Home /News /world /

मिलिए पाकिस्तान की पहली ट्रांसजेंडर डॉक्टर सारा गिल से, जानें कैसे बदली उन्होंने अपनी जिंदगी

मिलिए पाकिस्तान की पहली ट्रांसजेंडर डॉक्टर सारा गिल से, जानें कैसे बदली उन्होंने अपनी जिंदगी

पाकिस्‍तान की सारा गिल. ( फाइल फोटो)

पाकिस्‍तान की सारा गिल. ( फाइल फोटो)

सारा गिल ने कराची के जिन्‍ना मेडिकल एंड डेंटल कॉलेज से एमबीबीएस अंतिम वर्ष की परीक्षा पास कर ली है. उनकी उम्र 23 साल है और उन्‍हें अपनी सफलता पर गर्व हो रहा है. उन्‍होंने कहा कि यदि आप में जुनून है तो कोई भी आपके कदम को रोक नहीं सकता.

अधिक पढ़ें ...

कराची. सारा गिल ने कराची के जिन्‍ना मेडिकल एंड डेंटल कॉलेज से एमबीबीएस अंतिम वर्ष की परीक्षा पास कर ली है. उनकी उम्र 23 साल है और उन्‍हें अपनी सफलता पर गर्व हो रहा है. उन्‍होंने कहा कि यदि आप में जुनून है तो कोई भी आपके कदम को रोक नहीं सकता. जीवन में कठिनाइयां आती हैं, लेकिन यकीन जानिए फिर आप सफलता की तरफ जरूर बढ़ेंगे. दरअसल सारा ट्रांसजेंडर हैं और पाकिस्‍तान (pakistan) की पहली किन्नर डॉक्टर बन कर उन्‍होंने इतिहास रच दिया है.

डॉ सारा गिल ने कहा कि मुझे पाकिस्तान की पहली किन्नर चिकित्सक बनकर गर्व हो रहा है. मैं अपने एनजीओ की मदद से ट्रांसजेंडर समुदाय के लिए कार्य करती रहूंगी. यहां तक का रास्‍ता सरल नहीं था, लेकिन मुझे कई लोगों ने मदद की और मेरे जुनून ने इसे आसान बना दिया. जिन्ना मेडिकल एंड डेंटल कॉलेज ने भी मेरी मदद की है.’  सारा गिल पाकिस्तान में किन्नरों के लिए काम करने वाले एक गैर सरकारी संगठन से भी जुड़ी हैं.

ये भी पढ़ें :  AT4 anti-tank: भारतीय सेना को मिला अचूक हथियार, एक फायर से होगा दुश्‍मनों का टैंक तबाह, जानें खासियत

ये भी पढ़ें :  केंद्र ने माना देश में कोरोना की तीसरी लहर, कहा- दूसरी लहर के मुकाबले हालात बेहतर | पढ़ें अहम बातें

बहुत बुरे हालात हैं पाकिस्‍तान में किन्‍नरों के

सारा ने बताया कि पाकिस्‍तान में किन्‍नरों के बहुत बुरे हालात हैं. इन्‍हें समाज में बुरी नजरों से देखा जाता है और अभिभावक ही अपनी किन्नर संतानों को घरों से बाहर फेंक देते हैं. समाज के दबाव में किन्‍नरों को बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ता है और उनकी जिंदगी नरक जैसी हो जाती है. सारा ने कहा कि लोगों को किन्‍नर संतानों को अपनाना चाहिए और एक नई शुरुआत करनी चाहिए. उन्‍होंने अपील की कि अगर किन्‍नर संतानों को सही माहौल मिलेगा तो आगे चीजें बेहतर हो सकती हैं.

मुल्तान में खोला गया किन्नरों के लिए खास स्कूल

सारा ने बताया कि सरकार कुछ कदम जरूर उठाती है, लेकिन जब तक समाज किन्‍नरों के लिए आगे नहीं आएगा, कोई कोशिश कामयाब नहीं होगी. पिछले साल जुलाई में पाकिस्तान के किन्नरों के लिए मुल्तान में विशेष स्कूल खोला गया है. किन्नरों ने इसमें पहली बार प्रवेश लिया. इस स्कूल में नर्सरी से माध्यमिक कक्षा तक की पढ़ाई के प्रबंध किए गए हैं.

Tags: Pakistan, Transgender

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर