होम /न्यूज /दुनिया /

हेलीकॉप्टर हादसे पर सेना के खिलाफ अभियान को लेकर पाकिस्तानी सरकार ने जांच का विस्तार किया

हेलीकॉप्टर हादसे पर सेना के खिलाफ अभियान को लेकर पाकिस्तानी सरकार ने जांच का विस्तार किया

सेना के खिलाफ नकारात्मक अभियान के खिलाफ जांच के लिए पाकिस्तान सरकार ने 6 सदस्यों वाला संघीय जांच एजेंसी (एफआईए) का गठन है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सेना के खिलाफ नकारात्मक अभियान के खिलाफ जांच के लिए पाकिस्तान सरकार ने 6 सदस्यों वाला संघीय जांच एजेंसी (एफआईए) का गठन है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पाकिस्तान सरकार ने सोशल मीडिया पर सेना विरोधी अभियान की जांच कर रहे छह सदस्यीय दल में खुफिया एजेंसियों के दो सदस्यों को भी शामिल किया है. मीडिया में आई एक खबर में मंगलवार को यह जानकारी दी गई. सोशल मीडिया पर अभियान चलाया जा रहा था कि सेना ने सहानुभूति हासिल करने के लिए हाल ही में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना कराई थी.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

पाकिस्तान में सोशल मीडिया पर ये खबर फैली है कि सेना ने सहानुभूति के लिए हाल में एक हेलीकॉप्टर की दुर्घटना करवाई थी.
सरकार ने सोशल मीडिया में नकारात्मक अभियान चला रहे लोगों को पकड़ने के लिए एफआईए का गठन किया है.
कहा जा रहा है पिछले सोमवार को बलूच में हेलीकॉप्टर दुर्घटना जानबूझ कर कराई गयी थी.

इस्लामाबाद. पाकिस्तान सरकार ने सोशल मीडिया पर सेना विरोधी अभियान की जांच कर रहे छह सदस्यीय दल में खुफिया एजेंसियों के दो सदस्यों को भी शामिल किया है. मीडिया में आई एक खबर में मंगलवार को यह जानकारी दी गई. सोशल मीडिया पर अभियान चलाया जा रहा था कि सेना ने सहानुभूति हासिल करने के लिए हाल ही में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना कराई थी.

‘डान’ अखबार की खबर में कहा गया कि बलूचिस्तान में त्रासद हादसे पर सोशल मीडिया में नकारात्मक अभियान चला रहे लोगों की पहचान व गिरफ्तारी के लिये गठित संघीय जांच एजेंसी (एफआईए) के दल का पुनर्गठन किया गया है और इसे संयुक्त जांच दल (जेआईटी) में बदला गया है। खबर के मुताबिक इसमें रविवार को घोषित एफआईए के चार अधिकारियों के अलावा इंटर सर्विसेज इंटेलीजेंस (आईएसआई) और इंटेलीजेंस ब्यूरो (आईबी) के एक-एक अधिकारी भी शामिल होंगे.

एक वरिष्ठ कमांडर और पांच अन्य को लेकर जा रहा पाकिस्तानी सेना का हेलीकॉप्टर पिछले सोमवार को बाढ़ राहत अभियान के दौरान बलूचिस्तान प्रांत के एक पहाड़ी इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था. हादसे में हेलीकॉप्टर सवार सभी लोग मारे गए थे. हादसे के बाद सेना को लेकर सोशल मीडिया पर एक नकारात्मक अभियान चलाया गया था जिसमें मारे गए सैन्य अधिकारियों को निशाना बनाया गया था. खबर में सूत्रों के हवाले से कहा गया, “संयुक्त जांच दल के गठन का उद्देश्य परदे के पीछे सक्रिय वास्तविक लोगों का पता लगाना है.”

Tags: Pakistan, Pakistan army

अगली ख़बर