लंदन में मीडिया की आजादी पर बोल रहे थे PAK विदेश मंत्री, हो गई बेइज्जती

शाह महमूद कुरैशी गुरुवार को यहां ‘मीडिया की आजादी की रक्षा करो’ पर एक संवाददाता सम्मेलन कर रहे थे. इस दौरान पत्रकारों ने प्रेस की स्वतंत्रता को लेकर उन्हें कठघरे में खड़ा कर दिया.

News18Hindi
Updated: July 12, 2019, 7:13 PM IST
लंदन में मीडिया की आजादी पर बोल रहे थे PAK विदेश मंत्री, हो गई बेइज्जती
लंदन में कॉन्फ्रेंस के दौरान पाक विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी पर भड़क गया पत्रकार
News18Hindi
Updated: July 12, 2019, 7:13 PM IST
पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी को उस दौरान शर्मसार होना पड़ा, जब वह मीडिया की आजादी पर आयोजित एक कॉन्फ्रेंस में शामिल होने के लिए लंदन पहुंचे थे. लेकिन वहां उन्हें कुर्सियां खाली मिलीं. मीडिया सवांद के दौरान उन्हें पत्रकारों का विरोध भी झेलना पड़ा. कनाडा के एक जर्नलिस्ट ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री इमरान खान की सरकार की शिकायत के बाद ट्वीटर पर उनका अकाउंट सस्पेंड कर दिया गया.

कुरैशी गुरुवार को यहां ‘मीडिया की आजादी की रक्षा करो’ पर एक संवाददाता सम्मेलन कर रहे थे. इस दौरान पत्रकारों ने प्रेस की स्वतंत्रता को लेकर उन्हें कठघरे में खड़ा कर दिया. उनकी जमकर क्लास लगाई गई. पत्रकारों ने पाकिस्तान की सेंसरशिप को लेकर कुरैशी से सख्त सवाल पूछे. दरअसल, हाल ही में पाकिस्तान की इलेक्ट्रॉनिक मीडिया नियामक संस्था द्वारा जेल में बंद पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति आसिफ अली जरदारी का इंटरव्यू प्रसारित करने को लेकर तीन निची चैनलों का ट्रांसमिशन सस्पेंड कर दिया था.



कनेडियन पत्रकार ने जमकर बोला हमला

कनाडा के पत्रकार लेवेंट ने कहा, “मैं आपसे कह रहू हूं कि ट्वीटर ने मेरा पूरा अकाउंट डिलीट नही किया है, बल्कि एक ट्वीट डिलीट किया. मेरे ट्वीट से पाकिस्तान के ईशनिंद कानून का उल्लंघन हुआ, इसलिए आपकी सरकार ने मेरा ट्विटर अकाउंट ब्लॉक करवा दिया. क्या आप बता सकते हैं कि आपकी पाकिस्तानी सरकार कनाडा में मेरी पत्रकारिता की स्वतंत्रता क्यों रोक रही है? लेवेंट ने आगे कहा, आप कौन होते हो मुझे कनाडा में रोकने वाले? आप लोगों को अभिव्यक्ति की आजादी पंसद नहीं है.”

पाकिस्तानी पत्रकार ने वीडियो किया शेयर

पाकिस्तानी पत्रकार मुनीजे जहांगीर ने इस घटना का वीडियो शेयर किया है. वीडियो में लेवांत कार्यक्रम के आयोजकों से कहा कि उन्हें ऐसे 'ठग' को इनवाइट करने पर शर्मिंदा होना चाहिए, जो सेंसरशिप में आगे है और यहां फ्री स्पीच की बात करेंगे. लेवांत ने पाकिस्तान के विदेश मंत्री दोहरा मानदंड अपनाने का भी आरोप लगाया.





कुरैशी ने दी सफाई

वहीं, कुरैश ने अपनी सफाई में कहा कि मेरा यकीन कीजिए, मीडिया की आजादी पर रोक लगाने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता है. वह समय जा चुका है, जब मीडिया की सेंसरशिफ मुमकिन थी, सोशल मीडिया के दौर में आप कुछ भी बोल और लिख सकते हैं.

ये भी पढ़ें- अच्छी खबर! भारत में पिछले 10 साल में 27 करोड़ लोगों की गरीबी हुई दूर
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...