दबाव का असर! जमात-उद-दावा और फलह-ए-इंसानियत को पाक सरकार ने किया बैन

आतंकी हाफिज सईद की फाइल फोटो
आतंकी हाफिज सईद की फाइल फोटो

हाफिज सईद साल 2001 में भारतीय संसद पर हुए हमले, जुलाई 2006 में मुंबई लोकल में हुए सिलसिलेवार बम धमाके और नवंबर 2008 में मुंबई पर हुए आतंकी हमले का मास्टरमाइंड है.

  • Share this:
भारत की एयर स्ट्राइक और दुनिया के अन्य देशों के दबाव के चलते पाकिस्तान ने अपनी धरती पर फल-फूल रहे आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी है. मिली जानकारी के अनुसार पाकिस्तान सरकार ने आतंकवागद विरोधी कानून 1997 के आधार पर आतंकी हाफिज सईद के जमात-उद-दावा और उसके सहयोगी सहयोगी संगठन फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन को बैन कर दिया है.

यह भी पढ़ें:  सरकारी स्कूल की किताब में बताया- शादी से पहले सेक्स करने से होता है HIV

आपको बता दें कि हाफिज सईद मुंबई के होटल ताज में 2008 में हुए 26/11 हमले का मास्टरमाइंड है. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) के अनुसार हाफिज सईद पाकिस्तान स्थित लाहौर में रहता है. NIA के अनुसार जम्मू और कश्मीर में युवाओं को पत्थरबाजी के लिए प्रोत्साहित करता है और भारत के खिलाफ उन्हें भड़काता है.



यह भी पढ़ें:   हिंदू विरोधी बयानबाजी करने वाले पाकिस्तानी मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा
हाफिज सईद साल 2001 में भारतीय संसद पर हुए हमले, जुलाई 2006 में मुंबई लोकल में हुए सिलसिलेवार बम धमाके और नवंबर 2008 में मुंबई पर हुए आतंकी हमले का मास्टरमाइंड है. सोमवार को पाकिस्तान की सरकार ने फैसला किया था कि वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा नामित व्यक्तियों और संस्थाओं के खिलाफ प्रतिबंधों को लागू करेगा. विदेश मंत्रालय के अनुसार इसके लिए प्रक्रिया को कारगर बनाने के लिए एक आदेश जारी किया था.

यह भी पढ़ें:  48 MP का रियर और 16 MP का सेल्फी कैमरे का साथ भारत में लॉन्च हुआ Oppo F11 Pro, यहां पढ़ें खास बातें

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (कुर्की और जब्ती) आदेश को 2019, पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) अधिनियम, 1948 के प्रावधानों के अनुसार जारी किया गया है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास,सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज