Home /News /world /

जैश के खिलाफ एक्शन लेने में पाक की 'नापाक' चाल तो नहीं! जांच एजेंसियों को है यह शक

जैश के खिलाफ एक्शन लेने में पाक की 'नापाक' चाल तो नहीं! जांच एजेंसियों को है यह शक

मसूद अजहर की फाइल फोटो

मसूद अजहर की फाइल फोटो

26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ट्रेनिंग कैंप में भारतीय वायु सेना की एयर स्ट्राइक के 10 दिन बाद पाकिस्तान ने यह कदम उठाया है.

    पाकिस्तान  पर आतंकवाद के खिलाफ एक्शन लेने के भारत के कड़े दबाव का असर नजर आ रहा है. पाकिस्तान ने जैश-ए-मोहम्मद के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है. वहां जैश सरगना मसूद अजहर के भाई मुफ्ती अब्दुर रऊफ और बेटे हमाद अजहर समेत 44 लोगों को हिरासत में लिया गया है.

    भारतीय जांच एजेंसियों को शक है कि पाकिस्तान ने ऐसा इन आतंकियों को सुरक्षा देने के लिए किया गया. एक अधिकारी ने कहा कि इस बात की पूरी संभावना है इसके पाकिस्तान सेना इन आतंकवादियों को सुरक्षा प्रदान करने की कोशिश कर सकती है.

    यह भी पढ़ें:  दबाव का असर! हाफिज सईद की संस्था जमात-उद-दावा और फलह-ए-इंसानियत को पाक सरकार ने किया बैन


    सुरक्षा एजेंसियों का आंकलन इस तथ्य के मद्देनजर आया है कि जैश-ए-मोहम्मद और लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक - मसूद अजहर और हाफिज सईद पहले भी कई बार हिरासत में लिए गए थे. ज्यादातर पर 'शांति भंग' का मामला चल रहा था.' एक अन्य अधिकारी ने कहा कि अजहर और सईद पर पाकिस्तान के आतंकवाद निरोधक अधिनियम, 1997 के तहत कभी भी मुकदमा नहीं चलाया गया.

    यह भी पढ़ें: 48 MP का रियर और 16 MP का सेल्फी कैमरे का साथ भारत में लॉन्च हुआ Oppo F11 Pro, यहां पढ़ें खास बातें

    बता दें 26 फरवरी को पाकिस्तान के बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी ट्रेनिंग कैंप में भारतीय वायु सेना की एयर स्ट्राइक के 10 दिन बाद पाकिस्तान ने यह कदम उठाया है. इससे पहले पाकिस्तान की सरकार ने फैसला किया था कि वह संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा नामित व्यक्तियों और संस्थाओं के खिलाफ प्रतिबंधों को लागू करेगा. विदेश मंत्रालय के अनुसार इसके लिए प्रक्रिया को कारगर बनाने के लिए एक आदेश जारी किया था.

    यह भी पढ़ें: हिंदू विरोधी बयान देने वाले मंत्री से इमरान खान ने लिया इस्तीफा

    संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (कुर्की और जब्ती) आदेश को 2019, पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) अधिनियम, 1948 के प्रावधानों के अनुसार जारी किया गया था. आदेश की व्याख्या करते हुए, विदेश कार्यालय के मोहम्मद फैसल ने कहा था कि इसका मतलब है कि सरकार ने देश में संचालित सभी प्रतिबंधित संगठनों पर नियंत्रण कर लिया है. डॉन में प्रकाशित खबर के अनुसार अब से आगे सभी तरह की संपत्ति और सभी (प्रतिबंधित) संगठनों की संपत्ति सरकार के नियंत्रण में होगी.

    यह भी पढ़ें: पंजाब में किसानों का आंदोलन, 8 ट्रेनें रद्द, 24 का रूट बदला

    एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास,सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

    Tags: Air Strike, Imran khan, India, Masood Azhar, Pakistan, Surgical Strike

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर