इमरान खान की करीबी मंत्री बोलीं- पाकिस्तान में भारत का विरोध करना ही हमारी रोजी-रोटी

फिरदौस आशिक अवान पाकिस्तानी पंजाब सूबे की सूचना और संस्कृति मामलों की स्पेशल असिस्टेंट हैं.  (PTI)
फिरदौस आशिक अवान पाकिस्तानी पंजाब सूबे की सूचना और संस्कृति मामलों की स्पेशल असिस्टेंट हैं. (PTI)

पाकिस्तानी पंजाब सूबे की सूचना और संस्कृति मामलों की स्पेशल असिस्टेंट फिरदौस आशिक अवान (Firdous Ashiq Awan) ने पाकिस्तानी मीडिया ARY News के साथ बातचीत में ये बातें कही. अवान ने कहा, 'हमारे अवाम के जो एंटी इंडिया सेंटीमेंट्स हैं, वो चूरन सबसे ज्यादा बिकता है.'

  • News18.com
  • Last Updated: November 11, 2020, 11:38 AM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान में नेताओं की राजनीति भारत विरोध पर टिकी हुई है. ये बात खुद इमरान खान सरकार (Imran Khan Government) की मंत्री ने कबूल की है. इमरान खान के करीबियों में शुमार फिरदौस आशिक अवान (Firdous Ashiq Awan) ने कहा कि पाकिस्तान में एंटी इंडिया सेंटीमेंट का चूरन सबसे ज्यादा बिकता है. भारत का विरोध करना ही हमारी रोजी-रोटी है. इसलिए सभी राजनेता इस मुद्दे को सबसे ज्यादा उछालते हैं.

पाकिस्तानी पंजाब सूबे की सूचना और संस्कृति मामलों की स्पेशल असिस्टेंट फिरदौस आशिक अवान ने पाकिस्तानी मीडिया ARY News के साथ बातचीत में ये बातें कही. प्रोग्राम में एंकर ने उनसे पूछा कि हमने क्या गद्दारी, भारत, मोदी जैसे मुद्दों का हर जुमले में इस्तेमाल करना बहुत आम नहीं कर दिया है? इसके जवाब में फिरदौस आशिक अवान ने कहा, 'हमारे अवाम के जो एंटी इंडिया सेंटीमेंट्स हैं, वो चूरन सबसे ज्यादा बिकता है. जो सबसे ज्यादा बिकता हो लोग उसी को सबसे ज्यादा बेचते भी हैं. यह केवल सरकार ही नहीं, बल्कि सभी लोग कर रहे हैं.' विपक्ष ने तो ऐसे-ऐसे मसाले बेचे हैं जो मोदी के लिए मजेदार और लजीज हैं.

इमरान ने किया ईशनिंदा पर ट्वीट, यूएन वॉच बोला- पाकिस्तान UNHRC में रहने लायक नहीं





फिरदौस ने पीटीआई की सरकार से पहले इमरान खान के मूवमेंट फॉर चेंज अभियान में भी सक्रिय भागीदारी की थी. इसी दौरान इमरान खान ने इस्लामाबाद का करीब महीने भर घेराव किया था. वे पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की सरकार में भी केंद्रीय मंत्री रह चुकी हैं. अप्रैल 2019 में इमरान खान ने अपनी सरकार में उन्हें सूचना और प्रसारण मंत्रालय में स्पेशल असिस्टेंट का पद दिया था.

बता दें कि पाकिस्तान के पीएम इमरान खान खुद इसके सबसे बड़े उदाहरण हैं. ऐसा एक भी दिन नहीं जाता, जब वो भारत के खिलाफ बयान न देते हों. संयुक्त राष्ट्र महासभा की 75वीं वर्षगांठ के दौरान भी अपने नापाक इरादों से बाज नहीं आए. कश्मीर मुद्दे पर हर बार मुंह की खाने के बाद भी इमरान खान नहीं सुधरे. उन्होंने संयुक्त राष्ट्र के मंच का कीमती समय भारत की बुराई करने में खत्म कर दी.


चीन की मदद से पाकिस्तान में चली पहली मेट्रो ट्रेन, वायरल हो रही VIDEO

इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, भारत की सेना पर कई झूठे आरोप भी लगाए. इमरान के विरोध में उस समय यूएनजीए के कॉन्फ्रेंस हॉल में मौजूद भारतीय राजनयिक ने वॉकआउट किया.

इमरान ने अलापा कश्मीर राग
इमरान ने अपने भाषण के दौरान कश्मीर का राग भी अलापा. उन्होंने कहा कि भारत ने कश्मीर पर अवैध तरीके से कब्जा किया हुआ है और वहां के लोगों के मानवाधिकार का हनन कर रहा है. संयुक्त राष्ट्र को अपने रिज्योलूशन के तहत इसका हल निकालना चाहिए. उन्होंने अनुच्छेद 370 के खात्मे का जिक्र करते हुए कहा कि इससे कश्मीरी लोगों के अधिकारों को खत्म किया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज