लाइव टीवी

कोरोना से जूझ रहे पाकिस्‍तान में अब 'महंगाई वायरस', आटे की किल्‍लत, दाल, चावल महंगे

News18Hindi
Updated: March 23, 2020, 4:06 PM IST
कोरोना से जूझ रहे पाकिस्‍तान में अब 'महंगाई वायरस', आटे की किल्‍लत, दाल, चावल महंगे
पाकिस्‍तान में आटे को स्‍टोर करने और इसकी बढ़ती कीमतों की वजह से आम लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.

कोरोना वायरस के मद्देनजर लॉकडाउन को देखते हुए पाकिस्‍तान केे लोग भारी मात्रा में आटे, दाल, चावल और अन्‍य जरूरी सामान को ज्‍यादा से ज्‍यादा स्‍टोर करके रख रहे हैं, इससे कीमतें बढ़ रही हैैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 23, 2020, 4:06 PM IST
  • Share this:
इस्‍लामाबाद. पाकिस्‍तान में होने वाले लॉकडाउन के मद्देनजर लोगों ने आटे और जरूरी सामान को स्‍टोर करके रखना शुरू कर दिया है. यही वजह है कि कराची में खासतौर पर ब्रांडेड आटे की भारी कमी हो गई है.
'डॉन' की रिपोर्ट के मुताबिक चावल, दालें, चीनी, घी, कोकिंग ऑयल, चाय की पत्ती, दूध के मुकाबले में आटे की मांग काफी बढ़ गई है. इसका जिम्‍मेदार उन लोगों को माना जा रहा है, जिन्‍होंने लॉकडाउन के मद्देनजर अपने घरों में आटा और अन्य सामान भारी मात्रा में खरीद का स्‍टोर कर लिया है.

ऐसे लोगों ने सुपर स्‍टोर्स और बड़ी मार्किट से ज्‍यादा से ज्‍यादा खाने-पीने का सामान खरीद कर रख लिया है. वहीं इन हालात में छोटे व्यापारियों ने कहा कि उन्‍हें एक सप्‍ताह के अंतर से आटे की सप्‍लाई मिल रही है. जान-बूझ कर मार्किट में आटे की सप्‍लाई रोक दी गई है. इसके अलावा कुछ दुकानदारों ने अपनी दुकानों में आटा बैग होने के बावजूद नए ग्राहकों को आटा बेचने से इंकार कर दिया है.

व्यापारियों कहा कि उन्हें आटा मुहैया कराने के लिए उन्‍हें दिन में कई बार मिलों और उनके वितरकों को फोन करना पड़ रहा है, लेकिन वह जरूरत भर आटे का निर्यात करने के लिए भी एक सप्ताह का समय ले रहे हैं. हालांकि खुदरा विक्रेताओं का कहना है कि कई अमीर लोगों ने अपने घरों में इतना ज्‍यादा आटा जमा कर लिया है, जो ईद-उल-फितर तक काम आ सकता है. दूसरी ओर आटे की कीमत बढ़ने के बावजूद



सरकारें नोटिस लेने में नाकाम हैं.



लगातार गेहूं पीसने के बावजूद आटे की भारी कमी
उधर पाकिस्तान फ्लोर मिल्स एसोसिएशन (सिंध जोन) के एक सदस्य ने कहा कि मिलें दिन-रात नए गेहूं पीस रही हैं, लेकिन वे खरीदारों की बढ़ती मांग का मुकाबला नहीं कर सकतीं, क्योंकि यह हर मिल की अपनी उत्पादन क्षमता पर निर्भर करता है. उन्होंने कहा कि एक ऐसा परिवार जिसकी जरूरत हर महीने 10 से 20 किलोग्राम आटा होती है, वे 40 से 60 किलोग्राम आटा ले चुके हैं. हालांकि उन्‍होंने ग्राहकों को इस तरह आटा की खरीदारी से मना किया. उन्होंने कहा कि जिनकी तनख्‍वाह महीने के अंत में खत्‍म हो जाती है, उन्‍होंने भी ज्‍यादा आटा खरीद कर रख लिया है. उन्होंने यह भी कहा कि गेहूं की कीमतों में मामूली बढ़ोतरी के बावजूद मिल वालों ने कीमतें नहीं बढ़ाई हैं.

ये भी पढ़ें - पाकिस्‍तान में कोरोना के 799 मामले, 6 की मौत, शवों को ताबूत में दफनाने का आदेश

              लॉकडाउन के उल्लंघन पर 89 लोग गिरफ्तार, शादी समारोह कराने पर मुकदमा

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 23, 2020, 3:10 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading