लाइव टीवी

टेरर फंडिंग: हाफिज सईद पर नहीं तय हो सका आरोप, 11 दिसंबर को फिर सुनवाई

भाषा
Updated: December 7, 2019, 5:13 PM IST
टेरर फंडिंग: हाफिज सईद पर नहीं तय हो सका आरोप, 11 दिसंबर को फिर सुनवाई
आतंकी हाफिज सईद की लाहौर के आतंकवाद रोधी कोर्ट में पेशी हुई.

पाकिस्‍तान (Pakistan) की एक कोर्ट में आज आतंकी हाफिज सईद (Hafiz Saeed) की पेशी हुई. सईद के खिलाफ आतंकवाद के वित्त पोषण (Terror Financing Trial) को लेकर आरोप तय नहीं हो सका.

  • Share this:
लाहौर. लाहौर की आतंकवाद रोधी अदालत मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड और प्रतिबंधित जमाद-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद (Hafiz Saeed) के खिलाफ आतंकवाद के वित्त पोषण (Terror Financing Trial) को लेकर आरोप तय नहीं कर सकी. क्योंकि अधिकारी आश्चर्यजनक रूप से शनिवार को इस हाई प्रोफाइल सुनवाई में एक सह-आरोपी को पेश करने में नाकाम रहे.

इससे एक दिन पहले भारत ने कहा था कि उसे मालूम है कि मुंबई आतंकवादी हमले का मास्टरमाइंड 'आजादी से घूम रहा है' और 'पाकिस्तान के आतिथ्य सत्कार' का आनंद उठा रहा है. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने शुक्रवार को नयी दिल्ली में कहा कि भारत ने पाकिस्तान के साथ सभी सबूत साझा किए थे और यह इस्लामाबाद की जिम्मेदारी है कि वह हमले के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करें.'

11 दिसंबर को होगी सुनवाई
यहां आतंकवाद रोधी अदालत (एटीसी) ने लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक और एक अन्य सह-आरोपी मलिक जफर इकबाल के खिलाफ आरोपों को तय करने के लिए अब 11 दिसंबर की तारीख तय की है. अदालत के एक अधिकारी ने सुनवाई के बाद 'पीटीआई' से कहा, 'पंजाब पुलिस के आतंकवाद रोधी विभाग की प्राथमिकी 30/19 के तहत हाफिज सईद और अन्यों के खिलाफ मामले पर आतंकवाद के वित्त पोषण के संबंध में आतंकवाद रोधी अदालत-1 में आरोप तय किए जाने थे. लेकिन आश्चर्यजनक रूप से सह-आरोपी मलिक जफर इकबाल को जेल से पेश नहीं किया गया. इसके कारण मामले को आरोप तय करने के लिए 11 दिसंबर तक मुल्तवी किया जाता है.'

सईद को कड़ी सुरक्षा के बीच पेश किया गया
सईद को लाहौर की कोट लखपत जेल से उच्च सुरक्षा के बीच अदालत लाया गया. पत्रकारों को सुरक्षा कारणों से सुनवाई की रिपोर्टिंग करने के लिए अदालत परिसर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं थी. अदालत के अधिकारी ने बताया कि न्यायाधीश अरशद हुसैन भुट्टा ने अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि इकबाल 11 दिसंबर को अगली सुनवाई में पेश हो.

पंजाब पुलिस के आतंकवाद रोधी विभाग (सीटीडी) ने पंजाब प्रांत के विभिन्न शहरों में 'आतंकवाद के वित्त पोषण' के आरोपों पर सईद और उसके साथियों के खिलाफ 23 प्राथमिकियां दर्ज की थी और जमात-उद-दावा (जेयूडी) सरगना को 17 जुलाई को गिरफ्तार किया था.ये भी पढ़ें: राजनाथ सिंह ने कहा, पाकिस्तान के खिलाफ हर समय चौकन्ना रहने की जरूरत

ये भी पढ़ें: अली जफर का ताना- सुना है बड़े बॉलर हो, शोएब अख्‍तर ने कहा- एक गेंद छूकर दिखा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 7, 2019, 5:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर