अपना शहर चुनें

States

पाकिस्तान: आपसी दुश्मनी में चली गोलियां, 3 राहगीरों समेत 5 की मौत

पुलिस मामले की जांच कर रही है (AP)
पुलिस मामले की जांच कर रही है (AP)

Pakistan News: सैयद आलम और अवाल खान लक्की जेल से रिहा होने के बाद अपने घर तजोरी गांव जा रहे थे. इस दौरान उनपर लोगों ने हमला कर दिया. इस घटना में पास से गुजर रहे एक व्यक्ति खादिम और दो अन्य लोगों को कई चोटें आईं और तीनों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 21, 2021, 1:39 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान (Pakistan) के लक्की मारवात (Lakki Marwat) में कुछ लोगों के बीच हुए आपसी झगड़े में तीन राहगीरों की मौत हो गई है. बुधवार को हुई इस झगड़े में कुल 5 लोगों की जानें गई हैं. मामला लक्की शहर के बागबान इलाके का है. यहां कुछ हथियारबंद लोगों ने दुश्मनी के चलते दो लोगों पर हमला कर दिया था. ये दोनों लोग बुधवार को लक्की जेल से रिहा होकर अपने गांव वापस जा रहे थे.

पाकिस्तान के अंग्रेजी अखबार द डॉन के अनुसार, सूत्रों ने बताया कि सैयद आलम और अवाल खान लक्की जेल से रिहा होने के बाद अपने घर तजोरी गांव जा रहे थे. इस दौरान उनपर लोगों ने हमला कर दिया. इस घटना में पास से गुजर रहे एक व्यक्ति खादिम और दो अन्य लोगों को कई चोटें आईं और तीनों ने मौके पर ही दम तोड़ दिया. अखबार को सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, दो अन्य राहगीरों जाहांगीर और मोहम्मद गुल भी गोलीबारी (Firing) के दौरान घायल हो गए थे.

यह भी पढ़ें: पाकिस्तानी क्रिकेट फैंस बोले-भारत ही ऑस्ट्रेलिया को उसके घर पर हरा सकता है, पाकिस्तान के बस की बात नहीं



इन दोनों घायलों को सरकारी अस्पताल ले जाया गया, जहां दोनों की मौत हो गई. वहीं, इस घटना के बाद मृतकों के रिश्तेदार और स्थानीय लोगों ने अस्पताल पहुंचकर हंगामा शुरू कर दिया. परिजन अस्पताल में डॉक्टरों की गैरमौजूदगी पर विरोध जता रहे थे. बाद में ये लोग शवों को काजी इश्फाक चौक ले गए और तजाजाई दर्रा तंग सड़कर को करीब 3 घंटे तक बंद रखा.

अस्पताल प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे परिजन डॉक्टरों को मौत का जिम्मेदार ठहरा रहे थे. उनका कहना था कि जब घायलों को यहां लाया गया, तो डॉक्टर इमरजेंसी वॉर्ड में मौजूद नहीं थे. वहीं, मृतकों के परिवारों को के साथ राजनीतिक पार्टियों के नेता भी इस विरोध प्रदर्शन में शामिल हुए थे. एएनपी नेताओं लतीफुल्लाह खान और हुमायूं खान मारवात ने घटना की निंदा की है और डॉक्टरों को फटकार लगाई है. उन्होंने कहा कि प्रांतीय सरकार ने डीपीओ अब्दुल रउफ बाबर का तबादला कर दिया है. सरकार ने यह कदम बगैर किसी रिप्लेसमेंट के व्यवस्था के उठाया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज