पाकिस्तान: ईशनिंदा के आरोपी का हत्यारा बना हीरो, उसके संग लोग ले रहे सेल्फी

पाकिस्तान: ईशनिंदा के आरोपी का हत्यारा बना हीरो, उसके संग लोग ले रहे सेल्फी
ईशनिंदा का आरोपी की हत्या करने वाला पाकिस्तान में हीरो बन गया है.

पाकिस्तान के पेशावर (Peshawar Court) में गत जुलाई में कोर्ट के अंदर जज के सामने ही अहमदी समुदाय के एक शख़्स की गोली मारकर हत्‍या कर दी गई थी. मरने वाला व्यक्ति ईशनिंदा का आरोपी था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 10, 2020, 6:39 PM IST
  • Share this:
पेशावर. पाकिस्तान के उत्तर पश्चिमी शहर पेशावर (Peshawar Court) में गत जुलाई में कोर्ट के अंदर जज के सामने ही अहमदी समुदाय के एक शख़्स की गोली मारकर हत्‍या कर दी गई थी. घटना के दौरान अदालत में ई‍शनिंदा (Blasphemy) से जुड़े मामले की सुनवाई चल रही थी. मरने वाले व्‍यक्ति ताहिर अहमद नसीम के ऊपर ईशनिंदा का आरोप था. गोली चलाने वाले व्यक्ति का नाम खालिद खान है जिसे आज पकिस्तान में हीरो (Murderer Become Hero) माना जा रहा है.

नसीम को कोर्ट में जज के सामने गोली मारकर हत्या कर डाली

खालिद खान पर हत्या का आरोप है जिसकी सजा मौत है लेकिन अदालत में जब उसके वकील उसका बचाव करने के लिए लाइन लगाकर अदालत में खड़े होते हैं तब मृतक नसीम का वकील डरकर छुप जाता है. अधिकारियों और प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार किशोर खालिद को 29 जुलाई अदालत में तीन सुरक्षा चौकियों को पारकर पहुंचा, जहाँ उसने पिस्तौल निकाली और 57 साल के नसीम पर कई गोली चलाईं और नसीम की मौके पर ही मौत हो गई.



नसीम अमेरिकी नागरिक था
नसीम एक अमेरिकी नागरिक था और बर्बर तरीके से की गई उसकी हत्या वैश्विक स्तर पर सुर्खी बन गई है. जहाँ उसकी हत्या ने पकिस्तान के ईशनिंदा के कानून को नए सिरे से समझने के लिए मजबूर किया है. वहीं अन्य राष्ट्रों का भी ध्यान इसकी तरफ खींचा है. अमेरिका और मानवाधिकार समूहों ने इस हत्या की कड़ी निंदा की है और पकिस्तान से ईशनिंदा से जुड़े कानूनों में बदलाव करने की मांग की है. पकिस्तान में ईश निंदा के आरोप मात्र से भीड़ उस आदमी की हत्या करने पर उतारू हो जाती है और कानूनी रूप से भी बहुत सहयोग नहीं मिलता है.

'खालिद की हत्या का हर कोई सिफारिश करना चाहता है'

हत्या के आरोपी खालिद खान को एक हीरो की तरह देखा जा रहा है. खालिद के वकील इनामुल्लाह यूसुफजई ने रायटर को बताया कि "यह उन केसों में से एक केस है, जहां हर कोई खालिद का वकील बनना चाहता है और पाकिस्तान के सारे वकीलों ने खान का बचाव करने के लिए मुफ्त में उसका मुकदमा लड़ने की ख्वाहिश जाहिर की है क्योंकि वे उसके द्वारा की गई हत्या को न्यायसंगत मानते हैं. खान की रिहाई के लिए हज़ारों लोग रैली निकाल रहे हैं. शुभचिंतकों- वकीलों, मौलवियों, स्थानीय राजनेताओं के प्रतिनिधिमंडल ने खालिद के परिवार को बधाई देने के लिए पेशावर में उसके घर का दौरा किया है.

तालिबानियों ने भी दिया समर्थन

पकिस्तान के तालिबानियों ने भी खालिद को अपना समर्थन देते हुए एक संदेश भिजवाया है. खालिद की गिरफ्तारी के बाद उसे कोर्ट ले जाते हुए एलिट फ़ोर्स के पुलिसकर्मियों ने उसके साथ एक सेल्फी ली जिसे सोशल मीडिया पर बड़ी संख्या में साझा किया गया. इसी तरह की एक सेल्फी वकीलों की भी देखने को मिल रही है.

ये भी पढ़ें: कोरोनावायरस राहत और बेरोजगारी भत्ते पर भ्रामक बयानों को लेकर घिरे ट्रंप

पाकिस्तान: अफगानिस्तान सीमा के पास बम विस्फोट में पांच की मौत, 10 घायल

अमेरिकी विदेश विभाग ने इस मामले में कुछ और खुलासे किये हैं. उनका कहना है कि नसीम इलिनॉइस में अपने घर पर रह रहा था और उसे पकिस्तान के कुछ लोगों ने लालच देकर फंसाया है. उसे फंसाने के लिए ईश निंदा कानून का इस्तेमाल किया गया. अमेरिकी विदेश विभाग ने पाकिस्तान से अपने ईश निंदा कानूनों में सुधार करने और नसीम की हत्या का मुकदमा चलाने का अनुरोध किया है. पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय का कहना है कि एक विशेष टीम मामले की जांच कर रही है और इस मामले को कानून के दायरे में रहकर निपटा जाएगा."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज