• Home
  • »
  • News
  • »
  • world
  • »
  • पंजशीर में ड्रोन अटैक को पाकिस्तान ने किया खारिज, कहा- ये किसी की बदनीयती

पंजशीर में ड्रोन अटैक को पाकिस्तान ने किया खारिज, कहा- ये किसी की बदनीयती

पाकिस्तानी सेना 27 हेलीकॉप्टरों के साथ पंजशीर में तालिबान के हमले में सहायता कर रही थी.

पाकिस्तानी सेना 27 हेलीकॉप्टरों के साथ पंजशीर में तालिबान के हमले में सहायता कर रही थी.

तालिबान (Taliban) ने सोमवार को कहा कि उसने पंजशीर घाटी(Panjshir Valley) पर कब्जा कर लिया है. पिछले महीने अफगानिस्तान (Afghanistan) में हमला करने के बाद उनके नियंत्रण से बस यही प्रांत बचा हुआ था.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    इस्लामाबाद. पाकिस्तान (Pakistan) ने अफगानिस्तान (Afghanistan) की पंजशीर घाटी (Panjshir Valley) में तालिबान (Taliban)के हमले में मदद देने की खबरों को खारिज किया है. पाकिस्तान ने कहा ये बदनीयती से किया जा रहा दुष्प्रचार अभियान है.

    तालिबान ने सोमवार को कहा कि उसने पंजशीर घाटी पर कब्जा कर लिया है. पिछले महीने अफगानिस्तान में हमला करने के बाद उनके नियंत्रण से बस यही प्रांत बचा हुआ था.

    कुछ खबरों में सेंटकोम (अमेरिकी मध्य कमान) के एक सूत्र के हवाले से कहा गया है कि पाकिस्तानी सेना ड्रोन हमलों द्वारा और पाकिस्तानी विशेष बलों से भरे 27 हेलीकॉप्टरों के साथ पंजशीर में तालिबान के हमले में सहायता कर रही थी.

    अमेरिकी सेना के छोड़े गए प्लेन में अब झूला झूल रहे तालिबानी लड़ाके, देखें Video

    विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता आसिम इफ्तिखार ने गुरुवार रात जारी एक बयान में इन आरोपों को दुष्ट भावना से चलाए जा रहे दुष्प्रचार अभियान के हिस्से के रूप में सिरे से खारिज कर दिया.

    बयान में कहा गया, ‘ये दुर्भावनापूर्ण आरोप पाकिस्तान को बदनाम करने और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को गुमराह करने के हताश प्रयास का एक हिस्सा थे.’

    प्रवक्ता ने शांतिपूर्ण, स्थिर, संप्रभु एवं समृद्ध अफगानिस्तान के लिए पाकिस्तान की स्थायी प्रतिबद्धता को दोहराया.

    तालिबान छापेमारों ने अगस्त के मध्य में अफ़ग़ानिस्तान पर कब्ज़ा कर लिया और पश्चिमी देशों द्वारा समर्थित निर्वाचित नेतृत्व को हटा दिया.

    तालिबान को हटाने के लिए अमेरिकी सेना की अगुवाई में किए गए आक्रमण के लगभग 20 साल बाद छापामारों ने देश पर फिर से कब्जा कर लिया है.

    पंजशीर, एक दुर्गम पहाड़ी घाटी है जहां 1,50,000 से 2,00,000 लोग रहते हैं. यह 1980 के दशक में अफगानिस्तान के सोवियत कब्जे में होने और तालिबान के शासन की पिछली अवधि के दौरान, 1996 से 2001 के बीच प्रतिरोध का केंद्र था. (एजेंसी इनपुट)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज