीन से नज़दीकी बढ़ा रहा है. उधर, सीमा विवाद और डोकलाम जैसे प्रकरण के सामने आने के बावजूद चीन के भारत के साथ अच्छे रिश्ते हैं.

दुबई में बोले राहुल गांधी- भारत में साढ़े चार साल से असहिष्णुता, सबको एकजुट करेंगे

एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कराची पुलिस के प्रमुख आमिर शेख ने रॉ को लेकर ये दावे किए. उन्होंने कहा कि गिरफ्तार किए गए लोगों ने तीन हमलावरों की मदद करने की बात कबूली है. तीनों हमलावर हमले के दौरान मारे गए थे.

कराची पुलिस के प्रमुख आमिर शेख ने दावा किया कि हमले की साजिश अफगानिस्तान में बनाई गई. उसे भारत की खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (RAW) की मदद से अंजाम दिया गया.


पाकिस्तान के इस दावे पर प्रतिक्रिया देते हुए नई दिल्ली में विदेश मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, 'हमने पाकिस्तानी मीडिया में कराची पुलिस प्रमुख के भारत पर लगाए गए झूठे आरोपों वाले बयान देखे हैं. हम पूरी तरह से इन मनगढ़ंत और झूठे आरोपों को खारिज करते हैं.'

विदेश मंत्रालय ने कहा, 'इस तरह की आतंकवादी घटनाओं के लिए दूसरों पर उंगली उठाने के बजाय, पाकिस्तान को अपने क्षेत्रों में आतंकवाद और आतंकवाद के बुनियादी ढांचे के खिलाफ विश्वसनीय कार्रवाई करने की जरूरत है.'
Loading...

बता दें कि पिछले साल नवंबर में आधुनिक हथियारों से लैस तीन आतंकियों ने चीन के कांसुलेट में घुसने की कोशिश की थी. पाक सुरक्षाबलों के साथ हुए एनकाउंटर में तीनों आतंकी ढेर हो गए थे. हालांकि इस दौरान दो पुलिस अधिकारियों, दो वीजा आवेदकों की भी जान चली गई थी. विदेशी मिशन में तैनात एक प्राइवेट गार्ड हमले में घायल हो गया था. प्रतिबंधित बलूचिस्तान लिबरेशन आर्मी (BLA) ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी.

चीन का यह मिशन बेहद सुरक्षा वाले इलाके में आता है, फिर भी आतंकी यहां तक कैसे पहुंचे, पाकिस्तान ने इस सवाल का जवाब आज तक नहीं दिया. (PTI इनपुट के साथ)

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर