पाकिस्तान: जियो न्यूज़ पत्रकार हामिद मीर ने सरकार और सेना की खोली पोल, एकरिंग से हटाए गए

पाकिस्तान के पत्रकार हामिद मीर

Hamid Mir: इस संबंध में सरकार की ओर से कोई बयान नहीं आया है, लेकिन पत्रकार संगठनों और अन्य लोगों ने इस कदम की आलोचना की है.पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग ने भी इस कदम की निंदा की है.

  • Share this:
    इस्लामाबाद. पाकिस्तान के पत्रकार हामिद मीर (Hamid Mir) को सोमवार को एक निजी टीवी चैनल ने अपने लोकप्रिय टॉक शो की एंकरिंग करने से रोक दिया. उन्होंने एक साथी पत्रकार पर हमले के मद्देनजर देश की सेना की की आलोचना की थी. मीर ने शुक्रवार को इस्लामाबाद में पत्रकार असद तूर पर तीन ‘अज्ञात' व्यक्तियों के हमले के खिलाफ पत्रकारों द्वारा किए गए विरोध प्रदर्शन में एक उग्र भाषण दिया था. उन्होंने हमले में जवाबदेही तय करने की मांग की थी.

    मीर ‘जिओ टीवी’ पर प्राइम टाइम ‘कैपिटल टॉक’ शो को होस्ट करते हैं. मीर को टीवी नेटवर्क द्वारा अब छुट्टी पर भेज दिया गया है. पत्रकार ने इस घटनाक्रम की पुष्टि करते हुए कहा कि ये उनके लिए नया नहीं है, क्योंकि उन्होंने ‘परिणामों’ के बावजूद लड़ने की कसम खाई है.



    उन्होंने ट्वीट किया, ‘मेरे लिए कुछ भी नया नहीं है. मुझे पहले भी दो बार प्रतिबंधित किया गया था. दो बार नौकरी खोई. मैं संविधान में दिए गए अधिकारों के लिए आवाज उठाना बंद नहीं कर सकता. इस बार मैं किसी भी परिणाम के लिए तैयार हूं और किसी भी हद तक जाने के लिए तैयार हूं. क्योंकि वे मेरे परिवार को धमकी दे रहे हैं.’



    इस संबंध में सरकार की ओर से कोई बयान नहीं आया है, लेकिन पत्रकार संगठनों और अन्य लोगों ने इस कदम की आलोचना की है.पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग ने भी इस कदम की निंदा की है.



    बता दें कि 25 मई को इस्लामाबाद में पाकिस्तान के पत्रकार असद अली तूर पर 3 अज्ञात लोगों ने हमला किया था. असद के मुताबिक ये तीनों बंदूक की नोंक पर इन्हें बेडरूम में ले गए और फिर उन्हें मारा गया. एक हमलावर ने बताया कि वो आईएसआई का सदस्य है. असद से पूछा गया कि उन्हें फंड कहा से मिलते हैं. साथ ही उन्हें धमकी दी गई की अगर वो पाकिस्तान की तारीफ नहीं करेगा तो उन्हें मौत के घाट उतार दिया जाएगा.