लाइव टीवी
Elec-widget

‘कुलभूषण मामले में नहीं हुआ कोई समझौता, PAK कानून के तहत होगा फैसला’

News18Hindi
Updated: November 14, 2019, 5:14 PM IST
‘कुलभूषण मामले में नहीं हुआ कोई समझौता, PAK कानून के तहत होगा फैसला’
कुलभूषण जाधव (फाइल फोटो)

पाकिस्तान (Pakistan) के विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि कूलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav) के मामले में कोई समझौता नहीं किया गया है. जाधव के बारे में निर्णय अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) के फैसले का सम्मान करते हुए पाकिस्तानी कानूनों के तहत किया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2019, 5:14 PM IST
  • Share this:
इस्लामाबाद. भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव (Kulbhushan Jadhav) को लेकर पाकिस्तान (Pakistan) ने एक बार फिर बयानबाजी शुरू कर दी है. पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि कूलभूषण के मामले में कोई समझौता नहीं किया गया है. जाधव के बारे में निर्णय अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) के फैसले का सम्मान करते हुए पाकिस्तानी कानूनों के तहत किया जाएगा. पाकिस्तान रेडियो की तरफ से यह जानकारी दी गई है.

इससे पहले पाकिस्तान सेना (Pakistan Army) ने बुधवार को कहा था कि उसका देश (पाकिस्तान) मृत्युदंड की सजा पाए कुलभूषण जाधव के मामले की समीक्षा के लिए विभिन्न कानूनी विकल्पों पर विचार करने जा रहा है. सेना का यह बयान इन खबरों के बीच आया है कि पाकिस्तान सरकार अंतरराष्ट्रीय न्यायालय (ICJ) के फैसले को लागू करने के लिए सेना कानून में संशोधन की तैयारी कर रही है.

हालांकि पाकिस्तान सशस्त्र बल के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने इन खबरों को बस ‘अटकलें’ करार दिया कि सरकार जाधव को अपनी दोषसिद्धि के खिलाफ एक दीवानी अदालत में अपील दायर करने की इजाजत देने के लिए थल सेना कानून में संशोधन की योजना बना रही है.

मीडिया में चल रही खबरों के अनुसार कानून में संशोधन से सैन्य अदालतों द्वारा सुनाई गई सजा के खिलाफ दीवानी अदालतों में समाधान मांगने की प्रक्रिया की रूपरेखा निर्धारित की जाएगी. आईसीजे ने 17 जुलाई को अपने फैसले में कहा था कि पाकिस्तान को जाधव की मौत की सजा की अवश्य ही समीक्षा करनी चाहिए.
Loading...

गफूर ने कहा था कि जाधव के मामले में आईसीजे फैसले को लागू करने के लिए पाकिस्तान सेना कानून में संशोधन की खबरें ‘गलत’ हैं. उन्होंने कहा, ‘‘समीक्षा और पुनर्विचार के विभिन्न कानूनी विकल्पों पर विचार किया जा रहा है. अंतिम स्थिति सही समय पर साझा की जाएगी.’

पाकिस्तान ने जाधव को ईरान से किया था अगवा
अप्रैल 2017 में भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव (49) के खिलाफ पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत ने बंद कमरे में सुनवाई के बाद जासूसी एवं आतंकवाद के आरोप में उन्हें मौत की सजा सुनाई थी. भारत का कहना है कि जाधव को ईरान से अगवा किया गया था जहां वह नौसेना से सेवानिवृत्त होने के बाद कारोबार के सिलसिले में गए थे. भारत ने दलील दी थी कि उसके नागरिक को राजनयिक पहुंच मुहैया कराने से इनकार करना राजनयिक संबंधों पर वियना संधि का उल्लंघन है.

ICJ ने मौत की सजा पर लगाई थी रोक
इस मामले में भारत के आवेदन को स्वीकार करने पर पाकिस्तान की आपत्ति को खारिज करते हुए आईसीजे ने 42 पन्नों के अपने आदेश में कहा था कि मौत की सजा के तामील पर लगातार स्थगन से जाधव के दंड की समीक्षा की अपरिहार्य स्थिति पैदा होती है. जाधव को सुनाये गये दंड से दोनों पड़ोसी देशों में तनाव पैदा हो गया है. हालांकि आईसीजे ने सैन्य अदालत के फैसले को रद्द करने, उसकी रिहाई समेत भारत की कई मांगें खारिज कर दी थी.

यह भी पढ़ें : 

कुलभूषण जाधव पर पाकिस्तान लेगा बड़ा फैसला, सिविल कोर्ट में चल सकेगा मुकदमा
मुशर्रफ ने माना-कश्‍मीरियों को PAK देता है आतंकी ट्रेनिंग, लादेन को बताया हीरो

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पाकिस्तान से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 14, 2019, 4:52 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...