होम /न्यूज /दुनिया /

पाकिस्तान में सेना की आलोचना करने वाले पत्रकार पर हमला, सैन्य जनरलों को बताया था ‘प्रॉपर्टी डीलर’

पाकिस्तान में सेना की आलोचना करने वाले पत्रकार पर हमला, सैन्य जनरलों को बताया था ‘प्रॉपर्टी डीलर’

अयाज आमिर पाकिस्तान में मीडिया की बड़ी हस्ती और दुनिया न्यूज के पत्रकार हैं. (फोटो साभार सोशल मीडिया)

अयाज आमिर पाकिस्तान में मीडिया की बड़ी हस्ती और दुनिया न्यूज के पत्रकार हैं. (फोटो साभार सोशल मीडिया)

Attack on Journalist in Pakistan: पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार अयाज आमिर पर लाहौर में नकाबपोश बदमाशों ने हमला कर दिया और उनके कपड़े भी फाड़ दिए. इस हमले से एक दिन पहले उन्होंने पाकिस्तान के सैन्य जनरलों को ‘‘प्रोपर्टी डीलर’’ बताया था. उन्होंने दावा किया कि उन्हें कार से बाहर खींचा गया और उनसे मारपीट की गयी. हमलावरों ने उनके चालक से भी मारपीट की.

अधिक पढ़ें ...

लाहौर: पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक अयाज आमिर पर शुक्रवार रात लाहौर में नकाबपोश बदमाशों ने हमला कर दिया और उनके कपड़े भी फाड़ दिए. यह घटना तब हुई है जब एक दिन पहले उन्होंने पाकिस्तान के सैन्य जनरलों को ‘‘प्रोपर्टी डीलर’’ बताया था.

73 वर्षीय आमिर ‘दुनिया न्यूज’ पर अपने टीवी कार्यक्रम के प्रसारण के बाद घर लौट रहे थे तभी अज्ञात लोगों ने उन्हें रोका. उन्होंने दावा किया कि उन्हें कार से बाहर खींचा गया और उनसे मारपीट की गयी. हमलावरों ने उनके चालक से भी मारपीट की.

आमिर के चेहरे पर खरोंचे आयी हैं और उन्होंने आरोप लगाया कि नकाबपोश बदमाशों ने न केवल ‘‘उन पर हमला किया और उनके कपड़े फाड़े, बल्कि वे उनका मोबाइल फोन और पर्स भी ले गए. भीड़भाड़ वाली सड़क पर लोगों के इकट्ठा होने के बाद वे (हमलावर) भाग गए.’’

‘मैंने सच बोला और बोलता रहूंगा’

सोशल मीडिया पर प्रसारित तस्वीरों में पत्रकार को एक कार में बैठे हुए देखा जा सकता है और उनकी कमीज भी फटी हुई है. उन्होंने कहा, ‘‘मेरी किसी से कोई निजी दुश्मनी नहीं है और मेरा किसी से कोई झगड़ा नहीं हुआ. जिन्होंने भी मुझ पर हमला किया, उन्होंने मेरी उम्र का भी ख्याल नहीं रखा. मेरा कसूर बस इतना था कि मैंने सच बोला और मैं सच बोलता रहूंगा.’’

पाकिस्तान में ईश निंदा पर जमकर हुआ तोड़फोड़ और बवाल, सैमसंग के 27 कर्मचारी पुलिस हिरासत में

गौरतलब है कि बृहस्पतिवार को ‘सत्ता परिवर्तन और पाकिस्तान पर उसका प्रभाव’ विषय पर इस्लामाबाद में एक संगोष्ठी में आमिर ने शक्तिशाली सैन्य प्रतिष्ठान पर पाकिस्तान की राजनीति में उसकी भूमिका को लेकर निशाना साधा था. संगोष्ठी में पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान भी शामिल हुए थे.

उन्होंने सैन्य जनरलों को ‘‘प्रोपर्टी डीलर’’ बताया था और मोहम्मद अली जिन्ना एवं आलम इकबाल की तस्वीरें हटाकर उनकी जगह ‘‘प्रोपर्टी डीलर्स’’ की तस्वीरें लगाने का सुझाव दिया था. आमिर के भाषण के कुछ अंश सोशल मीडिया पर प्रसारित हो गए थे.

इस बीच, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ ने आमिर पर हमले की निंदा की और पंजाब के मुख्यमंत्री हमजा शहबाज को उच्च स्तरीय जांच कराने का आदेश दिया. पंजाब के मुख्यमंत्री शहबाज ने वरिष्ठ पत्रकार पर हमले को लेकर पुलिस महानिरीक्षक से रिपोर्ट मांगी है और दोषियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करने का आदेश दिया है.

इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए इमरान खान ने ट्वीट किया, ‘‘मैं लाहौर में वरिष्ठ पत्रकार अयाज आमिर के खिलाफ हिंसा की कड़ी शब्दों में निंदा करता हूं.’’ पत्रकारों, वकील संघों और मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने इस हमले की निंदा की है.

Tags: Pak army, Pakistan

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर