इमरान की कुर्सी खतरे में, राजनीति में उतर सकते हैं PAK के चाहीते राहील शरीफ

इमरान की कुर्सी खतरे में, राजनीति में उतर सकते हैं PAK के चाहीते राहील शरीफ
पाकिस्तान के पूर्व आर्मी चीफ जनरल (सेवानिवृत्त) राहिल शरीफ (फाइल फोटो)

पाकिस्‍तान और सऊदी अरब (Pakistan And Saudi Arabia) के बीच जारी तनाव में अब एक नया मोड़ आता दिख रहा है. खाड़ी के कई देश पूर्व आर्मी चीफ राहिल शरीफ (Raheel Shareef) को राजनीति में उतरने के लिए मना रहे हैं. राहील शरीफ पाकिस्‍तान के सबसे लोकप्रिय सेना प्रमुखों में से हैं और उनका काफी सम्‍मान है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 20, 2020, 11:13 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्‍तान की इमरान सरकार के बुरे दिन चल रहे हैं. सऊदी अरब से पंगे लेना अब उसके लिए इतना भारी पड़ रहा है कि इमरान खान (Imran Khan) की सरकार खतरे में पड़ गई है. इमरान खान को इस बात का अंदाजा हो गया था कि सऊदी अरब के खिलाफ लामबंदी उन पर घातक साबित हो सकती है. सऊदी अरब के समर्थक खाड़ी के कई देश पूर्व आर्मी चीफ जनरल (सेवानिवृत्त) राहिल शरीफ (Raheel Sharif) को पाकिस्‍तान की राजनीति में उतारने के लिए मनाने में जुट गए हैं. राहील शरीफ पाकिस्‍तान के सबसे लोकप्रिय सेना प्रमुखों में से हैं और उनको पाकिस्‍तान में काफी सम्‍मान की नजर से देखा जाता है. विशेष बात ये है कि राहील शरीफ का सऊदी अरब से खास कनेक्शन है. विश्‍लेषकों का मानना है कि अगर जनरल राहील शरीफ पाकिस्‍तान की राजनीति में कदम रखते हैं तो इमरान खान की कुर्सी जानी तय है.

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि पाकिस्‍तान के राजनयिक हलकों में ऐसी चर्चा है कि कई अरब देश पूर्व सेना प्रमुख जनरल राहील शरीफ को राजनीति में उतरने के लिए उत्‍साहित कर रहे हैं. इस रिपोर्ट के आने के बाद पाकिस्‍तानी सोशल मीडिया में अटकलों का बाजार गरम हो चुका है. जनरल राहील शरीफ के नाम की चर्चा ऐसे समय पर हो रही है जब पाकिस्‍तानी पीएम इमरान खान और उनके आका सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा के बीच पिछले काफी समय से तनाव काफी बढ़ता जा रहा है. यही नहीं पिछले दिनों सेना प्रमुख बाजवा ने राहिल शरीफ से मुलाकात भी की थी. पाकिस्‍तानी मीडिया में आई खबरों के मुताबिक इमरान खान के लिए अब कुछ ही दिन बचे हुए हैं. इस तनाव के बीच पाकिस्‍तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सऊदी अरब से पंगा ले लिया. उन्‍होंने सऊदी अरब और ओआईसी को धमकी दे डाली. इससे दोनों ही देशों के बीच संबंध और ज्‍यादा खराब हो गए.

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान के रेल मंत्री की धमकी- भारत पर करेंगे परमाणु हमला, मुसलमानों को नहीं होगा नुकसान



प्रिंस मोहम्‍मद बिन सलमान ने किया बाजवा से मिलने से इनकार
कुरैशी की इसी धमकी और कतर तथा तुर्की से दोस्‍ती का असर था कि सऊदी अरब के प्रिंस मोहम्‍मद बिन सलमान ने पाकिस्‍तानी सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा से मिलने से इनकार कर दिया. बाजवा और आईएसआई चीफ को खाली हाथ सऊदी अरब से लौटना पड़ा है. पाकिस्‍तानी न्‍यूज चैनल एआरवाई को दिए साक्षात्‍कार में कुरैशी ने धमकी देते हुए कहा था, 'मैं एक बार फिर से पूरे सम्‍मान के साथ ओआईसी से कहना चाहता हूं कि विदेश मंत्रियों की परिषद की बैठक हमारी अपेक्षा है. यदि आप इसे बुला नहीं सकते हैं तो मैं प्रधानमंत्री इमरान खान से यह कहने के लिए बाध्‍य हो जाऊंगा कि वह ऐसे इस्‍लामिक देशों की बैठक बुलाएं जो कश्‍मीर के मुद्दे पर हमारे साथ खड़े होने के लिए तैयार हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज