होम /न्यूज /दुनिया /पूर्व वित्त मंत्री ने पाकिस्तान को बताया 'एक फीसदी गणराज्य', कहा- कुछ तो बहुत गलत है इसके साथ

पूर्व वित्त मंत्री ने पाकिस्तान को बताया 'एक फीसदी गणराज्य', कहा- कुछ तो बहुत गलत है इसके साथ

आर्थिक संकट से घिर रहे पाकिस्तान में कुछ दिनों पहले ही मिफ्ताह इस्माइल की जगह इशाक डार को वित्त मंत्री बनाया गया है. (Twitter/miftahismail)

आर्थिक संकट से घिर रहे पाकिस्तान में कुछ दिनों पहले ही मिफ्ताह इस्माइल की जगह इशाक डार को वित्त मंत्री बनाया गया है. (Twitter/miftahismail)

मिफ्ताह इस्माइल ने इमरान खान पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी सरकार ने 'टेम्पररी इकनोमिक रिफाइनेंस फैसिलिटी' के तहत सबसे अ ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

पीएमएल के नेता मिफ्ताह इस्माइल ने पाकिस्तान को 'एक फीसदी गणराज्य' कहा
पूर्व वित्त मंत्री ने कहा कि देश का 1% इलीट वर्ग इसको नियंत्रित करता है
इस्माइल ने देश की परेशानियों पर कहा कि पाकिस्तान के साथ कुछ तो बहुत गलत है

इस्लामाबाद. पाकिस्तान में वित्त मंत्री के पद से हटाए गए PML के नेता मिफ्ताह इस्माइल ने पाकिस्तान को ‘एक फीसदी गणराज्य’ कहा है. पाकिस्तान के अंग्रेजी अखबार डॉन न्यूज की एक खबर के अनुसार पूर्व वित्त मंत्री मिफ्ताह इस्माइल ने एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि देश का 1% इलीट वर्ग इस देश को नियंत्रित करता है जो अपने नागरिकों के भारी बहुमत को सामाजिक गतिशीलता प्रदान नहीं करना चाहता है. पूर्व मंत्री ने बताया कि पाकिस्तान में रहने वाले लगभग सभी अमीर विरासत में मिले धन के मालिक हैं वहीं अमेरिका में बिल गेट्स और स्टीव जॉब्स जैसे लोग अपने दम पर अरबपति बने हैं.

‘इमरान खान ने 1 प्रतिशत लोगों को दिए 580 बिलियन रुपये’
मिफ्ताह इस्माइल ने इमरान खान पर आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी सरकार ने ‘टेम्पररी इकोनॉमिक रिफाइनेंस फैसिलिटी’ के तहत सबसे अमीर 1% पाकिस्तानियों के बीच 580 बिलियन रुपये वितरित कर दिए थे. इम्पोर्ट बिल को बढ़ाने के लिए भी इस्माइल ने इन 1% पाकिस्तानियों को जिम्मेदार बताया. मैनेजमेंट एसोसिएशन ऑफ पाकिस्तान (एमएपी) द्वारा आयोजित एक पुरस्कार समारोह में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के साथ कुछ तो बहुत गलत है. हालांकि उन्होंने इसका कारण स्पष्ट नहीं किया.

आर्थिक संकट
आर्थिक संकट से घिर रहे पाकिस्तान में कुछ दिनों पहले ही मिफ्ताह इस्माइल की जगह इशाक डार को वित्त मंत्री बनाया गया है. पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था में मची उथल-पुथल के बीच पिछले चार सालों में डार पांचवें वित्त मंत्री हैं. बीते दिनों में डॉलर की मजबूती के बाद चालू खाते के घाटे में वृद्धि और मुद्रास्फीति के बढ़ने से आम लोगों के साथ व्यवसायों को भी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. वहीं इस महीने पाकिस्तान के बड़े हिस्से में आयी विनाशकारी बाढ़ ने संकट को और बढ़ा दिया. इस आपदा ने 1,500 से अधिक लोगों की जान ले ली और 30 अरब डॉलर का बड़ा नुकसान पहुंचाया.

Tags: Imran khan, Pakistan news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें