होम /न्यूज /दुनिया /EXCLUSIVE: कमर जावेद बाजवा के बाद कौन बनेगा पाकिस्तान सेना का प्रमुख? रेस में हैं ये 3 अधिकारी

EXCLUSIVE: कमर जावेद बाजवा के बाद कौन बनेगा पाकिस्तान सेना का प्रमुख? रेस में हैं ये 3 अधिकारी

World Story: पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा 5 हफ्तों में रिटायर हो जाएंगे. (फाइल फोटो-AFP)

World Story: पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा 5 हफ्तों में रिटायर हो जाएंगे. (फाइल फोटो-AFP)

Pakistan News:पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा जल्द रिटायर होने वाले हैं. उनका रिटायरमेंट 29 नवंबर को है. ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

5 हफ्तों में रिटायर हो जाएंगे पाकिस्तान सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा
रिटायरमेंट से पहले दिया क्षेत्रीय शांति और द्वि-पक्षीय विवाद सुलझाने पर जोर
कहा- आपस में लड़ने की बजाए मिलकर करें भुखमरी, गरीबी का मुकाबला

इस्लामाबाद. पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा 5 हफ्तों में रिटायर हो जाएंगे. उन्हें पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने साल 2016 में चीफ ऑफ आर्मी स्टाफ बनाया था. सूत्रों के मुताबिक, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री जल्द नए सेना प्रमुख के नाम की घोषणा कर सकते हैं. सेना प्रमुख की फहरिस्त में लेफ्टिनेंट जनरल अलीम मुनीर, लेफ्टिनेंट जनरल साहिर शमशेद और लेफ्टिनेंट जनरल नौमान हैं.

अपने रिटायरमेंट को लेकर जनरल कमर जावेद बाजवा ने कहा- मेरा रिटायरमेंट 29 नवंबर को है और मुझे इसमें बढ़ोतरी नहीं करानी. पाकिस्तान की सेना तटस्थ है. सेना देश के राजनीतिक मुद्दों में हस्तक्षेप नहीं करेगी. वह केवल देश की सेवा करेगी. 8 अक्टूबर को जनरल बाजवा ने राष्ट्रों के साथ द्विपक्षीय मुद्दे सुलझाने और क्षेत्रीय शांति की बात कही थी. उन्होंने खुद में बदलाव न करने पर विनाश झेलने की भी चेतावनी दी.

क्षेत्र में शांति और द्विपक्षीय विवाद सुलझाने पर जोर 
8 अक्टूबर को जनरल बाजवा ने राष्ट्रों के साथ द्विपक्षीय मुद्दे सुलझाने और क्षेत्रीय शांति की बात कही थी. उन्होंने खुद में बदलाव न करने पर विनाश झेलने की भी चेतावनी दी. काकुल स्थित प्रतिष्ठित पाकिस्तान मिलिट्री अकादमी में उन्होंने अपने अंतिम भाषण में कहा-विश्व बदल गया है, हमें भी बदलना होगा. बदलाव न करने का परिणाम विनाश होगा. 61 साल के पाकिस्तान सेना प्रमुख ने किसी देश का नाम लिए बगैर क्षेत्र में शांति और द्विपक्षीय विवाद सुलझाने पर जोर दिया.

मिलकर लड़ें भुखमरी और गरीबी से – बाजवा
बाजवा ने कहा- हमें द्विपक्षीय विवादों को बिना किसी संघर्ष के हल करने की नीति बनानी चाहिए और शांति को एक अवसर प्रदान करना चाहिए. जरूरी है कि आपसी झगड़े की जगह हम मिलकर भुखमरी, गरीबी, निरक्षरता, जनसंख्या वृद्धि, जलवायु परिवर्तन और बीमारियों से मुकाबला करें. हम यथा स्थिति में रहे तो ये हम सभी के लिए विनाशकारी होगा. सूत्रों के मुताबिक, अक्टूबर के पहले हफ्ते में जनरल बाजवा ने अमेरिका में अधिकारियों से कहा था कि अगर भारत सहमत हो तो उनका देश कश्मीर मुद्दे पर आगे बढ़ने को तैयार है.

Tags: Pakistan news, World news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें