नेपाल के रास्ते कश्मीर के आतंकियों की फंडिंग कर रहा आईएसआई

खुफिया जानकारी के मुताबिक पड़ोंसी देश में नेटवर्क मजबूत करने के चलते मार्च और अप्रैल में कश्मीर के कम से कम छह स्थानीय आतंकियों ने नेपाल का दौरा किया है.

News18Hindi
Updated: June 19, 2019, 9:25 AM IST
नेपाल के रास्ते कश्मीर के आतंकियों की फंडिंग कर रहा आईएसआई
नेपाल के रास्ते कश्मीर के आतंकियों की फंडिंग कर रहा आईएसआई
News18Hindi
Updated: June 19, 2019, 9:25 AM IST
पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई, कश्मीर में आतंकियों और अलगाववादियों की मदद के लिए नए नेटवर्क तैयार कर रहा है. खबर है कि आईएसआई ने आतंकियों को फंड मुहैया कराने के लिए पड़ोसी देश नेपाल का सहारा लेना शुरू कर दिया है. खुफिया जानकारी के मुताबिक पड़ोंसी देश में नेटवर्क मजबूत करने के चलते मार्च और अप्रैल में कश्मीर के कम से कम छह स्थानीय आतंकियों ने नेपाल का दौरा किया है. इस दौरान उन्होंने हिजबुल मुजाहिदीन (एचएम) और जैश-ए-मोहम्मद के हैंडलरों से भी मुलाकात की है. बताया जाता है कि 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद हुई जांच में आतंकियों के तार नेपाल से जुड़े होने का खुलासा हुआ था.

रिपोर्ट में बताया गया है कि नेपाल में हिजबुल मुजाहिदीन (एचएम) और जैश-ए-मोहम्मद तेजी से अपनी पैठ बना रहे हैं. इसी के साथ लश्कर-ए-ताइबा का हैंडलर मोहम्मद उमर मंडी भी नेपाल से लगने वाली भारतीय सीमा के पास के शहरों में अपना नेटवर्क मजबूत कर रहा है. बताया जाता है कि गोरखपुर, फैजाबाद और दरभंगा में आतंकी संगठन तेजी से अपनी पकड़ बना रहे हैं. खबर है कि मंडी ने अपना नेटवर्क बढ़ाने के लिए हाल ही में कोलकाता का भी दौरा किया था.

इसे भी पढ़ें :- पाकिस्तान ISI के नए चीफ फैज़ हमीद बढ़ा सकते हैं भारत का सिरदर्द

खुफिया एजेंसी की तरफ से गृहमंत्रालय को जो रिपोर्ट सौंपी गई है उसमें इस बात का जिक्र किया गया है कि पुलवामा हमले के बाद भी दस आतंकियों ने घाटी में प्रवेश किया है. आतंकियों के नए नेटवर्क का पता चलने के बाद भारत की खुफिया एजेंसियों ने अब नेपाल की एजेंसियों के साथ ऑपरेशन शुरू कर दिया है. सूत्रों के मुताबिक मंगलवार को कश्मीर में मारे गए पुलवामा हमले से जुड़े आतंकी साजिद बट और तौसिफ बट का सुराग नेपाल से ही लगा था.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुनिया से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: June 19, 2019, 9:23 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...