लाहौर में आतंकी हाफिज सईद के घर के बाहर पाकिस्तानी सेना ने कराए ब्लास्ट? जानें क्या है हकीकत

आतंकी हाफिज सईद के घर के बाहर हुए धमाके में 25 लोग घायल हो गए. (AP Photo/K.M. Chaudary)

पाकिस्तान सेना (Pakistan Army) ने जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में बड़े पैमाने पर आतंकी घुसपैठ और BAT एक्शन के लिए एक ऑपरेशन शुरू किया था. अब उस ऑपरेशन के तार लाहौर (Lahore) में हाफिज सईद (Hafiz Saeed) के घर के बाहर हुए धमाकों से जोड़े जा रहे हैं.

  • Share this:
इस्लामाबाद. पाकिस्तान (Pakistan) स्थित लाहौर (Lahore) के जौहर टाउन (Jauhar Town Explosion) स्थित अकबर चौक में हाफिज सईद (Hafiz Saeed) के घर के बाहर हाल ही में धमाका हुआ था. अब दावा किया जा रहा है कि पाकिस्तान की मिलिट्री (Pakistan Army) ने के इस ब्लास्ट से तार जुड़े हुए हैं. मिली जानकारी के अनुसार ताशकीर-ए-जबल नाम से एक ऑपेरशन मई के आखिरी हफ्ते में शुरू किया गया था. ऑपेरशन को माउंटेन वारफेयर की प्रैक्टिस के लिए मेगा मिलिट्री एक्सरसाइज की आड़ में लांच किया गया था.

पाकिस्तान के नापाक मंसूबों की भनक लगते ही इंडियन आर्मी (Indian Army) ने काउंटर के लिए पुंछ में माउंटेन वारफेयर में कुशल जवानों को तैनात कर दिया. 26 मई से 10 जून के बीच पुंछ सेक्टर में सरहद पार रावला कोट, टोली पीर इलाके में पाक आर्मी ने कथित मेगा मिलिट्री एक्सरसाइज की. सूत्रों का दावा है कि पाक आर्मी का ऑपरेशन ताशकीर-ए-जबल अभी भी जारी है. ये ऑपेरशन अब एलओसी और इंटरनेशनल बॉर्डर के आस-पास के पाकिस्तानी इलाकों से चल रहा है. पाक सेना आतंकियों को जम्मू कश्मीर घुसपैठ कराने की कोशिश कर रही है.

यह भी पढ़ें: आतंकियों को पेंशन देता है पाकिस्तान, भारत ने UNHRC में कही ये बड़ी बात

जम्मू और कश्मीर पाक का हर दांव हुआ फेल
दरअसल एलओसी पर भारतीय सेना और इंटरनेशनल बॉर्डर पर BSF की मुस्तैदी की वजह से सरहद पार से जम्मू और कश्मीर में घुसपैठ की कई कोशिशें नाकाम हो चुकी हैं. साथ ही घाटी में हालात लगातार बेहतर होते जा रहे हैं. ऐसे में पाक आर्मी और ISI बौखला गयी है. वो किसी भी कीमत पर घाटी में हालात को बिगाड़ना चाहते हैं. खुफिया सूत्रों के मुताबिक पाकिस्तान के ऑपेरशन ताशकीर-ए-जबल के पीछे भी एक कहानी है जिसको लश्कर ए तैय्यबा के सरगना और ग्लोबल आतंकी हाफिज सईद के ऊपर बुधवार को लाहौर हुए हमले से जोड़कर भी देखा जा रहा है.

सूत्रों के मुताबिक ऑपेरशन शुरू होने से पहले पाक आर्मी, ISI और अलग-अलग आतंकी संगठनों के सरगनाओं के बीच मई के तीसरे हफ्ते में पीओके में एक मीटिंग हुई थी. इस मीटिंग में लश्कर के कुछ टॉप कमांडरों से आर्मी ने पूछा कि कश्मीर घाटी में पाक से कैडर्स क्यों नही जा रहे? पिछले डेढ़ सालों में कश्मीर में कुछ बड़ा क्यों नही हुआ? इसपर लश्कर कमांडरों ने फंड की कमी को वजह बताया. इस मसले पर पाक आर्मी के सीनियर अफसरों से लश्कर कमांडरों की तीखी बहस भी हुई. जिसके बाद पाक आर्मी ने लश्कर कमांडरों को बहाना न बनाने की हिदायत दी और जम्मू कश्मीर में घुसपैठ कैसे होती है उसका उदाहरण पेश करने की बात की. इसके कुछ दिनों के बाद ऑपेरशन ताशकीर-ए-जबल लांच किया गया.

यह भी पढ़ें:  बाज नहीं आ रहा पाकिस्तान, सीजफायर की आड़ में आतंकियों को दे रहा है ट्रेनिंग

हाफिज सईद के घर के बाहर बुधवार को हुए धमाके के पीछे मोस्ट वॉन्टेड आतंकी और पाक आर्मी के अफसरों के बीच चल रही तना तनी को माना जा रहा है. दावा किया जा रहा है कि सईद के घर के बाहर हुए ब्लास्ट के पीछे की वजह हाल में सेना और आतंकियों के बीच हुई तीखी बहस थी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.