लाइव टीवी

रमजान में आतंकी संगठनों को मिलने वाले दान पर पाक सरकार की नज़र, उठाया ये कदम

News18Hindi
Updated: May 6, 2019, 9:49 AM IST
रमजान में आतंकी संगठनों को मिलने वाले दान पर पाक सरकार की नज़र, उठाया ये कदम
मसूद अज़हर की फाइल फोटो

मंत्रालय ने प्रांतीय सरकारों को निर्देश दिया है कि वह यह सुनिश्चित करें कि गैर कानूनी संगठन रमजान के दौरान ज़कात और खैरात इकट्ठा करने पर लगाए गए प्रतिंबध सख्ती से लागू किए जाएं.

  • Share this:
जैश-ए-मोहम्मद सरगना मसूद अज़हर के ग्लोबल आतंकी घोषित होने के बाद से उसकी मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही हैं. यूएन के ग्लोबल टेरेरिस्ट आतंकी के टैग के बाद पाकिस्तान ने भी मसूद अजहर की चल और अचल संपत्ति को जब्त करने और देश के अंदर-बाहर यात्रा करने पर प्रतिबंध लगाने का आधिकारिक ऐलान कर दिया था.

अब पाकिस्तान के गृह मंत्रालय ने अपनी राज्य सरकारों को यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और जमात-उद-दावा सहित सभी गैरकानूनी समूहों पर रमजान के महीने के दौरान दान इकट्ठा करने पर लगाया गया प्रतिबंध सख्ती से लागू किया जाए.

ये भी पढ़ें- पाकिस्तान ने आतंकी मसूद अज़हर पर लगाया बैन, जानें अब क्या होगा?

मीडिया रिपोर्टों के अनुसार गृह मंत्रालय ने शनिवार को इस संबध में प्रांतों को निर्देश जारी किये कि वह प्रतिबंधित और निगरानी में रखे गए संगठनों पर कड़ी नज़र रखें. रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रांतीय सरकारों ने इन संगठनों पर नजर रखना शुरू कर दिया है.

सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट में कहा गया है कि मंत्रालय ने प्रांतीय सरकारों को निर्देश दिया है कि वह यह सुनिश्चित करें कि गैर कानूनी संगठन रमजान के दौरान ज़कात और खैरात इकट्ठा करने पर लगाए गए प्रतिंबध सख्ती से लागू किए जाएं.

ये भी पढ़ें- संसद पर हमले से पुलवामा ब्लास्ट तक, वो आतंकी घटनाएं जो मसूद अजहर ने अंजाम दीं!

यही नहीं सरकार की ओर से प्रांतीय सरकारों को जनता को यह सूचित करने का निर्देश भी दिया गया है कि 1997 के आतंकवाद निरोधक कानून एवं 1948 के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद अधिनियम के तहत प्रतिंबंधित संगठनों को आर्थिक सहयोग और किसी भी तरह की सहायता मुहैया नहीं करायी जा सकती. यह एक दंडनीय अपराध है और इसके लिए पांच साल से दस साल की सजा हो सकती है.खबरों के अनुसार पाकिस्तान में लोग औसतन एक साल में करीब साढ़े चार अरब डालर का दान करते हैं. इनमें से ज़्यादातर रमजान के पवित्र महीने के दौरान निकाला गया ज़कात होता है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 6, 2019, 9:49 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर